यदि आपके पास कोई समाचार या फोटो है तथा आप भी किसी समस्या को शासन स्तर पर पंहुचाना चाहते हैं और किसी विषय पर लिखने के इच्छुक है,तो आपका स्वागत है ईमेल करे- writing.daswani@gmail.com, Mob No.-+919425070052

Thursday, September 30, 2010

लोकायुक्त ने छापा मारा करोड़ों रूपए के निर्माण कार्यों की जांच

सीहोर  लोकायुक्त ने छापा मारा करोड़ों रूपए के निर्माण कार्यों की जांच शुरू लोकायुक्त द्वारा बुधवार को लोक निर्माण विभाग में छापामार कार्रवाई की गई,जिससे विभाग में हड़कम्प का वातावरण बना हुआ है।

जानकारी अनुसार भाजश जिला अध्यक्ष श्याम चौरसिया द्वारा भोपाल नाका से जमोनिया तक बनाई गई सड़क में बरती गई लापरवाही और भष्ट्राचार की शिकायत की गई थी जिसके आधार पर बुधवार की शाम को लोकायुक्त की टीम ने छापा मार कार्रवाई करते हुए लोक निर्माण विभाग कार्यालय से आवश्यक कागजात जब्त कर जांच के लिए ग्राम जमोनिया सड़क निर्माण को भी देखने गए। कार्यपालन यंत्री एसके हनफी ने लोकायुक्त दल द्वारा जांच करने की पुष्टि करते हुए कहा है कि जांच में ही मामला उजागर होंगे।

हिन्दू- मुसलमान में कोई अंतर नहीं

 दंगा भी नहीं कर सका जुदा...


सीहोर.मंडी क्षेत्र में बेग परिवार और तिवारी परिवार सुख दुख का साथी बना हुआ है। इनका परिवार तीन पीढ़ियों से एक साथ रहकर उन ताकतो के लिए उदाहरण बना हुआ है जो इंसान को हिन्दू-मुसलमान में बांट रहे है। 70 वर्षीय जुबेदा बी और 65 वर्षीय श्रीमती वीणादेवी तिवारी गत 35 साल से एक दूसरे के सुख दुख के साथी बनी हुई है। उनके रिश्तों में सन् 1986 के दंगों ने भी दरार नहीं डाली। इनकी दोस्ती तो आज भी बरकरार है इनकी राह पर पहले जुबेदा बी के पुत्र अहमद बेग और अरशद तथा वीणा देवी के पुत्र शैलेष और मनीष तथा पोते हाशिम और काजिम तथा नयन और मंयक भी चल रहे है। तीन पीढ़ियों के इन रिश्तों की महक आज भी बरकरार है। अभी तक शहर की सैंकड़ों हिन्दू युवतियों को सिलाई सिखाकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने में अपना अहम योगदान दे चुकी जुबेदा बी का कहना है कि खुदा ने कभी हमे किसी से अलग होना नहीं सिखाया यह तो केवल चंद लोगों के ही कार्य है। श्रीमती वीणा देवी का कहना है कि हिन्दू- मुसलमान में कोई अंतर नहीं है।
तब भी साथ-साथ रहे...
वरिष्ठ व्यवसायी नारायणदास कुईया का कहना है कि सीहोर 1986 के दंगों की चपेट में आया जरूर था पर उस समय भी लोगों ने एकता के दामन को नहीं छोड़ा था जिसका नतीजा यह रहा कि 1992 में सीहोर में तनाव ही देखने को नहीं मिला यह सौहार्द आज भी बरकरार है और आगे भी रहेगा। गांधी रोड निवासी अब्दुल लतीफ मंसूरी का कहना है कि दंगा कराने वालों की जात नहीं होती हम तो तब भी साथ-साथ रह रहे थे और आज भी साथ-साथ रहकर कारोबार कर रहे है।

जिले की सीमाओं पर चौकसी

सीहोर.अयोध्या के मामले में आने वाले निर्णय को लेकर सारा दिन चर्चाओं को बाजार तो गर्म रहा पर सड़कों पर सन्नाटें जैसा वातावरण ही बना रहा। पुलिस की गश्त जारी बनी रही जबकि मार्ग में किसी प्रकार की बाधा न आए इसके लिए अतिक्रमण भी हटाया गया। बुधवार को शहर में दिन भर सभी वर्ग के लोगों में इस बात की चर्चा चलती रही कि गुरूवार को अदालत क्या फैसला देगी? और फैसले पर क्या प्रतिक्रिया रहेगी? इस तरह की चर्चाओं का बाजार तो गर्म रहा पर बाजार में ग्राहकी का माहौल एकदम ठंडा बना रहा। असामाजिक तत्वों की धरपकड़ के लिए पुलिस तत्परतापूर्वक कार्य को अंजाम दे रही है। जिले की सीमाओं पर चौकसी, वाहनों की सघन चैंकिग और रात्रि कालीन पुलिस गश्त बढ़ा दी गई है। वहीं शहर के प्रमुख संवेदनशील चौराहें और तिराहों पर पुलिस बल तैनात किया गया है। यहां पर सराय तिराहा, बद्री महल चौराहा, आनंद डेरी चौराहा, लाल मस्जिद चौराहा, भोपाली फाटक, तहसील चौराहा, पुराना बस स्टैंड चौराहा संवेदनशील चौराहे माने जाते है, इन सभी जगहों पर विशेष रूप से पुलिस बल तैनात किया गया है।
सात मोबाइल पार्टी
पुलिस प्रशासन द्वारा मंडी और कोतवाली की सात मोबाइल पार्टी बनाई गई है, गंज,कस्बा,रानी मोहल्ला, मछलीपुल सभी क्षेत्रों में भ्रमण कर पुलिस कंट्रोल रूम को जानकारी देगी। बुधवार को मुस्लिम बाहुल और हिन्दू बाहुल क्षेत्रों में एक जैसा वातावरण बना रहा सभी वर्ग के लोग अपने समुदाय के लोगों को संयम और शांति बरतने की सलाह दी जा रही थी।
विशेष पुलिस अधिकारी
जिले में कानून व्यवस्था के मद्देनजर कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी संदीप यादव ने 1086 कोटवारों और 179 अधिकारी कर्मचारियों को विशेष पुलिस अधिकारी बनाया है। इस सिलसिले में आदेश जारी कर दिए गए हैं। बताया जाता है कि पुलिस अधीक्षक की सूची में दर्शाए गए 1086 कोटवारों को 29 सितम्बर से 3 अक्टूबर तक विशेष पुलिस अधिकारी नियुक्त किया गया है, जो पुलिस अधीक्षक द्वारा बताए गए कर्तव्य स्थल पर तैनात रहेंगे।
अन्य विभाग को भी
इसी तारतम्य में वन विभाग के 106, कृषि उपज मंडी सीहोर के 63 और आबकारी विभाग के 10 अधिकारी कर्मचारियों को भी विशेष पुलिस अधिकारी नियुक्त किया गया है यह भी 3 अक्टूबर तक पुलिस अधीक्षक द्वारा बताए गए कर्तव्य स्थल पर तैनात रहेंगे।
यातायात व्यवस्था
रक्षित निरीक्षक यातायात प्रभारी अरविंद तिवारी ने बताया कि शहर की यातायात व्यवस्था अन्य दिनों की भांति सामान्य रूप से चलेगी तथा मार्ग में किसी प्रकार से रूकावट नहीं आए जिसके लिए अस्पताल मार्ग से लेकर गांधी रोड तक का यातायात नपा के सहयोग से दुरस्त करा दिया गया है। बुधवार को यहां लगे तम्बूओं को हटवाया गया ताकि मौका पड़ने पर किसी दिक्कत का सामना बल को न करना पड़े।
सीमाओं पर चौकसी
जिले की सीमाओं पर चौकसी बढ़ा दी गई है और नाकों की सघन चैकिंग की जा रही है। कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सीमाओं पर चौकसी के साथ ही रात्रि गश्त भी बढ़ाई गई है। श्यामपुर के जुड़ी राजगढ़ की सीमा पर विशेष चौकसी की जा रही है। पीलूखेड़ी के समीप नाके पर श्यामपुर पुलिस के जवान लगातार निगाहें रखे हुए है।
तलाशी ली जा रही
असामाजिक तत्वों के खिलाफ सख्ती से निपटने के लिए अपराधियों की गिरफ्तारी की जा रही है। मुसाफिरखानों, होटल, सराय, धर्मशालाओं सहित अन्य स्थानों की सघन चैकिंग कर अपराधियों के खिलाफ सख्ती बरती जा रही है।
अफवाहों से सावधान
कलेक्टर संदीप यादव ने जिले के नागरिकों से शांति और सदभाव का वातावरण बनाए रखने और प्रशासन को सहयोग करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि जिले में शांति और सदभाव बनाए रखने के लिए प्रशासन द्वारा सभी जरूरी इंतजाम किए गए हैं। कलेक्टर ने नागरिकों से कहा है कि वे अफवाहों पर ध्यान नहीं दें और इससे दूर रहें।
एसएमएस
चौबीस तारीख के पहले आ रहे तनाव फैलाने वाले एसएमएस आज लगभग बंद रहे पर अमन के एसएमएस लगातार आना जारी रहे लोगों द्वारा इन एसएमएस को काफी पसंद किया जा रहा था। लोगों द्वारा इन एसएमएस को एक दूसरे को भेजकर शांति का संदेश दिया जा रहा है।

देवी भक्ति के लिए गरबा की तैयारियां

आदि शक्ति जगदम्बा की अराधना के लिए युवक-युवतियों द्वारा गरबा की तैयारियां की जा रही हैं। इसके लिए विभिन्न स्थानो पर प्रशिक्षण शिविर भी आयोजित किए गए हैं, जिसमें युवक-युवतियों द्वारा उत्साह के साथ भाग लेकर लगातार अभ्यास किया जा रहा है। यहां विभिन्न स्थानों पर गरबा महोत्सव का आयोजन किया जाना है। इसके अलावा लगभग सभी प्रतिमा स्थापना स्थलों पर रोजाना गरबा होगा। इसके लिए युवक-युवतियों द्वारा विधिवत प्रशिक्षण प्राप्त किया जा रहा है। स्थानीय इंग्लिशपुरा क्षेत्र में सरगम गरबा दल गंज के लगभग दो दर्जन युवक-युवतियां रोजाना तीन घंटे से भी अधिक समय तक अभ्यास कर रहे हैं। गरबा के प्रसिद्ध गीतों पर युवक-युवतियों की टीम लगातार अभ्यास कर नई स्टेप सीख रहे हैं। इनके द्वारा विभिन्न गरबा प्रतियोगिताओं में भाग लिया जाकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया जाएगा। इस टीम द्वारा पंखिड़ा ओ पंखिड़ा उड़ के आना रे सहित अन्य एक दर्जन गीतों पर अभ्यास किया जा रहा है। इंग्लिशपुरा क्षेत्र के अलावा भोपाल नाका पर नृत्य प्रशिक्षिका पूजा राठौर द्वारा भी दो दर्जन से अधिक लोगों को गरबा नृत्य का प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। पूजा राठौर ने बताया कि हर बार की तरह इस बार भी गरबा को लेकर उत्साह का वातावरण बना हुआ है।

