यदि आपके पास कोई समाचार या फोटो है तथा आप भी किसी समस्या को शासन स्तर पर पंहुचाना चाहते हैं और किसी विषय पर लिखने के इच्छुक है,तो आपका स्वागत है ईमेल करे- writing.daswani@gmail.com, Mob No.-+919425070052

Wednesday, March 30, 2011

भारत की महाविजय पर मनी दीवाली

हर विकेट पर आतिशबाजी,जुलूस से किया प्रसन्नता का इजहार
सीहोर। पाकिस्तान पर महाविजय के साथ ही शहर में एक बार फिर दीवाली का माहौल बन गया, लोगों ने हर विकेट पर आतिश बाजी का प्रदर्शन किया। भारत की जीत के बाद खेल प्रेमियों ने जुलूस निकाल कर अपनी खुशी का इजहार किया। भारत की जीत के बाद ही शहर में छायी खमोशी टूटी लोगों में प्रसन्नता देखते ही बन रही थी। आष्ट्रेलिया से जीत के बाद से लोगों में भारत और पाकिस्तान के बीच का मुकाबले का इंतजार किया जा रहा था। दोपहर दो बजे के बाद से बाजार में सन्नाटे का माहौल बन गया था। लोग टीवी सेट पर चिपके नजर आ रहे थे। बल्लेबाजी का संतोषजनक प्रदर्शन न होने के बाद भारत के गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन कर पाकिस्तान के बल्लेबाजों को बांध दिया जिस पर लगातार लोगों ने आतिशबाजी कर खुशी का इजहार करना प्रारंभ कर दिया था। भारत की जीत के बाद बाजार में खुशी का माहौल बन गया और आतिश बाजी का दौर लगातार चलता रहा जिससे एक बार फिर दीवाली का माहौल बन गया। ढोल धमाकों के साथ  लोगों ने जुलूस निकालकर खुशी का इजहार किया जिसमें लोगों का उत्साह देखते ही बन रहा था। जीत के जश्न के बाद लोगों की निगाहें अब भारत के  फाइनल मुकाबले पर लग गई है। सभी अब भारत की टीम को १९८३ की पुनरावृति देखते ही बनती थी।

सीहोर एक्‍सप्रेस का 30 मार्च का अंक पढ़ने के लिये नीचे चित्र पर क्लिक करें

सीहोर एक्‍सप्रेस का 30 मार्च का अंक पढ़ने के लिये नीचे चित्र पर क्लिक करें

Untitled-1 copy

Tuesday, March 29, 2011

कांग्रेस ने की ईश्वर से जीत की कामना

पूरे देश की आवाज जीते देश
सीहोर, कांग्रेसजनों ने शहर के प्रसिद्ध और आस्था के केन्द्र मनकामेश्वर महादेव मंदिर में विशेष पूजा की, जिसमें ईश्वर से कामना की गई कि बुधवार को होने वाले भारत पाक मैच में भारत को रिकार्ड और ऐतिहासिक जीत मिले। जिला कांग्रेस कमेटी के महामंत्री महेन्द्र सिंह अरोरा ने बताया कि मनकामेश्वर मंदिर में की गई विशेष पूजा अर्चना में कांग्रेस सेवादल जिलाध्यक्ष एवं पूर्व नपाध्यक्ष राकेश राय, जिला कांग्रेस महामंत्री महेन्द्र सिह अरोरा मिन्दी, पार्षद पवन राठौर, पत्रकार महेन्द्र मनकी ठाकुर, जिला कांग्रेस सचिव दिनेश भैरवे, राजू बोयत, सतीश दरोठिया, मुकेश राय, प्रदीप यादव, मटरू टेलर, मनोहर यादव आदि की उपस्थिति उल्लेखनीय रही। बताया गया है कि कांग्रेसजन विशेष पूजा सामग्री और प्रसाद के साथ मनकामेश्वर मंदिर पहुंचे जहां उन्होंंने भगवान शिवशंकर एवं हनुमान जी के श्रीचरणों में नमन किया और भारतीय क्रिकेट टीम की जीत की कामना की। पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष राकेश राय ने कहा है कि देश की टीम विश्वकप क्रिकेट प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन कर रही है, पूरे देश की आज एक ही आवाज है कि पाकिस्तान को शर्मनाक पराजय की ओर धकेला जाए, हम सभी को भरोसा है कि देश के खिलाड़ी महाविजय हासिल करेंगे। जिला कांग्रेस महामंत्री महेन्द्र अरोरा ने कहा कि सभी की शुभकामनाएं टीम इंडिया के साथ हैं, ईश्वर का आशीर्वाद निश्चित तौर पर भारतीय टीम के साथ रहेगा और हमारे देश की टीम पाकिस्तान को सेमीफायनल में हरा फायनल में प्रवेश करेगी और विश्वकप भी जीतेगी। कांग्रेस के पूर्व मीडिया प्रभारी महेन्द्र मनकी ठाकुर ने कहा कि भारत पाक के मैच को लेकर सभी में जिज्ञासा है, इस लिए सभी ने टीम को विजयी शुभकामनाएं दी हैं। पार्षद एवं जिला कांग्रेस महामंत्री पवन राठौर ने कहा है कि आस्ट्रेलिया पर जीत के साथ भारतीय क्रिकेट टीम का मनोबल ऊंचा है पाकिस्तान पर भारत की जीत निश्चित है। गौरतलब है कि शहर में स्थित मनकामेश्वर महादेव मंदिर में कांग्रेसजनों द्वारा विशेष पूजा अर्चना की गई उसके बाद प्रसाद का वितरण किया गया।

दलितों की हालत चिंताजनक : कुमार

 सीहोर। राजधानी भोपाल के सबसे पास का जिला सीहोर है, इसके बाद भी यहां दलितों की स्थिति चिंताजनक है, हमने सर्वे करवाया है, उसमें जो आंकड़े और जानकारियां सामने आई है, उससे सरकार को अवगत कराया जाएगा। पूरे जिले में युवाओं की टीम बनाकर उसे सक्रिय किया गया है। सभी तरफ से सकारात्मक परिणाम मिल रहे हैं, जिससे उ मीद है कि हमारा अभियान अपने लक्ष्य को प्राप्त करेगा और दलितों की स्थिति सुधरेगी।
उक्त बातें जिला मु यालय पर आयोजित एक कार्यक्रम में दलित सोलिडेरिटी पीपुल्स के जनरल सैकेट्री डा. प्रमोद कुमार ने कही। डा. कुमार ने बताया कि देश की आजादी के बाद से दलितों के उत्थान के लिए कई योजनाएं बनी, वहीं अनेक दलित बड़े-बड़े पदों पर भी पहुंचे, उसे दलितों का उत्थान नहीं कहा जा सकता। उन्होंने बताया कि सर्वे के दौरान जानकारी मिल रही है कि दलितों के नाम जो योजनाएं क्रियान्वित की जा रही है, उसका लाभ पात्र हितग्राहियों तक नहीं पहुंच पा रहा है। अनेक योजनाओं के बारे में तो निचले तबके लोग जानते तक नहीं है। ऐसे में दलितों की स्थिति स्वाभाविक रूप से चिंताजनक हो रही है। सरकार अपने स्तर पर प्रयास करती है, लेकिन कई बार देखा जाता है कि कागजी आंकड़े योजनाओं की सफलता का बयान करते हैं, कोई भी योजना दलितों की हितैषी और ईमानदारी से सफल तब ही हो पाएगी जब हर स्तर पर दलितों को योजना का लाभ मिले। उन्हें ज्यादा से ज्यादा शिक्षित होने के प्रयास होने चाहिए, हमने अपने संगठन के माध्यम से युवाओं के दो दल बनाए हैं जो पूरे जिले में पांच पांच सौ घरों में पहुंचकर सर्वे कर रहे हंै। इस सर्वे के माध्यम से जो प्रारंभिक जानकारी सामने आ रही है, वो काफी चौंकने वाली है, हमने निश्चत किया है कि सरकार को जमीनी हकीकत से अवगत कराया जाएगा।