Wednesday, September 29, 2010

दो स्थानों पर छापा मारकर विस्फोटक गोदाम सील

सीहोर.अयोध्या प्रकरण को लेकर चल रही जांच पड़ताल में एक बड़ा खुलासा मंगलवार को पुलिस और प्रशासन की संयुक्त कार्रवाई में हुआ है। इस कार्रवाई में दो विस्फोटक सामग्री से भरे गोदामों को सील कर दिया गया है। इन्होंने क्षमता से अधिक माल का संग्रहण कर रखा था।  पुलिस और प्रशासन द्वारा बरती जा रही सर्तकता के चलते मंगलवार की शाम को अचानक की गई कार्रवाई में दो गोदामों को सील कर दिया गया है। इन पर आरोप है कि क्षमता से अधिक विस्फोटक सामग्री इनके द्वारा एकत्रित करके रखी गई थी। प्राप्त जानकारी अनुसार जिला कलेक्टर संदीप यादव के दिशा निर्देशन में मंगलवार को आष्टा के एसडीएम इच्छित गढ़पाले के नेतृत्व में तहसीलदार ओर अन्य अधिकारियों के टीम ने ग्राम वैजनाथ खामखेड़ा और ग्राम देवली में अचानक छापा मार कार्रवाई की। प्रशासनिक अमले के वहां अचानक पहुँचते ही हड़कम्प का वातावरण बन गया। बताया जाता है कि ग्राम बैजनाथ खामखेड़ा में स्थित बजरंग एक्सक्लोसिव और ग्राम देवली स्थित विकास एक्सक्लोसिव के गोदामों पर छापा मारकर इनकों सील कर दिया गया। बजरंग एक्सक्लोसिव का लायसेंस राजस्थान के प्रभुदयाल शर्मा और विकास एक्सक्लोसिव का लायसेंस चंदर सिंह के नाम पर है। बताया जाता है कि इन दौनों के लायसेंस पर यहां पर मेगजीन बनाने के अलावा अन्य विस्फोटक पदार्थ का निर्माण किया जाता है। एसडीएम इच्छित गढ़पाले ने बताया कि इन दोनों के यहां क्षमता से अधिक विस्फोटक सामग्री का भंडारण होने तथा यहां अन्य स्थानों पर परिवहन की संभावना की सूचना मिलने पर इन दोनों के गोदाम सील कर दिए गए है ताकि इसका गलत उपयोग नहीं हो सके। प्रशासन द्वारा की गई इस कार्रवाई से हड़कम्प का वातावरण मच गया है इस प्रकार के अन्य कारोबारियों में भी चिंता का वातावरण देखा जा रहा है। प्रशासनिक सूत्रों का कहना है कि आगे भी इसी तरह की कार्रवाई हो सकती है।

जांच में होगा दूध का दूध और पानी का पानी
ग्राम बैजनाथ खामखेड़ा और ग्राम देवली में की गई कार्रवाई के दौरान गोदाम तो सील कर दिए गए है पर प्रशासनिक अधिकारी यह बताने की स्थिति में नहीं थे कि इन दोनों लोगोंं के पास से कितना माल जब्त किया जाकर गोदाम सील किए गए है। इनको कितने माल के संग्रहण का लायसेंस दिया गया था और इनके गोदाम पर कितना माल अवैध पाया गया है। एसडीएम इच्छित गढ़पाले ने बताया कि इन सब बातों का खुलासा जांच के बाद ही हो सकेगा। फिलहाल सूचना के बाद एहतियात के तौर पर इनके गोदामों को सील करने की कार्रवाई की गई है। बताया जाता है कि छापा मार कार्रवाई के दौरान गोदाम मालिकों के कर्मचारियों ने भी इस बात को रखने का प्रयास किया गया है कि हमारे गोदाम में रखा सारा का सारा माल वैध है , जिस पर अधिकारियों ने कहा कि जांच में इसका खुलासा हो जाएगा। इस संदर्भ में अभी कोई प्रकरण पुलिस ने दर्ज नहीं किया है यह कार्रवाई जांच के बाद ही हो सकेगी।

हरी झंडी मिलने के पहले फ्लेग मार्च

 सीहोर.मंगलवार को हर आम और खास वर्ग के लोगों की निगाहें सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर टिकी हुई थी, कोर्ट की हरी झंडी मिलने के पहले पुलिस ने हर मार्ग पर फ्लेग मार्च को अराजक तत्वों को सावधान किया। चौबीस तारीख की चिंता में घुले लोगों को उस दिन से ही सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर निगाहें लगी हुई थी। उधर लोग कोर्ट की सुनवाई का इंतजार करते हुए फैसले पर होने जा रहे फैसले पर निगाहें जमाए हुए थे और इधर जिला कलेक्टर संदीप यादव और जिला पुलिस अधीक्षक दीपिका सूरी के दिशा निर्देशन में पूरे जिले पर निगाहें रखी जा रही थी। कोर्ट द्वारा हरी झंडी दिए जाने के ठीक पहले पुलिस की पूरी टीम ने फ्लेग मार्च कर उन लोगों को सावधान कर दिया जो शहर की फिजा खराब करने में अहम भूमिका का निर्वहन करते है। पुलिस के इस फ्लेग मार्च से आम और खास वर्ग के लोगों ने संतोष व्यक्त किया। उनका कहना था कि इस तरह के प्रयासों से असमाजिक तत्वों में लगातार खौफ का वातावरण बना रहता है। पिछले दिनों से लगातार की जा रही कार्रवाई से व्यवस्था में सुधार भी प्रतीत होता नजर आ रहा है। पुलिस द्वारा किया गया फ्लेग मार्च आज पूरे शहर में किया गया। कोतवाली से प्रारंभ यह फ्लेग मार्च आष्टा रोड से होता हुआ पहले सराय, गांधी रोड, जगदीश मंदिर चौराहा, बग्गीखाना, सिनेमा चौराहा, तहसील चौराहा, भोपाली फाटक, कस्बा आदि क्षेत्रों से होता हुआ स्थानीय इंग्लिशपुरा क्षेत्र, भोपाल नाका भी गया।लगभग दो घंटे से भी ज्यादा समय तक पुलिस ने पूरे शहर में भ्रमण कर असमाजिक तत्वों को सचेत किया। आज के फ्लेग मार्च के दौरान पुलिस जवान और अधिकारी पैदल भी चल रहे थे, इसके अलावा गाड़ियों का काफिला भी चल रहा था जिसमें व्रज और अन्य वाहन भी शामिल थे।
कम आए लोग
मंगलवार को सप्ताहिक हाट बाजार होने के बावजूद भी बाजार में लोगों की उपस्थिति कम रही। 24 तारीख जैसा वातावरण 28 तारीख को भी देखा गया। बाजार में सन्नाटे का वातावरण बना रहा। अस्पताल, शासकीय कार्यालयों तथा बसों व ट्रेनों में यात्रियों की भीड़ अन्य दिनों की तुलना में न के बराबर ही रही। सारा दिन इसी प्रकार की स्थिति देखी गई। हालांकि जिला मुख्यालय पर मंगलवार को शासकीय-अशासकीय शिक्षण संस्थाएं नियमित रूप से खुली और इसमें उपस्थिति भी सामान्य रही। देखना यह है कि आने वाले दिनों में क्या स्थिति निर्मित होती है और उसके क्या प्रभाव सामने आते हैं। बहरहाल, अब सभी की निगाहे 30 तारीख को आने वाले निर्णय पर लग गई हैं। वातावरण बन गया कि अब फैसला कब आएगा? इसकी जिज्ञासा भी कुछ ही देर बाद शांत हो गई, जब लखनऊ बैंच ने तीस तारीख को दोपहर 3.30 बजे फैसला दिए की जानकारी दी।


हर चौराहे पर मिलेंगे जवान

 सीहोर.अयोध्या मामले को देखते हुए पुलिस प्रशासन द्वारा पर्याप्त सावधानी बरती जा रही है। मंगलवार को इन्हीं सावधानियों के चलते जिला मुख्यालय के विभिन्न चौराहों पर पुलिस सहायता केन्द्र के हब स्थापित किए गए। इन दिनों पुलिस द्वारा सुरक्षा व्यवस्था के कड़े प्रबंध किए जाकर नए-नए प्रयोग किए जा रहे हैं। इसी तारतम्य में मंगलवार को पुलिस सहायता केन्द्र हब विभिन्न चौराहों पर लगाए गए। जिसमें पुलिस जवान तैनात रहेंगे। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुनील मेहता ने बताया कि अभी यह प्रयोग सीहोर में ही किया गया है। इसके बाद जिले के विभिन्न स्थानों पर इस प्रयोग को किया जा सकता है। बहरहाल, पुलिस का यह प्रयोग कितना कारगर साबित होता है। यह आने वाले दिनों में ही पता चल सकेगा। क्योंकि पूर्व में इस तरह के प्रयोग पूरी तरह से असफल ही साबित हुए हैं। इस तरह के केन्द्रों पर कभी जवान जनता को नहीं मिले है

मंदिर में शेर के मुख से होगा प्रवेश

सीहोर. इन दिनों जिला मुख्यालय पर देवी मंदिरों को नया रुप रंग प्रदान किए जाने का सिलसिला लगातार जारी बना हुआ है। शहर के आम और खास वर्ग द्वारा आदि शक्ति जगदम्बा की अराधना के लिए व्यापक स्तर पर तैयारियां की जा रही है। तैयारियों के इन्हीं क्रमों में विभिन्न मंदिरों को नया रूप प्रदान किया जा रहा है। मंदिरों में रंग-रोगन का कार्य अभी से शुरू हो गया है। स्थानीय शुगर फैक्ट्री चौराहा स्थित मां भवानी के मंदिर में इस बार भक्तजन शेर के मुख से निकलकर मंदिर में प्रवेश करेंगे। इसके लिए पिछले कई दिनों मंदिर समिति के सदस्य लगातार व्यवस्थाओं को अंजाम देने में जुटे हुए है, नवरात्रि तक यह विशेष द्वार बनकर तैयार होने की संभावना है।

विद्यार्थियों ने युवा उत्सव में दिखाई प्रतिभा

सीहोर.स्थानीय चंद्रशेखर आजाद स्नातकोत्तर महाविद्यालय में मंगलवार को जिला स्तरीय युवा उत्सव का शुभारंभ प्रख्यात साहित्यकार राजेश जोशी और प्रसिद्ध नृत्यांगना विजया शर्मा की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय प्राचार्य डा. जीडी सिंह ने की। मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलन से युवा उत्सव का शुभारंभ हुआ। समूह लोकनृत्य में चंद्रशेखर आजाद स्नातकोत्तर महाविद्यालय  के विद्यार्थियों द्वारा बुदेंलखंड के प्रसिद्ध गीत बधाई पर रंगारंग नृत्य प्रस्तुत किया गया। उनकी इस प्रस्तुति को सर्वाधिक सराहना मिली, जिसके लिए उन्हें प्रथम स्थान दिया गया। जबकि आष्टा महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं द्वारा प्रस्तुत किए गए भागड़ा नृत्य को द्वितीय स्थान दिया गया। इसी क्रम में प्रश्नमंच प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया, जिसमें डिग्री कालेज प्रथम, स्वामी विवेकानंद कालेज द्वितीय तथा आष्टा कालेज के छात्र-छात्राओं ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। कार्यक्रम का संचालन युवा उत्सव की प्रभारी डा. राजकुमारी शर्मा ने करते हुए सभी के प्रति आभार व्यक्त किया।

चौबीस घंटे के बाद शिशु का पोस्टमार्टम कराने के लिए शव को भोपाल भेजा गया है।


सीहोर सोमवार को बिलकिसगंज में एक नवजात शिशु का शव बरामद किया गया था। बताया जाता है कि पुलिस ने इस शव को पोस्टमार्टम कराने के लिए जिला मुख्यालय पर भेजा।  नियमानुसार पोस्टमार्टम के लिए वहां से भी डाक्टर आना अनिवार्य होता है, पर डाक्टर नहीं आए। जिस पर शव का पोस्टमार्टम सोमवार को नहीं हो सका। मंगलवार को डाक्टर जिला मुख्यालय पर आए, लेकिन यहां पर बच्चों के पोस्टमार्टम की सुविधा उपलब्ध न होने पर उसके शव को भोपाल भेज दिया गया। जहां पर चोबीस घंटे के बाद पोस्टमार्टम किया गया।

Tuesday, September 28, 2010

स्वर कोकिला लता दीदी का आज जन्म दिन है.