भारत पाक मुकाबले का बेसब्री से इंतजार

हर जगह चर्चाओं का माहौल
सीहोर। विश्वकप के सेमिफाइनल मुकाबले में भारत पाक की रोमांचकारी भिडंत को देखने के लिए सीहोर जिले के  लोगों द्वारा भी बेसब्री के साथ इंतजार किया जा रहा है। मैच को लेकर लोगों में व्यापक उत्साह का वातावरण देखा जा रहा है। सभी दूर चर्चाओं का माहौल है तथा सभी भारत की जीत के प्रति आशान्वित होकर जीत के लिए प्रार्थनाएं भी करते नजर आ रहे है। लाखों रुपए का सट्टा लगने की उम्मीद व्यक्त की जा रही है।
बुधवार की दोपहर को मोहाली में होने जा रहे विश्वकप सेमिफाइनल मुकाबले का इंतजार लोगों द्वारा रंगपंचमी की रात से ही किया जा रहा है। आष्ट्रेलिया को हराने के बाद से ही भारत और पाक के मुकाबले का इंतजार लोगों द्वारा किया जा रहा है। विश्वकप के इस सेमिफाइनल मुकाबले में भारत की जीत को लेकर प्रार्थनाएं की जा रही है, हालांकि अभी तक के भारत के प्रदर्शन को  देखते हुए तथा रिकार्ड की वजह से लोगों का तो यही मानना है कि भारत इस मैच को आसानी से जीतकर फाइनल में पहुंचेगा। मैच को लेकर सटोरियों द्वारा भी व्यापक सक्रियता बरती जा रही है। बुधवार के इस मुकाबले में लाखों रुपए का सट्टा लगने की उम्मीद की जा रही है।

Monday, March 28, 2011

टी.बी रोग से बचाव एवं जागरुकता हेतु रैली निकाली गई


 सीहोर। जिला क्षय नियंत्रण समिति के तत्वाधान मे टी.बी रोग से बचाव एवं जागरुकता हेतु रैली निकाली गई जिला क्षय अधिकारी, के मार्गदर्षन मे एक रैली का आयोजन किया गया जिसे जिला चिकित्सालय सीहोर के सिविल सर्जन डॉ.टी.एन.चतुर्वेदी एवं आर.एम.ओ डॉ.अनिल शर्मा ने हरी झण्डी दिखाकर रैली को रवाना किया । रैली मे महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता प्रषिक्षु नर्से अपनी एक वेषभूषा मे एवं जिला क्षय केन्द्र का स्टॉफ एवं स्वास्थ्य विभाग व अक्षय इंडिया एवं लेप्रा सोसाइटी,एन.जी.ओ कार्यकर्ता हाथो मे टी.बी मुक्त देष के नारे लगाते हुए चल रही थी। रैली का मुख्य उद्वेष्य  .टी. बी (क्षय रोग) से पीडित मरीजो की खोज व उनके डॅाट्स पद्वति द्वारा सही उपचार के संबंध जागरुकता फैलाना था। रैली नगर के प्रमुख मार्गा से गाधी रोड मार्केट से कोतवली चौराहे होती हुई वापस महिला स्वास्थ्य प्रषिक्षण केन्द्र पर समाप्त हुई। इसके बाद एक परिचर्चा का आयोजन किया गया। जिसमे आर.एम.ओ डॉ.अनिल शर्मा ने.टी. बी (क्षय रोग) से पीडित मरीजो की खोज व उनके डॅाट्स पद्वति द्वारा सही उपचार के संबंध मे अपने विचार प्रकट किए।
               

Sunday, March 27, 2011

कलेक्टर इलेवन ने कमिश्रर शिक्षा इलेवन भोपाल को पराजित किया।


कमिश्रर शिक्षा इलेवन भोपाल एवं कलेक्टर इलेवन सीहोर के बीच रविवार को सद्भभावना क्रिकेट मैच खेला गया जिसमें कलेक्टर इलेवन ने कमिश्रर शिक्षा इलेवन भोपाल को चार विकेट से पराजित किया।