लता दीदी आज 81 वर्ष की हो गई है पर माँ सरस्वती की कृपा से आवाज़ का जादू 18 वर्ष जैसा बना हुआ है. आपकी आवाज़ पर एक पत्रकार ने सवाल किया कि लगता नहीं है कि आपकी उम्र 81 वर्ष की हो गयी  है  जिस पर दीदी ने कहा कि आप चाहे तो 8 के पहले भी 1 लगा सकते है.

कराना पड़ रही सफाई

टाउन हाल के हाल बेहाल, किराए पर लेने वालों को कराना पड़ता मैदान स्वयं ही साफ
सीहोर. टाउन हाल अपनी बदहाली पर आंसू बहाता नजर आ रहा है। सांस्कृतिक गतिविधियों के लिए बनाए गए इस भवन ने धीरे-धीरे वैवाहिक भवन को रूप ले लिया पर अब उसकी भी देखभाल नहीं हो रही है। आलम यह है कि पर्याप्त किराया दिए जाने के बाद भी लोगों को खुद ही सफाई कराने के लिए विवश होना पड़ रहा है। जिला मुख्यालय पर लोगों की मांग के बाद पूर्व विधायक शंकर लाल साबू और पूर्व नगर सुधार न्यास अध्यक्ष महेन्द्र सिंह सिसोदिया के अथक प्रत्यनों से टाउन हाल का निर्माण किया जाकर उसका नामाकरण रवीन्द्र संस्कृति भवन के रूप में किया गया था। इस भवन के निर्माण के समय यह कल्पना की गई थी कि यहां पर केवल सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा जिससे शहर के प्रतिभाओं को अपनी प्रतिभा दिखाने का पर्याप्त अवसर मिल सके पर ऐसा नहीं हो सका। नगरपालिका द्वारा पर्याप्त रख रखाव किया नहीं किया गया जिससे यह भवन अपनी बदहाली पर आंसू बहाने लगा। बाद में कुछ कार्य करवाकर इसकी चादरें बदलवाई गई जिससे भीतर पानी आने की समस्या का कुछ हद तक समाधान हो सका पर बाद में स्थिति ढाक के तीन पात की भांति शून्य जैसी हो गई है लोगों को आज भी परेशानी का सामना करने पर विवश होना पड़ रहा है। रवीन्द्र संस्कृति भवन में अब सांस्कृतिक कार्यक्रम गिनती के ही होते है शादियों के अवसर पर लोग उसे अभी भी बुक कराते है। खास तौर से उस समय जब शहर की अन्य धर्मशाला और वैवाहिक कार्यक्रम स्थल बुक रहते है। सामूहिक विवाह आयोजन के समय भी इसकी मांग बनी रहती है। मांग होने के बाद भी नगर पालिका द्वारा इस दिशा में पर्याप्त ध्यान नहीं दिया जाना आर्श्चय का विषय बना हुआ है। इसकी बदहाली और पालिका परिषद की लापरवाही का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जिस किसी को भी वैवाहिक आयोजन के लिए टाउन हाल की जरूरत होती है उसके द्वारा पालिका द्वारा निर्धारित राशि जमा कराने के बाद परिसर की साफ सफाई के लिए भी पर्याप्त मशक्कत करना पड़ती है। यहां पर मैदान के चारों तरफ इतनी अधिक गाजर घास उगी हुई है कि लोगों को को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। एक अक्टूबर से तीन अक्टूबर तक के लिए कस्बा निवासी एसएम खालिद ने अपने पुत्र मो. उबेज के निकाह कार्यक्रम के लिए टाउन हाल बुक किया है। यहां उगी हुई गाजर घास को साफ कराने के लिए उनके द्वारा मजदूर रखे गए। करीब छह दिन पहले से ही उनके द्वारा इस दिशा में कार्य प्रारंभ करा दिया गया है ताकि आयोजन दिनांक तक मैदान साफ हो सके। प्रभारी मुख्य नगर पालिका अधिकारी दीपक देवगढ़े का कहना है कि हम मैदान साफ करा कर नहीं देते है।

सोयाबीन की आवक से मंडी में आई चमक

सीहोर. सोमवार को कृषि उपज मंडी में सोयाबीन की आवक शुरू होने से चमक बढ़ गई है। पहले दिन ही करीब 11 हजार  क्विंटल  आवक रही। माना जा रहा है अब रोजाना आवक में बढ़ोत्तरी होगी। स्थानीय कृषि उपज मंडी में पिछले दिनों नए सोयाबीन की आवक का श्रीगणेश किया गया था पर सोयाबीन की वास्तविक आवक सोमवार से प्रारंभ हुई। यहां पर दोपहर डेढ़ बजे तक नीलाम प्रारंभ नहीं हो पाई थी उसके बाद दोपहर में शुरू हुई आवक से मंडी में रौनक बढ़ने लगी। शाम तक सोयाबीन की आवक करीब 11 हजार क्विंटल तक रही। जानकारी अनुसार सोमवार को माडल भाव 1850 रूपए प्रति क्विंटल रहा। जबकि अधिकतम भाव 1941 रहा और सबसे कम भाव 1650 रूपए रहा। कृषि मंडी के व्यापारियों का मानना है कि आने वाले दिनों में मंडी में सोयाबीन की आवक और बढ़ेगी जिससे बाजार में भी रौनक रहेगी।

सीहोर की झांकी भोपाल में प्रदर्शित होगी

सीहोर यहां पर बनने वाली आर्कषक झांकियां अब राजधानी में दुर्गा उत्सव महापर्व के दौरान अपनी चमक बिखेरेंगी। हर साल की भांति इस साल भी सीहोर की झांकियों को खरीदनें के लिए राजधानी से विभिन्न समितियों के पदाधिकारी आने लगे है। इनके द्वारा झांकी खरीदकर भोपाल ले जाई जा रही है। जिला मुख्यालय का अनंत चतुर्दशी चल समारोह के बाद यहां की झांकी को खरीदने के लिए भोपाल की विभिन्न समितियां आती है। श्री गणेश उत्सव के दौरान बनाई जाने वाली इन झांकियों को प्रदर्शन सीहोर में कराए जाने के  बाद राजधानी में दुर्गा उत्सव के दौरान इन्हें प्रदर्शित किए जाने की परम्परा रही है। इसी को देखते हुए अब अनंत चतुर्दशी पर झांकियां व्यवसायिक रूप से भी बनाई जाने लगी है जिसके कारण यहां के चल समारोह में भी जान आ गई है। पूर्व में तो एक समय ऐसा भी आया था जब यहां पर एक भी झांकी का निर्माण नहीं हुआ था तब आजाद मित्र मंडल द्वारा इस परम्परा को बरकरार रखा जाकर झांकी बनाई गई थी। जब से भोपाल की समितियां झांकी खरीदने लगी है तब से झांकियों का निर्माण भी अधिक होने लगा है पिछले दिनों यहां पर करीब 25 हजार से 40 हजार रूपए तक की झांकी को भोपाल से आए पदाधिकारियों द्वारा खरीदा गया है।

आग में दो लाख का माल खाक

सीहोर  बुदनी के  ग्राम जोशीपुरा में एक मकान में आग लग जाने से करीब दो लाख रूपए का माल जलकर स्वाहा हो गया। पुलिस ने मामला कायम कर जांच कार्य शुरू कर दिया है। पुलिस से मिली जानकारी अनुसार ग्राम जोशीपुरा निवासी धर्मेन्द्र आत्मज बैजनाथ यादव अपने घर पर से पूजन करके खेत पर चला गया वो दीपक जलता हुआ छोड़ गया पर पंखा बंद करके नहीं गया। दोपहर बारह बजे जब लाइट आई तो पंखे की हवा से उड़े पर्दे ने दीपक की लौ पकड़ ली जिससे पूरे घर मे आग फैल गई। बताया जाता है कि दोनों कमरों से धुआंं उड़ते देख आसपास के लोगों ने आग बुझाने के साथ-साथ बुदनी भी खबर दी यहां से गई फायर बिग्रेड ने और ग्रामीणों के प्रयासों से आग पर काबू पाया जा सका पर तब तक धर्मेन्द्र यादव का लगभग दो लाख रूपए का माल जलकर स्वाहा हो चुका था। पुलिस के अनुसार इस आग में आठ हजार रूपए नकद सहित कपड़े, पंखें, कूलर,खाद्य साम्रगी, डबल बेड, अलमारी आदि समान जलकर स्वाहा हो गया। पुलिस ने सूचना पर आगजनी का मामला कायम कर जांच कार्य शुरू कर दिया है.

नवजात मिलने बना सनसनी का वातावरण

सीहोर सोमवार की सुबह पूरे क्षेत्र में उस समय सनसनी का वातावरण बन गया जब नवजात शिशु का पड़ा मिला। सूचना पाकर पहुँची पुलिस ने अज्ञात महिला के खिलाफ मामला कायम कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस से मिली जानकारी अनुसार ग्राम बिलकीसगंज के सोनिया कालोनी के निकट सोमवार की सुबह जब लोगों ने एक कुत्ते को नवजात शिशु मुँह में दबाकर ले जाते देखा तो वहां सनसनी का वातावरण बन गया। लोगों ने कुत्ते को पत्थर मारे तो वो वहां पर बच्चा छोड़कर भाग गया। इस दौरान बड़ी संख्या में लोगों का समूह जमा हो गया। इस आशय की सूचना थाने में भी दी गई तब मौके पर पुलिस पहुँची और आगे की कार्रवाई प्रारंभ की। लोग भी तरह-तरह की चर्चा करते पाए गए। यह कृत्य किसने किया? को लेकर चर्चाओं का बाजार सरगर्म बन गया। ऐसा माना जा रहा है कि यह शिशु कुछ देर पहले की फेंका गया होगा, इसके बाद बिलकीसगंज पुलिस ने भादवि की धारा 318 के अर्न्तगत प्रकरण कायम कर जांच कार्य शुरू कर दिया है। ज्ञातव्य है कि इन दिनों सीहोर जिले में सार्वजनिक स्थानों पर नवजात शिशुओं के मिलने की घटनाओं में तेजी के साथ वृद्धि हो रही है। पहले जिला मुख्यालय पर दो बार, फिर आष्टा में एक शिशु मिला है इससे पहले भी इस तरह की घटनाएं हो चुकी है पर आष्टा को छोड़कर अन्य स्थानों पर माँ की पहचान नहीं हो सकी है।

लोग नहीं देखते तो पता चलना भी मुश्किल था...
सोमवार की सुबह का नजारा लोगों के दिलो दिमाग से ही नहीं हट पा रहा है। कुत्ता जिस प्रकार से नवजात के दोनों हाथों को अपना शिकार बना चुका था अगर थोड़ी देर नहीं देखा जाता तो उसका नामों निशान भी पता नहीं चल पाता। लोग इस दृश्य को देखकर भी हतप्रभ रह गए है। आज दिन भर लोगों में इस नवजात को लेकर ही चर्चाओं का दौर बना रहा। थाना प्रभारी एनएस पंचोली का कहना है कि मामले की जांच के दौरान यदि कोई तथ्य सामने आता है तो निश्चित रूप से कार्रवाई की जाएगी।

Monday, September 27, 2010

पेड़ के नीचे सड़क पर पढ़ रहे विद्यार्थी


 
दीवारों पर चल रहा है स्कूल चले अभियान का नारा, अभियान की पोल खोल रहे है कीचड़ किनारे चल रहे  विद्यालय
सीहोर सरकार का नारा हर बच्चा पढ़े हमारा इसे सार्थक करने के लिए स्कूल चलें अभियान चलाया जा रहा है पर हकीकत यह है कि यह नारा दीवारों पर ही सिमटा नजर आ रहा है जो विद्यार्थी स्कूल पहुँच रहे है वे पेड़ के नीचे सड़क पर पढ़ाई करने पर विवश हो रहे शहर के ऐतिहासिक श्री गणेश मंदिर की ओर जाने वाले लोग उस समय चौंक जाते है जब जगमाणेक साल्वेंट प्लांट के ठीक सामने खुले मैदान पर नन्हें मुन्ने विद्यार्थियों को ईमली के पेड़ के नीचे पढ़ते हुए नजर आते है। सारे शहर में स्कूल चलों अभियान के नारों से भरी दीवारों पर यह विद्यार्थी भारी पड़ते नजर आते है पर दुर्भाग्य का विषय यह है कि जिला मुख्यालय पर इस ओर ध्यान देने की जरूरत अभी किसी ने नहीं समझी है।
61 बच्चें पढ़ रहे
जिला मुख्यालय की इस ईजीसी प्राथमिक शाला में कक्षा पहली से लेकर पांचवीं तक के विद्यार्थी पढ़ रहे है पर इनके पास अपने कमरें नहीं है। जिन तीन कमरों में इनकी कक्षाएं लगती थी वह पहले से ही जीर्णशीर्ण  अवस्था को प्राप्त हो चुके थे और इन कमरों को खाली भी करा लिया गया उसके बाद से ही इनकी कक्षाएं खुले आकाश की छत के नीचे ईमली के पेड़ के नीचे लग रही है। यहां पर अध्ययन के कार्य का दायित्व श्रीमती भगवती राठौर और आशीष शर्मा के जिम्में है। उनका कहना है कि जिस दिन मौसम खुला रहता है उस दिन करीब पचास विद्यार्थियों की उपस्थिति हो जाती है। बारिश में रास्तें में कीचड़ हो जाने के कारण विद्यार्थियों की संख्या कम हो जाती है। स्कूल के लिए कोई भवन नहीं होने की जानकारी हमने समय-समय पर आला अधिकारियों को प्रदान की है।  जिला शिक्षा अधिकारी धर्मेन्द्र शर्मा ने बताया कि उनकी जानकारी में यह स्कूल है और इसके लिए शासन द्वारा भवन निर्माण की स्वीकृति प्रदान की जा चुकी है पर उसके लिए जमीन नहीं मिल पा रही है, जमीन मिलते ही स्कूल को नए भवन मे स्थानातंरित किया जाएगा।
वाहन आने पर खड़े होना पड़ता है....
पेड़ के नीचे पढ़ाई कर रहे विद्यार्थियों के लिए यह एक  समस्या ही नहीं है, पेड़ के नीचे मामूली बारिश मेें कीचड़ हो जाती है जिसके कारण उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ता है और सड़क पर पढ़ाई के दौरान जब भी कोई वाहन आ जाता है तो उन्हें खड़े होकर रास्ता देने पर विवश होना पड़ता है। इस प्रकार की स्थिति स्कूल टाइम में कई बार निर्मित होती है। विद्यार्थियों के अभिभावक भी इस समस्या से हैरान परेशान है। यहां यह हाल है तो ग्रामों में तो भगवान ही मालिक...
स्कूल अभियान का नारा सुनकर स्कूल जाने वाले विद्यार्थियों को खुले आकाश के नीचे पढ़ने पर विवश होना पड़े तो शायद इससे बड़ी दुर्भाग्य की स्थिति कोई दूसरी हो नहीं सकती वो भी जिला मुख्यालय के उस मार्ग पर जहां रोजाना सैंकड़ों लोगों को गणेश मंदिर आना जाना होता है। यह दृश्य देखकर लोगों के मुह से सहसा यह बात निकल पड़ती है कि जब जिला मुख्यालय पर यह हाल है तो ग्रामों की स्थिति का क्या होगा?

वीरो की पूजा हम नहीं करेगे तो

आज शहीद भगत सिंह का जन्म दिवस है
वीरो की पूजा हम नहीं करेगे तो
यह सच मानो की वीरता बाझ हो जाएगी
श्री क्रष्ण सरल

जेल में नहीं बची जगह

 सीहोर लगातार चल रही कार्रवाई के कारण अब जेल में भी जगह कम पड़ने लगी है। क्षमता से काफी अधिक असमाजिक तत्वों के आ जाने के कारण यहां पर व्यवस्था करना भी मुश्किल साबित होता नजर आ रहा है। अयोघ्या के फैसले को दृष्टिगत रखते हुए जिला एवं पुलिस प्रशासन द्वारा व्यवस्था को चाक-चौबंद बनाए रखने के लिए व्यापक प्रयास लगातार किए जा रहे हैं। पहले 24 तारीख को देखते हुए ताबड़-तोड़ में व्यवस्थाओं को अंजाम दिया गया था और अब 28 तारीख देखते हुए जिले भर में लगातार कार्रवाई का दौर जारी बना हुआ है। इन कार्रवाईयों के चलते जहां असमाजिक तत्वों में हड़कंप का वातावरण बना हुआ है। वहीं कई ऐसे लोग भी पुलिस कार्रवाई का शिकार होकर जेल की हवा खाने को मजबूर हो गए हंै। स्थिति इस प्रकार की निर्मित हो गई है कि उपजेल सीहोर में जगह ही नहीं बची है कि आरोपियों को रोका जाए सीहोर उपजेल में 95 बंदियों को रखने की क्षमता है, लेकिन रविवार की सुबह तक यहां पर क्षमता से दोगुने से भी ज्यादा बंदी निरूद्ध है। बताया जाता है कि 215 बंदी निरूद्ध है, जिसके कारण पूरी व्यवस्था गड़बड़ा गई है। जेल में पैर रखने की भी जगह नहीं बची है। बताया जाता है कि फिलहाल इन बंदियों को दो बड़े हालों में शिफ्ट करके जैसे तैसे काम चलाया जा रहा है, पर इस व्यवस्था को अंजाम देने में जेल प्रबंधन को काफी मशक्कत का सामना करना पड़ रहा है। उनके भोजन पानी से लेकर अन्य प्रबंधों में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन यहां पर अन्य कोई विकल्प उनके सामने उपलब्ध नहीं है। बताया जाता है कि दोगुने से भी अधिक बंदियों के आ जाने के कारण आ रही दिक्कतों को देखते हुए जेल प्रबंधन ने वायरलेस और पत्र के माध्यम से अधिकारियों को अवगत कराया है। जेलर विजय बुढ़ापे ने बताया कि हमने संबंधित न्यायालयों को जेल में हो रही दिक्कतों से अवगत करा दिया है। इसके चलते उन्होंने अब बंदियों को भोपाल भेजना शुरू कर दिए हैं। उनका कहना है कि इस तरह की अव्यवस्था का आलम लगभग सभी स्थानों पर लगातार जारी है। 
 कार्रवाई का क्रम लगातार जारी
जिला कलेक्टर संदीप यादव और जिला पुलिस अधीक्षक दीपिका सूरी के दिशा निर्देशन में सीहोर जिले की कानून व्यवस्था को सुचारू बनाने के लिए व्यापक प्रबंध किए जा रहे हैं। 24 तारीख के पहले से प्रारंभ की गई मुहिम इन पंक्तियो के लिखे जाने तक लगातार जारी बनी हुई है। जानकारी के अनुसार बीती रात कोतवाली पुलिस द्वारा 10 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है, जबकि मंडी पुलिस ने 39 लोगों के विरूद्ध प्रकरण बनाए हैं। इसी तारतम्य में दोराहा पुलिस ने 17 और बिलकिसगंज पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर उनके प्रकरण सक्षम न्यायालय को भेजे हैं। पुलिस के अनुसार कार्रवाई का यह सिलसिला लगातार जारी बना रहेगा।

गरबा की तैयारियों के लिए बनने लगे समूह

सीहोर शहर मे नवरात्रि महोत्सव श्रद्धा और भक्ति भरे माहौल में मनाया जाएगा। गरबे की धूम विभिन्न स्थानों पर मचेगी जिसमें भाग लेने के लिए युवक-युवतियों ने समूह बनाकर अपनी तैयारियां भी शुरू कर दी है। दुकानों पर गरबा ड्रेस की पूछताछ भी शुरू हो गई है। इस साल भी यहां पर नवरात्रि पर्व परम्परागत श्रद्धा और भक्ति भरे माहौल में मनाए जाने की जोरदार तैयारियां शुरू कर दी गई है। स्थानीय कोतवाली चौराहा श्रीदुर्गा उत्सव समिति द्वारा प्रारंभ की गई गरबा महोत्सव की परम्परा इस बार भी बरकरार रहेगी। शहर के विभिन्न स्थानों पर प्रतिमाओं की स्थापना की जाकर भव्य पंडाल बनाए जाएंगे। प्रतिमा स्थापना स्थलों पर भव्य गरबा महोत्सव के भी आयोजन किए जाएंगे, जिसमें शहर के बालक-बालिकाएं और युवक युवतियों द्वारा उत्साह पूर्वक भाग लिया जाएगा। गरबा महोत्सव के किसी सार्वजनिक कार्यक्रम की घोषणा अभी तक नहीं की गई है पर बालक बालिकाएं और युवक युवतियों ने अपने पसंद के समूह बनाकर तैयारियां प्रारंभ कर दी है। गरबा ड्रेस के लिए भी तैयारियां शुरू हो चुकी है। महिला सौन्दर्य प्रसाधन संचालिका नीतू मुकेश गुप्ता ने बताया कि गरबा ड्रेस  की पूछताछ में तेजी आई है कई लोग नई ड्रेस बनवा रहे है तो कई किराए की जानकारी प्राप्त कर रहे है।

लोक कल्याण के लिए बांटी जा रही नामावली


सीहोरा श्राद्ध पक्ष में भी लोग बड़ी संख्या में जिला मुख्यालय पर स्थित ऐतिहासिक श्री गणेश मंदिर में सैंकड़ों लोग आ रहे है। रविवार को भी भगवान श्रीगणेश का नयनाभिरामी श्रृंगार किया गया। यहां से लोक कल्याण के लिए द्वादश नामावली का भी वितरण बड़ी संख्या में किया जा रहा है। इस बार बारह दिवसीय मेले में लाखों लोगों ने ऐतिहासिक श्री गणेश मंदिर पहुँचकर दर्शन लाभ प्राप्त किए थे। सीहोर जिले से ही नहीं बल्कि भोपाल,रायसेन, विदिशा और अन्य कई जिलो से भक्त जनों ने आकर अपने मनोरथ सिद्ध करने के लिए भगवान श्री गणेश से प्रार्थना की। यहां पर ऐसी मान्यता है कि जो कोई भी श्रद्धालु भक्तजन सच्चे मन से भगवान श्री गणेश से प्रार्थना करता है उसकी मनोकामना वो अवश्य पूरी करते है। यही कारण है कि रोजाना यहां पर सैंकड़ों की संख्या में लोग आकर दर्शन लाभ प्राप्त करते है पर बुधवार और रविवार को बाहर से आने वालो ंभक्तों की संख्या काफी रहती है। श्राद्ध पक्ष के चलते रविवार को भी यहां पर कई दर्जन परिवारों ने सुबह से लेकर रात तक दर्शन लाभ प्राप्त किए। रविवार को मंदिर में आने वाले भक्तजनों को पंडित पृथ्वी बल्लभ दुबे और पंडित हेमन्त बल्लभ दुबे द्वारा लोक कल्याण के लिए द्वादश नामावली का वितरण किया। पंडित पृथ्वी बल्लभ दुबे और पंडित हेमन्त बल्लभ दुबे ने बताया कि किसी भी शुभ कार्य के प्रारंभ में तथा संकट मुक्ति के लिए यदि भक्तजन इसका जाप करता है तो उसके सारे कार्य सिद्ध होते हैं। उन्होंने बताया कि द्वादश नामावली से सुमुखाय नम:, एकदंत नम:, कपिलाय नम:, गजकर्णकाय नम:, लंबोदारय नम:, विकटाय नम:, विघ्नाशाय नम:, विनायकाय नम:, धुमक्रेतवे नम:, गणाध्यक्षाय नम:, भालचंद्राय नम:, गजाननाय नम: का वितरण लोक कल्याण के लिए किया जा रहा है। इसके नियमित जाप से भक्तजनों को सदैव संकट से मुक्ति मिलेगी। उनका कहना है कि यह जाप नियमित रूप से किए जाने पर मनुष्य के जीवन में काफी प्रभावशाली साबित होता है।रविवार को आए श्रद्धालुओं को इसका वितरण किया गया। श्रद्धाुओं के आने का सिलसिला देर रात तक निर्बाध गति से जारी रहा।