विशाल कुबेर धन लक्ष्मी यज्ञ की तैयारियां युद्ध स्तर पर

अपै्ल में नगर में मनाई जाएगी पांच दिवसीय दीपावली
सीहोर। आगामी 13 अपै्रल से नगर के द्वार-द्वार पर प्रकाशोत्सव का आयोजन किया जाएगा। नगर के अधिकांश घरों में श्री विट्ठलेश सेवा समिति के सानिध्य में होने जा रहे पांच दिवसीय विशाल कुबेर धनलक्ष्मी यज्ञ, नानी बाई का मायरा एवं भगवान श्री कृष्ण का तुलादान महोत्सव भागवत भूषण पंडित प्रदीप मिश्रा के मार्गदर्शन में धूमधाम से मनाए जाने का निर्णय किया गया है। जिससे आगामी 13 अपै्रल से दीपावली पूर्व ही सीहोर के इतिहास में पहली बार भव्य आयोजन से द्वार-द्वार रोशन हो जाएगा।
समिति के प्रवक्ता मनोज दीक्षित मामा ने जानकारी देते हुए बताया कि रविवार को श्री विट्ठलेश सेवा समिति के तत्वाधान में पंडित श्री रामस्वरूप समाधिया की अध्यक्षता में ध्वजारोहण एवं भूमि पूजन का आयोजन किया गया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में आए वैष्णव समाज सहित अन्य समाज के महिलाओं और पुरुषों ने शिरकत की। इस अवसर पर पंडित प्रदीप मिश्रा ने यहां पर आए भक्तों को इतिहास में पहली बार होने जा रहे विशाल कुबेर धनलक्ष्मी यज्ञ, नानी बाई का मायरा एवं भगवान श्रीकृष्ण का तुलादान महोत्सव के लिए यज्ञ एवं कथा स्थल कंचन बाग इंग्लिशपुरा का वेद मंत्रों से ध्वजारोहण व भूमि पूजन कार्यक्रम किया गया। इसके उपरांत श्री मिश्रा ने बताया आगामी 13 अपै्रल को विशाल कुबेर धनलक्ष्मी यज्ञ, नानी बाई का मायरा एवं भगवान श्रीकृष्ण का तुलादान महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इस यज्ञ में प्रदेश, देश और विदेश के यजमानों, संतों और साधुओं का आगमन होने जा रहा है। महोत्सव में मायरा दर्शन, विशाल शोभा यात्रा, लक्ष्मी दर्शन, कलश यात्रा आदि का आयोजन भी किया जाएगा।
गौरतलब है कि पूर्व में आयोजित 108 श्रीमद् भागवत एवं पित्र शांति महायज्ञ से सभी भक्तों वैष्णवों को अधिक से अधिक लाभ प्राप्त हुआ है। उसी के फल स्वरूप कुछ भक्तों के कार्य सिद्धि में सफलता न मिलने, रुक-रुक कर लक्ष्मी के आने एक रुपए कमाने पर सवाया खर्च होने, घर-घर में शांति लाने के लिए भारत की भूमि में पहली बार पांच दिवसीय महानुष्ठान का आयोजन किया गया है। रविवार को यज्ञ स्थल के भूमि पूजन और ध्वजारोहण करने के बाद होने वाले कार्यक्रम की सफलता के लिए अनेक समितियों का गठन किया गया। जिसमें यज्ञ समिति, भोजन व्यवस्था समिति, प्रकाश व्यवस्था समिति, कलश यात्रा समिति, शोभा यात्रा समिति, महोत्सव समिति, श्री कृष्ण तुलादान समिति, नानी बाई का मायरा समिति, विशाल कुबेर धनलक्ष्मी यज्ञ समिति, लक्ष्मी दर्शन समिति, प्रसाद वितरण समिति आदि विभिन्न समितियों के प्रभारियों का गठन किया गया।