ठहरना थे बाराती और ठहर गई पुलिस

सीहोर अयोध्या प्रकरण में फैसले की तारीख ने शहर के आम और खास वर्ग के लोगों को परेशान कर दिया है। लोगों को ऐन वक्त पर शादी कार्यक्रमों में परिवर्तन करने के लिए भी विवश होना पड़ा है। जहां पर बारात ठहरना थी वहां पर पुलिस की व्यवस्था करने से शादी का कार्यक्रम दूसरे स्थान पर करने पर विवश होना पड़ा। ईद होने के बाद से ही मुस्लिम समाज में निकाह कार्यक्रमों की शुरूआत भी हो चुकी है। विभिन्न परिवारों द्वारा यहां पर आयोजन किए जा रहे है पर उनकी तैयारियों में अयोध्या प्रकरण के फैसले ने भी दिक्कते खड़ी कर दी है। प्राप्त जानकारी अनुसार छावनी निवासी कल्लू भाई और परूर भाई ने वैवाहिक आयोजन का कार्यक्रम स्थानीय टाउन हाल पर आयोजित किया था पर अचानक पुलिसबल के टाउन हाल में ठहरा दिए जाने के कारण उन्हें अपना कार्यक्रम स्थगित करने के लिए विवश होना पड़ा। कल्लू भाई ने बताया कि नपा द्वारा हमें सूचना भी नहीं दी गई जिससे हमें कार्यक्रम करने में दिक्कत आ रही है,अब हमने यह कार्यक्रम एमटीटी स्कूल के सामने 27 तारीख्र को आयोजित किया है जिसमें पुलिस ने सहयोग का वादा किया है।

दहेज प्रताड़ना का मामला नहीं निकला

सीहोर रविवार को परिवार परामर्श केन्द्र की बैठक में परिवारों के समझौते कराए गए। एक दिलचस्प मामला यह सामने आया कि विवाहिता के परिजनों द्वारा दहेज प्रताड़ना की शिकायत की गई थी, लेकिन सुनवाई के दौरान दहेज प्रताड़ना की कोई बात सामने नहीं आई। बल्कि विवाहिता के नाम पर ससुराल वालों द्वारा की गई एफडी भी बताई गई। रविवार को सीहोर निवासी रुकमणी और भोपाल निवासी रोहित के मामले में सुनवाई की गई। रुकमणी द्वारा आवेदन दिया गया था कि उसे दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाता है, लेकिन सुनवाई के दौरान इस तरह की कोई बात सामने नहीं आई। रुकमणी के दादा ससुर ने पांच लाख रुपए से अधिक की एफडी बतौर सुरक्षा के करवा रखी है। पति-पत्नी दोनों ने फिलहाल साथ रहने का संकल्प लिया है। इसके अलावा बिलकिसगंज की यास्मीन और भोपाल के शाहराज तथा वहिदगंज के लालमियां और मगसपुर की रिजवाना ने भी साथ रहने का निर्णय लिया है, दोनों के पति अलग मकान लेकर रहेंगे। गंज के राजू और बरेली की बसंती के बीच भी समझौता कराया गया। बैठक में नासिर मसूद, श्रीमती रीना मिश्रा, प्रेमलता राठौर, जगदीश निगोदिया, नरेन्द्र गोस्वामी, ओम सिंह बिजोलिया, ममता त्रिपाठी, रमा सोनी, कुसुम सरेआम, रूकमणी अग्रवाल, आरक्षक संतोष सोनी उपस्थित थे

युवक ने ससुराल में आकर आत्महत्या का प्रयास किया

सीहोर। ग्राम चरनाल में एक युवक ने अपनी ससुराल मेें आकर आत्म हत्या का प्रयास किया है। पुलिस ने प्रकरण कायम कर जांच कार्य शुरू कर दिया है। युवक को गंभीर अवस्था में भोपाल भर्ती कराया गया है। पुलिस से मिली जानकारी अनुसार भोपाल के भानपुरा क्षेत्र निवासी 27 वर्षीय सलीम आत्मज हमीद अली पिछले दस दिनों से अपनी ससुराल ग्राम चरनाल आकर रूका हुआ था। बताया जाता है उसकी पत्नी की अपनी ससुरालों वालो से चल रही अनबन के चलते वो यहां मायके में रह रही थी इन सभी बातों के तनाव के चलते उसने अपने ससुराल के पड़ोस के मकान में विगत दिवस पेट्रोल छिड़ककर आग लगा ली जिसे उसके ससुर ने बमुश्किल बचाया और इलाज के लिए अस्पताल ले गए जहां से उसे भोपाल रैफर किया गया है। पुलिस ने मामला कायम कर जांच कार्य शुरू कर दिया है। बताया जाता है कि भोपाल अस्पताल में अभी भी युवक की हालात गंभीर बनी हुई है।

चौथी शादी के सपने के बदले मिली मौत

साड़ी से ही गला दबा दिया हत्या का आरोपी जेल गया
 सीहोर । एक पैंतीस वर्षीय विवाहिता को चौथा विवाह करने का सपना उस समय मंहगा साबित हुआ जब चौथे प्रेमी ने उसकी निर्ममता पूर्वक हत्या कर दी। पुलिस ने इस कत्ल का पर्दाफाश करते हुए आरोपी सरपंच को गिरफ्तार कर उसे अदालत में पेश किया जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा के अर्न्तगत जेल भेजने के आदेश दिए गए है।
रेहटी के निकटवर्ती ग्राम नांदिया खेड़ी निवासी निर्भय सिंह यदुवंशी की 35 वर्षीय पत्नी पार्वती बाई का शव कलवाना नहर में झाड़ियों में संदिग्ध अवस्था में बरामद किया गया था। शव लगातार पानी में रहने के कारण फूल चुका था और उसके बारे में कुछ भी अंदाजा लगाना मुश्किल हो रहा था पर प्रथम दृष्टया ही यह मामला हत्या का प्रतीत हो रहा था। विवाहिता अपने घर से तीन पहले लापता था, शव की हालात खराब होने पर पोस्टमार्टम कराने के लिए भोपाल भेजा गया था। पार्वती बाई को निर्भय सिंह से तीसरा विवाह था वो इससे पहले अपने दो पतियों को छोड़ चुकी थी। पुलिस के अनुसार विवाहिता अपने तीसरे पति के बाद भी चौथे ग्रामीण से सम्बंध बना बैठी थी बताया जाता है कि ग्राम के सरपंच आशाराम यादव से उसका प्रेम परवान चढ़ रहा था ग्रामीणों और उसके पुत्र को जब इस बात का पता चला तो वो सरपंच के साथ लापता हो गई। पुलिस के अनुसार विवाहिता के पति की शिकायत पर गुमशुदगी का मामला कायम कर लिया गया था और संदेह के आधार पर सरपंच आशाराम की तलाश भी की जा रही थी तभी उसकी लाश संदिग्ध अवस्था में बरामद की गई और पुलिस के शक के सुई सरपंच पर घूम रही थी पुलिस ने पोस्टमार्टम रिर्पोट आने के बाद सरपंच को हिरासत में ले लिया जिस पर सरपंच ने पूरी कहानी सुना दी। थाना प्रभारी आरएन शर्मा ने बताया कि मृतिका सरपंच के साथ विवाह करना चाहती थी पर आरोपी उसके लिए तैयार नहीं था जिस पर उसने उसकी साड़ी से ही उसका गला दबाकर मार डाला। इस तरह पार्वती बाई के चौथे विवाह का अरमान रह गया। पुलिस के अनुसार इस प्रकरण में बदनामी और जेल से बचने के लिए सरपंच ने आत्म हत्या करने की भी कोशिश की पर उसे परिवारजनों की मदद से बचा लिया गया। सरपंच को भादवि की धारा 302 के अर्न्तगत प्रकरण कायम कर न्यायालय में प्रस्तुत किया गया जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा के अर्न्तगत जेल भेजने के आदेश दिए गए।

Sunday, September 26, 2010

नेत्रहीन फैला रहा प्रकाश

पकंज तिवारी
 
नेत्रहीन भी नहीं किसी से कम
सीहोर  मंजिल उन्हीं को मिलती है जिनके सपनों में जान होती है, पंखों से कुछ नहीं होता हौंसलों से उड़ान होती है किसी शायर ने यह बात शहर के पकंज तिवारी के लिए ही लिखी है, वो नेत्रहीन जरूर है पर अपने कार्यों से समाज को उजाला देने का भी प्रयास कर रहा है। 21 वर्षीय पकंज तिवारी आज खुद के कार्यों के भरोसे न अपने परिवारजनों के लिए बल्कि समाज के लोगों के लिए भी कई तरह के अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत कर रहा है। मजदूर रामनारायण तिवारी और श्रीमती कला बाई का पुत्र पकंज तिवारी वर्तमान में स्थानीय डिग्री कॉलेज से बीए कर रहा है। कक्षा एक से दसवीं तक उसने नेत्रहीनों की पढ़ाई की संस्था हैलन केलर इन्दौर से की है। जबकि कक्षा 12वीं की परीक्षा स्थानीय उत्कृष्ट स्कूल से 77 प्रतिशत अंकों के साथ उर्तीण की है।
कम्प्यूटर शिक्षा
कम्प्यूटर शिक्षा के लगातार महत्व बढ़ने के बाद भी लोगों का रूझान अभी इतना नहीं बढ़ पा रहा  है पर पकंज ने इसके महत्व को समझा है और कक्षा नवमीं भोज विश्वविद्यालय से सीसीए कोर्स जास के माध्यम से किया है। कक्षा 6 से उसने कम्प्यूटर आपरेटर करना शुरू कर दिया था।
सुनकर करता है याद
पकंज अपनी पढ़ाई को सीडी के माध्यम से पूरी कर रहा है उसको सीडी उपलब्ध कराने का कार्य अरूषि संस्था द्वारा किया जा रहा है। जिसको सुनकर पकंज द्वारा याद किया जाकर परीक्षा दी जाती है तथा  उसे लगातार सफलता मिल रही है। चार बहनों में अकेला पकंज ने अपनी जिदंगी में कभी हार नहीं मानी है। हमेशा लोगों के सामने उदाहरण बनकर कार्य करने वाला पकंज आज लोविजन लोगों की मदद करने में सक्रिय है। उसके द्वारा लोविजन लोगों को कम्प्यूटर सिखाया जा रहा है। उसका कहना है कि कम्प्यूटर आज की प्रमुख आवश्यकता है जिसका ज्ञान हर व्यक्ति को होना चाहिए।
मात्र 110 रूपए पेंशन
पकंज तिवारी को सामाजिक न्याय विभाग द्वारा हर माह एक सौ दस रूपए की पेंशन भी प्रदाय की जा रही है।
बनेगा वकील
पकंज तिवारी ने तमाम कठिनाईयों भरे सफर को तय करने के बाद भी कभी हार नहीं मानी है उसका कहना है कि वो बीए करने के बाद एलएलबी करना चाहता है। वकील बनकर वो विकलांग लोगों के हक की लडाÞई अदालत में लड़ना चाहता है ताकि उन्हें इंसाफ भी मिल सके। पकंज का कहना है कि वकील बनने का सपना भी एक दिन हकीकत में बदलेगा जिसके लिए वो दिन रात पढ़ाई भी कर रहा है।

देशभक्ति गान प्रतियोगिता में प्रथम

अर्पिता मुन्ग्रे को सम्मानित किया गया इंदौर में राज्य स्तरीय देशभक्ति गान  प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त किया है

खिलाडि़यों को विदाई दी

संभाग स्‍तरीय हैंडबाल प्रतियोगिता में जाने वाले खिलाडि़यों को एसडीओपी ने विदाई दी

सीवन नदी की पुन: सफाई

नगरपालिका द्वारा मूर्ति विसर्जन के पश्‍चात सीवन नदी की पुन: सफाई की गई

कार्यकर्ताओं ने रक्‍तदान किया

पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय की जयंति के अवसर पर भाजयुमो के कार्यकर्ताओं ने रक्‍तदान किया

साईबाबा मंदिर में सुंदर कांड

साईबाबा मंदिर में सुंदर कांड किया गया

Saturday, September 25, 2010

प्रदेश का सबसे कम उम्र का फादर चर्च में करा रहा प्रार्थना

क्रिसमस पर विशेष
सीहोर जिले के ऐतिहासिक आल सेंट चर्च
सीहोर आज के भौतिकवादी युग में जब युवा वर्ग मल्टीनेशनल कंपनियों की चकाचौंध की तरफ आकृष्ट होकर देश विदेश में नौकरियों की तलाश कर रहे हैं। ऐसे में मात्र 21 वर्ष की आयु में एक युवक ने फादर बनकर चर्च की व्यवस्था संभालने का गौरव हासिल किया है। मध्यप्रदेश के डायोसिस संस्था का सबसे कम उम्र का फादर इन दिनों सीहोर जिले के ऐतिहासिक आल सेंट चर्च की व्यवस्था संभालकर लोगों को प्रभु यीशु द्वारा बताए गए मार्ग पर चलने का संदेश दे रहा है।अलीराजपुर के ग्राम बड़ीसर्दी निवासी 21 युवक विवेक सलातिएल जिला मुख्यालय के जंगली अहाता क्षेत्र स्थित आल सेंट चर्च में रेव्ह की भूमिका का निर्वहन कर रहे हैं।
चर्च जाने पर चौंक जाते
आल सेंट चर्च पर पहुंचने वाले अन्य धर्मावलम्बी उस समय चौंक जाते हैं, जब उन्हें फादर के रूप में कार्य करते हुए एक 21 वर्ष का युवक दिखाई देता है। प्रार्थना से लेकर अन्य कार्यों को सुव्यवस्थित तरीके से कराने वाले रेव्ह विवेक सलातिएल यहां भी अपनी प्रतिभा से लोगों को चौंका देते हैं।
इंटरमीडियट के बाद
रेव्ह विवेक सलातिएल ने बताया कि इंटरमीडियट तक उन्होंने रतलाम में रहकर पढ़ाई की। इसके उपरांत अपनी इच्छा से उन्होंने रेव्ह के लिए तीन साल का कोर्स इलाहाबाद से पूरा किया। मध्यप्रदेश की डायोसिस संस्था के बिशप राईट रेव्ह एल मेढ़ा द्वारा उन्हें मार्गदर्शन प्रदान किया गया। यहां से सबसे पहले रसूलपुरा महू में चर्च की व्यवस्था की जबाबदारी सौंपी गई। इसके बाद राजधानी भोपाल के बैथलहम चर्च की जबाबदारी का निर्वहन भी तीन माह तक किया। तीसरी पोस्टिंग के रूप में सीहोर आल सेंट चर्च की जवाबदारी सौंपी गई है। जिसका निर्वहन वह विगत जून से बखूबी कर रहे हैं।
पिता के पदचिन्हों पर
रेव्ह विवेक सलातिएल ने बताया कि उनके पिता विन्धयाचल सतपुड़ा में चर्च में फादर थे। उनकी इच्छा थी कि मैं भी इस परम्परा को आगे बरकरार रखूं। मेरी स्वयं की भी यही इच्छा थी कि बड़ा होकर धर्म और मानव की सेवा में अपना जीवन व्यतीत करूं। इसी सोच को लेकर पढ़ाई पूरी होने के बाद मैनें तीन साल का बीडी डिप्लोमा किया और चर्च की व्यवस्था का दायित्व प्राप्त किया। उन्होंने बताया कि आगे की पढ़ाई वह पत्राचार के माध्यम से बिलासपुर से एमडीआईवी की डिग्री प्राप्त करने के लिए कर रहे हैं। इस डिग्री को प्राप्त करने के बाद वह संस्था से अन्य डिग्रियां प्राप्त करने के लिए भी लगातार अध्ययन जारी रखेगे, जिससे उन्हें अधिक से अधिक ज्ञानार्जन हो सके और उसका सद् उपयोग समाज हित में हो सके।
इच्छा तो पूरी हुई पर ...
विवेक सलातिएल अपने परिवार के ऐसे चौथे व्यक्ति हैं, जिन्होंने चर्च की व्यवस्था फादर के रूप में संभाली है। उनके पिता सतातिएल ऐजरा के अलावा परदादा तथा चाचा भी चर्च की व्यवस्थाओं का निर्वहन सफलता पूर्वक कर चुके हैं। विवेक सिलातिएल ने बताया कि पिता के साथ-साथ उसकी भी इच्छा थी कि वह चर्च की व्यवस्था संभाल कर समाज की सेवा करे, लेकिन जिस समय उन्हें चर्च की सेवाओं का दायित्व मिला उस समय उनके पिता सतातिएल ऐजरा को प्रभु यीशु ने अपने पास बुला लिया। वह आज चर्च की व्यवस्था संभाल प्रसन्नचित हैं। विवेक सिलातिएल का विवाह इसी साल 28 मई को ग्राम आमकुंड निवासी युवती के साथ हुआ है। समाज के सक्रिय सदस्य इंग्लिश लेक्चरार आरके जाफरी ने बताया कि युवाओं द्वारा धर्म की व्यवस्था संभालना भविष्य की दृष्टि से अच्छा संकेत हैं। इससे युवाओं को प्रेरणा मिल रही है।

ग्रामीण क्षेत्रों में मिली 24 घंटे बिजली

सीहोर एक वर्ष से भी अधिक समय बीत जाने के बाद ग्रामीणक्षेत्रों में लगातार चौबीस घंटे विद्युत प्रदाय किया गया। लगातार बिजली मिलने पर ग्रामीण क्षेत्र के लोगों में प्रसन्नता का माहौल देखा गया। अयोध्या के फैसले को लेकर जहां जिला एवं पुलिस प्रशासन के माथे पर चिंता की लकीरें देखी गई। वहीं शहर के आम और खास लोग भी चिंतित नजर आ रहे थे। हालांकि सभी वर्गों के लोगों द्वारा संयम बरतने की अपील की जा रही थी। जिसके कारण सौहार्द का माहौल नजर आ रहा था, ग्रामीण क्षेत्रों में भी अमूमन इसी प्रकार की स्थिति बनी हुई थी। चिंता के माहौल के चलते ग्रामीण क्षेत्र के लोगों के आश्चर्य का उस समय ठिकाना नहीं रहा, जब उन्हें दो दिन तक लगातार चौबीस घंटे विद्युत प्रदाय किया गया। बिजली विभाग की इस मेहरबानी पर यह लोग हैरान थे। बिजली विभाग के अधिकारियों ने नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर बताया कि ऊपर से मिले दिशा निर्देशों के अनुसार चौबीस घंटे ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत प्रदाय किया। ताकि किसी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़े। लंबे अर्से से बिजली की समस्या से जूझ रहे ग्रामीणों के लिए यह दो दिन काफी सुकून भरे रहे।

निर्णय टलने की सूचना पर शुरू हो गई कटौती ...

बिजली विभाग की मेहरबानी से आश्चर्यचकित ग्रामीणों को बिजली लगातार प्रदाय करने का कारण उस समय समझ में आया, जब अयोध्या के फैसले को गुरूवार की दोपहर एक सप्ताह तक टाले जाने की घोषणा की गई। इस घोषणा के होते हुए ही ग्रामीणों क्षेत्रों का विद्युत प्रदाय बंद कर दिया गया। जिस प्रकार से पूर्व में बिजली कटौती का क्रम चल रहा था, उसी प्रकार यह क्रम एक बार फिर शुरू हो गया है। बिजली विभाग के कार्यपालन यंत्री एके श्रीवास्तव ने इस बात को स्वीकार किया है कि बिजली होने के कारण प्रदाय लगातार किया जा रहा था।

बाजार में पसरा सन्नाटा

 सीहोर शुक्रवार को शहर में सन्नाटे का माहौल नजर आया। दिनभर व्यापारी ग्राहकों के प्रतीक्षा करते देखे गए। हालांकि बाजार में पिछले तीन दिनों से लोगों का आना कम हो गया था, पर शुक्रवार को एकदम सन्नाटा पसरा हुआ नजर आया। 24 तारीख को आने वाले फैसले को टलने की खबर एक दिन पहले आ जाने के बाद भी बाजार में उसका असर दिखाई नहीं दिया। जिस प्रकार की उम्मीदें लोगों द्वारा व्यक्त की जा रही थीं। ठीक उसी प्रकार का वातावरण शुक्रवार को नजर आया। बाजार में पूरे दिन सन्नाटा का वातावरण दिखाई दिया। शहर के मुख्य बाजार गांधी रोड सहित मेन रोड, सराफा तथा अन्य क्षेत्रों में सामान्य से भी कम चहल-पहल रही। ग्रामीण क्षेत्रों से लोगों का आना बिल्कुल नहीं होने से दिनभर यही आलम बना रहा। व्यापारी वर्ग ग्राहकों की प्रतीक्षा करते हुए देखा गया। हालांकि श्राद्ध पक्ष में ग्राहकी का माहौल अन्य दिनों की तुलना में कम हो जाता है, लेकिन बाजार में चहल-पहल बनी रहती है। 24 तारीख को देखते हुए बाजार में तीन दिन पहले से खासतौर से किराना दुकानों पर ग्राहकी का माहौल बना हुआ था। आटा-चक्कियों पर भी गेंहू पिसवाने के लिए लोगों को इंतजार करना पड़ रहा था। आलम यह था कि 23 तारीख के सुबह तक शहर की कई आटा चक्कियां चलती रहीं। फैसला टलने की सूचना आ जाने के बाद ऐसा महसूस किया जा रहा था कि शुक्रवार को बाजार में सामान्य दिनों के भांति काम काज होगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। व्यापारियों का मानना है कि इसी प्रकार की स्थिति 29 सितम्बर तक बनी रह सकती है, क्योंकि ग्रामीण क्षेत्र के लोग शहर आने जाने में किसी प्रकार का जोखिम मोल नहीं लेना चाहते हैं।
नहीं मिली सवारियां
बाजार में सन्नाटे के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों की ओर से आने जाने वाली बसों को सवारियां नहीं मिली। जानकारी के अनुसार ग्राम नांदनी से शहर आने वाली बस में रोजाना पैर रखने की भी जगह नहीं मिलती है, लेकिन शुक्रवार को इस बस में 80 की जगह केवल 18 यात्री ही सीहोर के लिए सवार हुए। रास्ते में पड़ने वाले सभी ग्रामों से बस को यात्री नहीं मिले। इसके अलावा अन्य ग्रामीण क्षेत्रों से आने जाने वाली बसों और जीपों में भी यात्रियों का अभाव देखा गया। सीहोर-भोपाल चलने वाले वाहनों में भी यात्रियों का टोटा देखा गया। ट्रेनों में भी शुक्रवार को यात्रियों की भीड़ नजर नहीं आई। लोग जरूरी काम से ही यात्रा कर रहे थे। पहले 24 तारीख को लेकर रिर्जवेशन स्थगित हुए, अब लोग आगे की तारीखों के भी रिर्जवेशन कैंसिल कराते हुए नजर आ रहे हैं।