क्रिकेट सीखने के लिए क्रिकेटरों ने बहाया पसीना

साठ दिवसीय क्रिकेट शिविर का शुभारंभ
सीहोर। क्रिकेट में मिल रही दौलत और ग्लैमर की चाक चौंध ने इन दिनों हर किसी को क्रिकेट का दीवाना बना दिया है। वही वल्र्ड कप के बुखार के कारण लोगों में क्रिकेट का बुखार चढ़ा हुआ है। नगर के बीएसआई हेल्थ एंड स्पोट्र्स क्लब पर रविवार को साठ दिवसीय ग्रीष्म क्रिकेट शिविर का शुभारंभ सुबह पांच बजे किया गया। जिसमें बड़ी संख्या में क्रिकेट खिलाडिय़ों ने आकर यहां पर मौजूद वरिष्ठ खिलाडिय़ों ने गेंदबाजी, क्षेत्ररक्षण, और बल्लेबाजी के गुर सीखे।
इस संबंध में क्लब के प्रवक्ता मनोज दीक्षित मामा ने बताया कि साठ दिवसीय ग्रीष्म कालीन प्रशिक्षण शिविर के बाद यहां पर अन्य प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा। इन प्रतियोगिताओं में अंडर-13 से अंडर-20 के क्रिकेटरों का चयन कर यहां पर आगामी दिनों में होने वाली प्रतियोगिता में चयनित खिलाडिय़ों का खेलने का अवसर मिलेगा। इसके लिए शीघ्र ही क्लब के चेयरमैन प्रमोद पटेल एक चयनकर्ताओं की चयन समिति का गठन करेंगे। चयनित खिलाडिय़ों को उच्च स्तरीय अनुभव के लिए ग्रीष्म कालीन शिविर और आगामी दिनों में होने वाली क्रिकेट प्रतियोगिता में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वालों को मध्यप्रदेश के इंदौर, ग्वालियर, चंडीगढ़, चेन्नई और गुजरात के बडोदरा में अकादमी में भेजा जाएगा। रविवार को ग्रीष्म कालीन क्रिकेट प्रशिक्षण शिविर में बड़ी संख्या में क्रिकेटर शामिल थे। जिन्होंने यहां पर मौजूद क्रिकेट कोच मदन कुशवाहा आदि ने क्रिकेट के गुर सीखाए।

Saturday, March 26, 2011

सीहोर एक्‍सप्रेस का 23 मार्च का अंक पढ़ने के लिये नीचे चित्र पर क्लिक करें ।

सीहोर एक्‍सप्रेस का 23 मार्च का अंक पढ़ने के लिये नीचे चित्र पर क्लिक करें ।

Untitled-1 copy

विशाल कुबेर धनलक्ष्मी यज्ञ का भूमि पूजन रविवार को

सीहोर। आगामी 13 अपै्रल को इंग्लिशपुरा के कंचन बाग में नगर के इतिहास में पहली बार होने जा रहे विशाल कुबेर धनलक्ष्मी यज्ञ एवं नानी बाई का मायरा के आयोजन के लिए रविवार को सुबह दस बजे भूमि पूजन और ध्वजारोहण का किया जाना है।
इस संबंध में यज्ञ समिति के मीडिया प्रभारी मनोज दीक्षित मामा ने बताया कि आगामी 13 अपै्रल को श्री विट्ठलेश सेवा समिति के तत्वाधान में प्रदेश के प्रसिद्ध भागवताचार्य पंडित प्रदीप मिश्रा के मार्गदर्शन में होने जा रहे विशाल कुबेर धनलक्ष्मी यज्ञ एवं नानी बाई का मायरा को सफल बनाने के लिए इस अवसर पर समिति का विस्तार किया जाएगा। पूर्व में आयोजित 108 भागवत एवं पितृ शांति यज्ञ के फलस्वरूप यह विशाल आयोजन किया जा रहा है। इस भव्य यज्ञ एवं कार्यक्रम में अनेक आकर्षक कार्यक्रम का सिलसिला आगामी 13 अपै्रल से शुरू हो जाएगा जो 17 अपै्रल तक जारी रहेगा। आयोजन समिति ने पूरे जिले के सभी धर्मप्रेमियों से इस महा आयोजन की सफलता में सहयोग देने की अपील की है।