साँझा माई का पूजन

साँझा माई का पूजन किया जा राह है

साईं बाबा मंदिर में आरती

साईं बाबा मंदिर में आरती

बदमाश पुलिस की कार्रवाई के चलते भूमिगत

सीहोर पुलिस की कार्रवाई जारी अयोध्या मामले में फैसला टल जाने के बाद भी पुलिस द्वारा कार्रवाई लगातार जारी है। प्रशासन द्वारा व्यवस्था को चाकचौबंद रखने में कोई कोर कसर बाकी नहीं रखी जा रही है। फैसला टल जाने के बाद पुलिस की कवायद और बढ़ गई है। शुक्रवार को पुलिस का असामाजिक तत्वों के विरूद्ध चलाया जा रहा विशेष अभियान लगातार जारी रहा। कोतवाली पुलिस ने धारा 151 में 3, 110 में 2, 109 में 2 तथा 107,16 के अंतर्गत बीस लोगों पर कार्रवाई की। इसी तारतम्य में मंडी पुलिस ने धारा 107,16 में 36, 110 में 4 तथा 151 में एक आरोपी के खिलाफ कार्रवाई कर एसडीएम के समक्ष प्रस्तुत किए हैं।
पुलिस द्वारा चलाए जा रहे इस विशेष अभियान के अंर्तगत ग्रामीण क्षेत्रों में भी असमाजिक तत्वों में हड़कंप का वातावरण बना हुआ है। जानकारी के अनुसार श्यामपुर में 6, दोराहा में 29, बुदनी में 3 लोगों के खिलाफ पुलिस द्वारा कार्रवाई की गई है। इसी प्रकार की कार्रवाई अन्य थाना क्षेत्रों में भी जारी है। असमाजिक कार्यों में लिप्त लोगों में इस समय हड़कंप की स्थिति देखी जा रही है। कई सारे बदमाश पुलिस की कार्रवाई के चलते भूमिगत हो गए हैं।

नवरात्रि पर्व धूमधाम के साथ मनाने का निर्णय

भगवान श्रीगणेश की प्रतिमाओं के विर्सजन के साथ ही भक्तजन आदि शक्ति जगदम्बा की अराधना की तैयारियों में जुटे हुए नजर आने लगे हैं। जिला मुख्यालय पर नवरात्रि पर्व धूमधाम के साथ मनाए जाने की गौरवशाली परम्परा रही है। जिसका पालन इस साल भी किया जाएगा। ह दिन तक अराधना करने के बाद भक्तजन अब आदि शक्ति मां जगदम्बा की अराधना की तैयारी कर रहे हैं।
स्थानीय गंज क्षेत्र और सिनेमा चौराहे के समीप स्थित मूर्तिकार मां भवानी की छोटी व बड़ी प्रतिमाओं को अंतिम रूप प्रदान करने में जुटे हुए दिखाई दे रहे हैं। धूप तेज खिलने के कारण यह लोग प्रतिमाओं को बाहर रखकर सूखा रहे हैं। तेज धूप में सूखने के बाद प्रतिमाओं में रंग और भी रौनक बिखेरने लगता है। मूर्तिकारों के अनुसार शीघ्र ही इन्हें रंगने का कार्य शुरू किया जाएगा। विभिन्न दुर्गोत्सव समितियों के गठन की प्रक्रिया भी प्रारंभ हो गई है। संस्थाओं द्वारा पदाधिकारियों का मनोनयन किया जाकर दायित्वों का विभाजन किया जा रहा है। समितियों के अलावा शहर के विभिन्न देवी मंदिरों से जुड़े पदाधिकारी भी मंदिरों पर विभिन्न आयोजनों की रुपरेखा तय कर नवरात्रि पर्व उत्साह और उमंग से मनाने का निर्णय ले रहे हैं। बाहर से आएंगेनवरात्रि महापर्व पर शहर में कई पंडालों को बनाने के लिए कलाकार बाहर से आएंगे और आकर्षक मंडप का निर्माण करेंगे। इसके अलावा कई स्थानो ंपर प्रतिमाएं भी भोपाल और होशंगाबाद से बुलवाई जाएंगी। शहर में कई सार्वजनिक स्थानों पर मां शेरावाली और कई स्थानो पर मां काली की प्रतिमा स्थापित की जाएंगी। सभी पंडालों और चौराहों, तिराहों पर आकर्षक विद्युत साज-सज्जा की जाएगी।

समिति ने किया स्वागत


हिन्दू उत्सव समिति ने किया स्वागत

नगर पालिका ने किया स्वागत

Friday, September 24, 2010

सराफा बाजार में सुरक्षा का चक्रव्यूह

सीहोर जिला मुख्यालय पर सराफा बाजार में सुरक्षा का चक्रव्यूह व्यापारियों द्वारा ही तैयार कर दिया गया है। जिले में यह पहला प्रयोग व्यापारियों द्वारा स्वेच्छा से किया गया है। उल्लेखनीय है कि सराफा बाजार में स्थित श्री हरि ज्वेलर्स से बीस लाख रुपए से अधिक की चोरी का मामला अभी भी सरगर्म बना हुआ है। पुलिस आरोपियों तक नहीं पहुंच पाई है। जबकि गुना के एक व्यापारी का नाम स्पष्ट रूप से पकड़ाए गए चोर ने कोतवाली पुलिस को बता दिया था। पुलिस द्वारा आरोपी तक नहीं पहुंच पाने के बाद से ही शहर के सराफा व्यवसायी स्वयं के कारोबार को असुरक्षित मान कर चल रहे हैं। बीच में कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा तेज गति से वाहन चलाकर दहशत का माहौल बना दिया गया था। अब 24 तारीख के फैसले को देखते हुए यहां के व्यापारियों ने अपने निजी धन से सुरक्षा का चक्रव्यूह तैयार किया है। जिसके अंतर्गत लगभग 70 हजार रुपए से अधिक की लागत के आठ सीसी टीवी कैमरे लगाए गए हैं। यह कैमरे ऊंचे भवनों पर लगाए गए हैं। जिससे मेन रोड से चरखा लाइन, नमक चौराहे से चरखा लाइन, गांधी रोड से चरखा लाइन तथा बड़ा बाजार से चरखा लाइन तक आने-जाने वाले सभी मार्ग कव्हर होंगे। यहां से निकलने वाले हर व्यक्ति पर इन कैमरों की छुपी हुई निगाहें रहेंगी। सराफा व्यापारी एसोसिएश्न के अध्यक्ष सतीश सोनी, महासचिव राजेन्द्र जैन, कोषाध्यक्ष राजीव सोनी ने बताया कि इसकी जरूरत लंबे समय से महसूस की जा रही थी, सभी व्यापारियों की इच्छा के चलते इस कार्य को अंजाम दिया गया है। पुलिस ने भी इस कार्य में सहयोग का विश्वास दिलाया है। पदाधिकारियों ने बताया कि किसी भी घटना के समय ही इन कैमरों को देखा जाएगा। बुधवार की रात से सीसी टीवी कैमरे लगाए जाने का कार्य शुरू हुआ जो गुरूवार की सुबह तक निर्बाध गति से जारी रहा। सराफा व्यापारियों द्वारा उठाए गए इस कदम की अन्य व्यापारियों द्वारा भी प्रशंसा की गई है। ऐसा माना जा रहा है कि अन्य व्यापारी संगठन भी यह कदम उठाएंगे।

24 तारीख के 24 घंटे पहले शहर में जिज्ञासा का माहौल

सीहोर 24 तारीख के 24 घंटे पहले शहर में चल रहे जिज्ञासा भरे माहौल में अयोध्या फैसला अगले आठ दिन के लिए टल जाने पर न केवल पुलिस जिला प्रशासन बल्कि आम जनता ने भी राहत की सांस ली। जिला मुख्यालय पर 24 सितम्बर को लेकर पिछले चार दिनों से जिज्ञासा भरा माहौल देखा जा रहा था। पुलिस और प्रशासन द्वारा एतिहायत के तौर पर व्यापक सुरक्षा के प्रबंध किए गए थे। वहीं सभी वर्गों के लोगों द्वारा शांति, सद्भाव के साथ रहने की अपील लगातार की जा रही थी। बुधवार और गुरूवार की दोपहर तक यह माहौल लगातार बना रहा। शुक्रवार को आने वाले निर्णय को लेकर अटकलों का दौर चल रहा था। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार पिछले 24 घंटे में पुलिस प्रशासन द्वारा उठाए गए एतिहायत के कदमों के दौरान 3 स्थायी, 83 वारंटी तथा 30 आदतन अपराधियों के विरूद्ध कार्रवाई की गई। कई ऐसे लोग भी पुलिस की चपेट में आए, जो जुआ खेल रहे थे। सभी के विरूद्ध 107, 16 की कार्रवाई की गई। जिला प्रशासन द्वारा पूरे जिले में अगले आदेश तक धारा 144 लागू कर दी गई है। इस दौरान समूह बनाकर सार्वजनिक स्थानों पर खड़े रहने वाले लोगों के विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी। साथ ही किसी प्रकार के सशस्त्र लेकर धूमने पर भी पाबंदी रहेगी। फैसले को देखते हुए जिला मुख्यालय पर आरएफ के 120 जवान, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक स्तर के दौर अधिकारी, एसएएफ के जवानों की बटालियन भी विशेष रूप से बुलाई गई है। पुलिस अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार इस फोर्स को अगले एक सप्ताह तक यहीं रोके जाने का आग्रह मुख्यालय के अधिकारियों से किया जा रहा है। विभिन्न चौराहों पर पुलिस बल आज दिनभर तैनात रहा। पुलिस शांति-सद्भाव के लिए विभिन्न समुदाय के लोगों से चर्चारत रही।

घरों के मीटर बदलवाने का कार्य

सीहोर कंपनी द्वारा खराब घोषित किए गए ढाई हजार से अधिक मीटर बदले जा रहे हैं बिजली विभाग द्वारा इन दिनों लगभग ढाई हजार घरों के मीटर बदलवाने का कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। कंपनी द्वारा खराब घोषित किए जाने पर इन मीटरों को बदला जा रहा है। इस कार्य को अगले एक सप्ताह तक पूरा किए जाने की संभावना व्यक्त की है। जिला मुख्यालय पर लोग खराब मीटरों की शिकायत को लेकर हैरान परेशान नजर आते हैं। बिजली विभाग द्वारा अचानक लगभग ढाई हजार उपभोक्ताओं के मीटरों को बदले जाने का कार्य शुरू कर दिया है। आश्चर्यजनक पहलू यह है कि जिन उपभोक्ताओं के यहां यह मीटर बदले जा रहे हैं। वहां पर उपभोक्ताओं को किसी प्रकार की शिकायत अपने मीटरों से नहीं है। यही कारण है कि विभाग के कर्मचारियों को परेशानी का भी सामना करना पड़ा रहा है। बताया जाता है कि नकोड़ा कंपनी के लगभग ढाई हजार मीटर स्वयं कंपनी ने ही खराब घोषित किए हैं। उनके स्थानों पर नए मीटर बदले जा रहे हैं। अब अलग-अलग कंपनियों के मीटर लगाए जा रहे हैं। बिजली विभाग के जूनियर इंजीनियर संजय जोशी ने बताया कि नकोड़ा कंपनी द्वारा विभाग को एक सीरिज में खराबी आने की जानकारी दी गई है। इस सीरिज के मीटर में कोई तकनीकी खराबी विभाग के लैब में पाई गई है। इसी के चलते यह परिवर्तन चल रहा है। उन्होंने बताया कि सीहोर शहर में लगभग ढाई हजार मीटर नकोड़ा कंपनी के इस सीरिज के लगे हुए हैं। जिन्हें अगले एक हफ्ते तक बदल दिया जाएगा। बहरहाल विभाग द्वारा अपनी मर्जी से तो मीटर बदले जा रहे है , लेकिन जिन उपभोक्ताओं द्वारा लगातार शिकायत की जा रही है, उनके मीटरों में किसी प्रकार का बदलाव नहीं किया जा रहा है। जिस पर उपभोक्ताओं में नाराजी का माहौल देखा जा रहा है। पिछले दिनों शिकायत प्रकोष्ठ के अधिकारियों के समक्ष इसी प्रकार की शिकायतें आई थीं।