रविवार से शुरू हो जाएगा ग्रीष्म कालीन क्रिकेट प्रशिक्षण शिविर

सीहोर। इन दिनों पूरे देश की गली-गली,  मोहल्ले-मोहल्ले में सहित चौराहे-तिराहे पर वल्र्ड कप क्रिकेट का खुमार चढ़ा हुआ है। हर तरफ क्रिकेट का जुनून छाया हुआ है। इस बीच हर साल की तरह इस साल भी रविवार से जिला क्रिकेट एसोसिएशन के तत्वाधान में स्थानीय बीएसआई हेल्थ एंड स्पोट्र्स मैदान पर साठ दिवसीय ग्रीष्म कालीन क्रिकेट शिविर का आयोजन किया जाना है। इसके लिए क्रिकेट का मैदान में तैयारियां पूर्ण हो गई है।
इस संबंध में जिला क्रिकेट एसोसिएशन के मीडिया प्रभारी मनोज दीक्षित मामा ने बताया कि साठ दिवसीय शिविर में प्रदेश स्तरीय प्रशिक्षकों के साथ जिला क्रिकेट एसोसिएशन के अनुभवी खिलाडिय़ों द्वारा यहां पर आने वाले क्रिकेट खिलाडिय़ों को आधुनिक संसाधनों से गेंदबाजी, बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण की बारीकियों से अवगत किया जाएगा। इस संबंध में बीएसआई हेल्थ एंड स्पोट्र्स क्लब के चेयरमैन प्रमोद पटेल के नेतृत्व में एक विशेष बैठक का आयोजन कर साठ दिवसीय प्रशिक्षण शिविर की जिम्मेदारी जिला क्रिकेट एसोसिएशन के क्रिकेट कोच आशीष शर्मा, मदन कुशवाहा, अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खिलाड़ी मुनीस अंसारी, महेन्द्र शर्मा, राष्ट्रीय क्रिकेटर मयंक जैन, गौरव खरे, चेतन मेवाड़ा, हेमंत केशरिया, अतुल कुशवाहा, अमित शर्मा, राजेश विलय सहित सोलह सदस्यीय समिति का गठन किया गया है। जो यहां पर आने वाले खिलाडिय़ों को प्रशिक्षित करेंगे। शिविर का रविवार को शुभारंभ सुबह छह बजे से किया जाएगा।

मातृ शक्ति ने की भारत को विश्व विजेता बनाने की कामना

सीहोर। शुक्रवार को बस स्टैंड के पीछे पार्वती कालोनी में मध्यप्रदेश निर्यात निगम के पूर्व अध्यक्ष के निवास पर भगवती महिला मंडल सहित अनेक समाज की महिलाओं ने आगामी तीस मार्च को होने वाले भारत और चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले विश्व कप के सेमीफाइनल भिड़ंत में भारत की विजय की कामना को लेकर भजन संध्या का आयोजन किया गया। इस अवसर पर गुलाबों के फूलों से मां के दरबार को सजाया गया था। इस संबंध में मध्यप्रदेश की प्रसिद्ध भगवती महिला मंडल की अध्यक्ष उषा वाधवा  ने कहा कि वे धन की कामना के लिए भजन नहीं गाते। वे व्यावसायिक नहीं हैं, सिर्फ मां की महिमा को जन-जन तक पहुंचाने के लिए ही वे भजन गाते हैं। आज की भजन संध्या भारत को 28 साल बाद विश्व विजेता बनाने के लिए किया गया है।
भगवती महिला मंडल और अन्य समाज की महिलाओं ने मधुबन में जो कन्हैया किसी गोपी से मिले गीत पर आकर्षक गरबा रास प्रस्तुत किया। इसके अलावा लहर-लहर लहराये मां की चुनरियां, सच्चा है दरबार तेरा शेरों वाली, छोटी-छोटी गईया, छोटे-छोटे ग्वाल आदि की प्रस्तुति पर यहां पर मौजूद महिलाओं ने गरबा रास किया। यहां पर मौजूद बड़ी संख्या में महिलाओं और पुरुषों ने भक्ति रस का भरपूर आनंद लिया। वही भगवती महिला मंडल ने मां के भजनों की संगीतमयी, मां की भेंटे सुनाकर खूब जयकारे व तालियां बजवाकर भक्तों को खूब नचाया।
भगवती मंडल के कार्यक्रम में शुक्रवार को दोपहर कार्यक्रम के शुभारंभ में मध्यप्रदेश निर्यात निगम के पूर्व अध्यक्ष प्रमोद पटेल, गुजराती महिला समाज की वरिष्ठ पदाधिकारी कोकिला बेन पटेल, भगवती महिला मंडल की उषा वाधवा, रजनी वालेजा, रीतू ग्रोवर, इंदू मल्होत्रा, उषा हांडा, वीना अरोरा, टीना अरोरा, कल्पना भाटी, शैलेष पटेल, बीपी खरे, व्हीपी सिंह, ओम वर्मा, दिलीप पटेल, बाबूलाल वर्मा, दिलीप गुर्जर आदि ने मिलकर मां की विधि विधान से पूजा अर्चना की इसके उपरांत भजन मंडल ने श्रोताओं के साथ मिलकर देवी मां के भक्ति रस का भरपूर आनंद लिया। इंदौर की प्रसिद्ध भजन मंडल ने मां शेरों वाली की भेंटें सुनाकर झूमने पर विवश कर दिया। यहां पर बड़ी संख्या में महिलाओं ने पुष्प वर्षा कर एक दूसरे के साथ होली खेली। भजन मंडल का कार्यक्रम देर तक चलता रहा।

Thursday, March 24, 2011

रंगपंचमी पर मनी दीवाली

भारत की जीत के बाद आतिशबाजी और एसएमएस का दौर
मुबारक हो हिन्दुस्तान अब सामने है पाकिस्तान
सीहोर। अहमदाबाद में जैसे आष्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज  बे्रट ली की गेंद पर जैसे ही युवराज सिंह ने चौका लगाया वैसे ही रंग पंचमी की रात को दीपावली का नजारा देखने को मिला, दोपहर बाद से सूना मार्केट में अचानक चमक जैसी देखने को मिली। रंग पंचमी पर्व पर सुबह से ही लोगों को विश्वकप के क्वार्टर फाइनल मैच का इंतजार किया जा रहा था, यही कारण था मैच प्रारंभ होने के बाद से ही रंग पंचमी का शोर समाप्त हो गया था। पहले गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया और बाद में सचिन, सहवाग, गंभीर, विराट, युवराज सिंह तथा सुरेश रैना ने शानदार बल्लेबाजी का प्रदर्शन कर कठिन लग रहे मैच को आसानी के साथ पांच विकेट से जिताने मे अहम भूमिका का निर्वहन किया। भारत की जीत के तुरंत के बाद ही रंग पंचमी की रात को सारे सीहोर में दीवाली का नजारा दिखाई देेने लगा, चारो तरफ आतिशबाजी का प्रदर्शन नजर आ रहा था। क्रिकेट प्रेमियों की प्रसन्नता का अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि जीत के तुरंत बाद लोगों ने एसएमएस करना प्रारंभ कर दिया था। अब भारत का सेमिफाइनल मैच चिरपरिचित प्रतिद्वन्धी पाकिस्तान के साथ होना है लोगोंं की निगाह अब सेमिफाइनल पर लग गई है।