खली के लिए ट्रायल

सीहोर खली बनने का सपना सच करने के लिए जिला मुख्यालय से एक युवा इन्दौर में हो रहे आडीशन में भाग लेकर अपनी प्रतिभा का परिचय देगा। अदालत कर्मी एचसी गुप्ता का पुत्र अंकित अपने वजन और लंबाई के कारण मित्रों में जूनियर खली के रूप में पहचाना जाता है और उसका सपना भी खली बनने का है। बताया जाता है कि प्रदेश से दस खली का चयन किया जाना है जिसके लिए भोपाल में पहला पड़ाव पार करने के बाद उसका चयन इन्दौर मेें होने जा रहे आॅडीशन के लिए किया गया है। उसकी इस उपलब्धि पर उसके कोच चन्द्रशेखर शर्मा, डीईओ धर्मेन्द्र शर्मा, अत्ता उल्लाखान, बाबू खान, सुरेन्द्र कुशवाह, शैलेन्द्र सिंह चंदेल द्वारा बधाई दी गई है।

कांग्रेस राजनीति में पुतला दहन से उफान

सीहोर जिला कांग्रेस की शांत पड़ी हुई गतिविधियों में वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजीज कुरैशी का पुतला दहन कर दिए जाने के बाद से उफान आ गया है। अब कांग्रेस के एक गुट ने पुतला दहन कार्यक्रम की निंदा की है। ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती उत्तरा धीमान व पूर्व निर्यात निगम अध्यक्ष प्रमोद पटेल की उपस्थिति में जिले के कांग्रेसियों की एक बैठक का आयोजन किया गया, जिसमें जिला कांग्रेस के पदाधिकारियों द्वारा पूर्व सांसद अजीज कुरैशी का पुतला जलाने की घोर निंदा की गई।
इस अवसर पर प्रमोद पटेल ने कहा कि कुछ मुस्लिम पार्षदों व मुस्लिम नेताओं ने अजीज कुरैशी का पुतला जलाकर और फातिहा पढ़ने पर इस्लाम धर्म का मजाक उड़ाया है, जबकि मुस्लिम को दफन किया जाता है। इसके बाद फातिहा पढ़ा जाता है, इन नेताओं के इस कृत्य मुस्लिम भाइयों को ठेस पहुंची है। यहां जारी प्रेस नोट मे कहा गया है बैठक में पुतला दहन करने वाले इन नेताओं के खिलाफ न्यायालयीन कार्रवाई किए जाने पर भी विचार किया जा रहा है। ब्लाक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष श्रीमती धीमान ने कहा है कि जिन्हें अजीज कुरैशी में नेता बनाया, आज वे ही श्री कुरैशी की खिलाफत कर रहे हैं। ऐसे लोगों को कांग्रेस से निष्कासित किया जाए और जिला कांग्रेस अध्यक्ष को पार्टी से तत्काल निलंबित किया जाए, जिनकी उपस्थिति में वरिष्ठ मुस्लिम नेता का पुतला जलाया गया है। इस अवसर पूर्व युकां अध्यक्ष दामोदार राय, सुरेश गुप्ता, मुकेश सिंह ठाकुर, राजेन्द्र राजपूत, ओमप्रकाश राठौर, ओमप्रकाश राय, कुतुबुद्वीन शेख, शंकर खरे, भरत वारिया, संजय नामदेव, राकेश वर्मा, मनोहर यादव, डा. अनीस खान, रिजवान, सलीम कुद्दसी, सलीम सायकल, जगन्नाथ कुशवाह शामिल है

निकली झिलमिलाती झांकियां

सीहोर। जिला मुख्यालय पर बुधवार को सारी रात अनंत चतुर्दशी चल समारोह को लेकर व्यापक उत्साह का माहौल बना रहा। सारी रात लोगों ने झिलमिलाती झांकियों का आनंद लिया पर ग्रामीण क्षेत्र के लोगों की उपस्थिति कम होना लोगों के लिए अखरने वाला साबित हुआ। अनंत चतुर्दशी चल समारोह शांति पूर्वक शांति से निकल जाने पर लोगों के साथ पुलिस प्रशासन ने भी राहत की सांस ली। हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी अनंत चतुर्दशी का चल समारोह स्थानीय कोतवाली चौराहे से प्रारंभ हुआ। इस बार ग्रामीण क्षेत्र की जनता चल रहे माहौल के कारण अपने क्षेत्रों में ही रही जिससे उतना जोरदार माहौल नहीं बन पाया जितने की अपेक्षा थी पर इसके बावजूद भी लोगों ने उत्साह के साथ झांकियों को सारी रात निहारा। यह चल समारोह सूर्य उदय के पहले तक चला जिसमें करीब आधा दर्जन से भी अधिक अखाड़ों के कलाकारों ने अपनी कला का प्रदर्शन किया और करीब इतनी ही झांकिया चल समारोह में शामिल हुई । विभिन्न संगठनों द्वारा मंच बनाए जाकर इन्हेंं प्रोत्साहन स्वरूप पुरस्कार वितरित किए। छावनी गणेश उत्सव समिति द्वारा शिव बारात की शानदार झांकी का निर्माण किया गया था। मंडी की झांकी में शंकर पार्वती का चित्रण किया गया था जबकि इसके पीछे भगवान शंकर का गंगा जल से अभिषेक करते हुए दर्शाया गया था। इस झांकी को भी काफी सराहा गया इसमें लगातार भगवान का जल अभिषेक करते हुए दिखाया गया था। जगदीश मंदिर चौराहा के गांधी क्लब की झांकी में माँ काली का रूद्र अवतार दिखाया गया था इस चलित झांकी में माँ काली को रूप काफी सराहा गया। समाधिया मंदिर गंज के समीप की हिन्दू गणेश उत्सव समिति द्वारा आकर्षक झांकी निकाली गई जिसमें बच्चों ने सजीव चित्रण कर लोगों को मन मोह लिया इस झांकी में राम वनवास का दृश्य चित्रित किया गया था। शुगर फेक्ट्री चौराहा की झांकी में महाकाल सवारी का दृश्याकंन किया गया। आर्दश बाल मंडल पुराना बस स्टैंड द्वारा चार झांकी बनाई गई थी जिसमें गंगा अवतरण, अमृत मंथन, रास लीला, नंदी पर शिव जी को दिखाया गया था उनके साथ-साथ ब्रह्मा,विष्णु,महेश एवं भगवान श्रीकृष्ण की झांकी दिखाई गई थी। मोती बाबा मंदिर समिति द्वारा शिव बारात की झांकी, शुगर फेक्ट्री चौराहा समिति द्वारा नरसिंह अवतार तथा आजाद मित्र मंडल कस्बा द्वारा तीन आकर्षक झांकियोंं का निर्माण किया गया था जिसमें छोटे-छोटे बच्चों की झांकी सजाई गई थी, राम रावण युद्ध के दौरान हनुमान जी द्वारा पर्वत उठाकर लाने की झांकी तथा मॉं अम्बे की झांकी में आरती का दृश्य दिखाया गया। ग्राम नापला खेड़ी की झांकी में हनुमान जी द्वारा संजीवनी बूटी का दृश्य दिखाया गया था।

कलाकारों ने किए शानदार प्रदर्शन
स्टेशन रोड स्थित बजरंग अखाड़ा, श्री गणेश अखाड़ा फ्री गंज, वीर बजरंग अखाड़ा बिजौरी, श्रीवीर बजरंग अखाड़ा बिजौरी, श्रीकृष्ण अखाड़ा ग्वालटोली, श्री महाराणा प्रताप नगर अखाड़ा गंज, जय महाकाल अखाड़ा शिव मंदिर गंज, वीर भारत अखाड़ा इंग्लिशपुरा, लवकुश कला प्रदर्शन के कलाकारों ने जोरदार प्रदर्शन करते हुए सभी का मनमोह लिया। सिनेमा चौराहे पर नगर पालिका द्वारा गत वर्ष की तरह इस वर्ष भी झांकियों का पुरस्कार प्रदान कर अखाड़े के कलाकारो का स्वागत किया।





विभिन्न संगठनों द्वारा अनंत चतुर्दशी चल समारोह में निकलने वाली झांकियों का स्वागत किया। स्थानीय कोतवाली चौराहे पर हिन्दू उत्सव समिति द्वारा मंहत नारायणदास, हरिहर दास, पंडित हरीशंकर तिवारी, हीरालाल साहू तथा अध्यक्ष सतीश राठौर द्वारा सभी का स्वागत कर उनका सम्मान किया गया।

कुपंथ से सुपंथ पर ले जाने वाला ही मित्र है-पं पुरोहित

सीहोर जो व्यक्ति हमें कुमार्ग से सुमार्ग की ओर ले कर जाता है, जो संसार में मित्र के अवगुण छुपाकर गुणों को जन साधारण में प्रगट करता है यथार्थ मे वो ही हमारा सच्चा मित्र होता है। श्री मद भागवत में भक्ति की नौ धाराएँ श्रवण, स्मरण, कीर्तन, चरण सेवा, अर्चना, वंदना, दासता, मित्रता एवं आत्म निवेदन है। भगवान कृष्ण और सुदामा की करुण कथा यथार्थ में मित्र भक्ति का अनूठा उदाहरण है। परमात्मा अपने द्वार पर खड़े अपने मित्र सुदामा को आलिंगन में बाँध लेते है  तथा फिर उसे अपने सिंहासन पर बिठा देता है। उक्त उद्गार निकटस्थ ग्राम छतरपुरा में चल रही श्रीमद भागवत कथा में प्रसिद्ध कथा वाचक महामंडलेश्वर पं अजय पुरोहित ने व्यक्त किये। पं पुरोहित ने आगे बताया कि जो श्री भक्त अपने हदय सिंहासन पर परमात्मा को विराजमान करता है तो बदले में भगवान उस भक्त को अपने सिंहासन पर विराजित कर देते है और उसे तीन लोक की संपत्ति दे देते हंै। पं पुरोहित ने बताया कि सुदामा के घर मे एक बर्तन भी साबुत नहीं है,सुदामा के तन पर पहने हुए कपड़े फटे हैं, जब वर्षा आती है तो वर्षा का पानी झोंपड़ी में भर जाता है, सुदामा को एक वक्त का भोजन भी बड़ी मुश्किल से प्राप्त होता है किन्तु इस पर भी भगवान का सखा सुदामा दरिद्र नहीं है। दरिद्र शब्द की व्याख्या करते पं पुरोहित ने बताया दरिद्र वो होता है जिसके पास संपत्ति होते हुए भी संतुष्टि नहीं है। संसार का सबसे बड़ा दरिद्र लंका का राजा रावण था। जिसके रनिवास में स्वर्ग की अप्सराऐं होने पर भी उसने माता सीता का हरण किया। संसार में महानतम मिलनी केवल दो बार हुई है एक राम में अवतार राम जी और भरत की मिलनी और दूसरी कृष्ण अवतार में कृष्णजी और सुदामा जी की मिलनी। सुदामा शब्द और भरत शब्द की वयाख्या करते हुए बताया कि जो प्रेम रूपी रस्सी से बंधा है उसी का नाम सुदामा है और ज्ञान रूपी रस्सी से बंधा है वो ही भरत है। और ऐसे ही व्यक्तियों से भगवान की मिलनी संभव है। कथा के अंतिम दिन ग्राम के भक्त गणों ने पं पुरोहित को भावपूर्ण बिदाई दी। अंतिम दिन भक्तों का जन सैलाब उमड़ पड़ा ट्रेक्टर ट्राली खड़ी करने की जगह कम पड़ गई। ग्राम के जागीरदार परिवार, जिला पंचायत उपाध्यक्ष माया राम गौर ने सभी भक्त जनों का आभार व्यक्त किया है।

Thursday, September 23, 2010

शांति के साथ सोचे फिर करे कोई फैसला

मजहब नहीं सिखाता आपस में बेर रखना
इंदौर से एक पाठक ने गलत राह पर चलने वाले लोगो के लिए यह सन्देश दिया है कि वे शांति के साथ सोचे फिर करे कोई फैसला करे  जिसे हम जनहित में यहाँ दिखा रहे है

Wednesday, September 22, 2010

गणेशजी का विसर्जन किया गया

गणेशजी का विसर्जन किया गया छाया बिल्लू समाधिया