मैच के कारण सूनी हुई सड़क, बिजली विभाग ने दिया साथ

पंचमी जुलूस में जमकर नाचे हुरियारे 
सीहोर। गुरुवार को जिले में रंग पंचमी पर्व उत्साह और उमंग भरे वातावरण में मनाया गया, हिन्दू उत्सव समिति द्वारा निकाले गए जुलूस में जमकर हुरियारे नाचे, भारत और आष्ट्रेलिया के बीच मैच होने के कारण जुलूस अपने निर्धारित समय पर ही समाप्त हो गया। उसके बाद शहर की सड़कें मैच होने के कारण लगभग सूनी सी हो गई। बिजली विभाग ने मैच के दौरान विद्युत प्रवाह बरकरार रहा कुछ देर बिजली जाने के बाद व्यवस्था सुचारु रही। सुबह से ही रंग पंचमी का माहौल बना हुआ था ढोल धमाकों की थाप पर हुरियारो की टोलिया बाजार में भ्रमण कर रही थी। हिन्दू उत्सव समिति के तत्वावधान में विशाल जुलूस निकाला गया जिसमें बड़ी संख्या में हुरियारों नाचते झूमते हुए चल रहे थे। हिन्दू उत्सव समिति के अध्यक्ष सतीश राठौर ने सभी के प्रति आभार ज्ञापित किया। जुलूस आज भारत आष्टे्रलिया के बीच क्वाटर फाइनल मैच होने के कारण दोपहर तीन बजे ही समाप्त हो गया। मैच प्रारंभ होने के बाद शहर की सड़कें भी लगभग सूनी हो गई। इक्का दुक्का हुरियारों की टोली बाजार में नजर आई। अभी तक बिजली विभाग द्वारा भारत के मैच को देखते हुए कटौती नहीं की गई थी पर आज जैसे ही मैच प्रारंभ हुआ वैसे ही बिजली चली गई जिससे एकदम निराशा का माहौल बन गया लोगों ने विभाग के अधिकारियों तथा कार्यालय पर फोन लगाना शुरू कर दिए थे तभी कुछ ही देर बाद बिजली आ गई जिससे सभी ने राहत की सांस ली, मैच में बिजली बनी रहने से क्रिकेट प्रेमियों में प्रसन्नता का वातावरण बना रहा।

शहीद दिवस पर लिया संकल्प


भ्रष्टाचार को हटाने को लेकर भारतीय जनता युवा मोर्चा ने किया शंखनाद
सीहोर। पूरे हिन्दुस्तान में कांग्रेस सरकार ने भ्रष्टाचार को बड़ा दिया है। आए दिन कोई न कोई घोटाला हो रहा है। इसे खत्म करने को लेकर भारतीय जनता युवा मोर्चा ने भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव जैसे क्रांतिकारी वीरों के शहीद दिवस से भ्रष्टाचार हटाओ आंदोलन का शंखनाद पूरे प्रदेश में किया है।
उसी को लेकर भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष के आह्वान पर जिला इकाई ने भी बुधवार को शहीद दिवस के अवसर पर आंदोलन का शंखनाद किया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश युवा मोर्चा के मंत्री कृष्णगोपाल पाठक उपस्थित थे। वही विशेष अतिथि के रूप में जिला भाजपा महामंत्री रमाकांत समाधिया, नगर पालिका अध्यक्ष नरेश मेवाड़ा, प्रदेश मंत्री मारुति शिशिर, पूर्व मंडल अध्यक्ष धर्मेन्द्र राठौर, प्रदेश कार्य समिति सदस्य ललित शर्मा, प्रदीप गौर शामिल थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष जितेन्द्र गौड़ ने की।
इस संबंध में जानकारी देते जिला महामंत्री सुशील ताम्रकार ने बताया कि भ्रष्टाचार को हटाने को लेकर पूरे देश में बुधवार से श्रीगणेश कर दिया गया है।
कार्यक्रम का शुभारंभ शहीद भगत सिंह के चित्र पर माल्यार्पण कर किया गया। शहीदों के जीवन पर प्रकाश डालते हुए मुख्य अतिथि कृष्ण गोपाल पाठक ने कहा कि शहीदों ने अंग्रेजों को भगाने के लिए आंदोलन किया था। आज हम भी उनके शहीद दिवस के दिन से भ्रष्टाचार को हटाने को लेकर आंदोलन प्रारंभ कर रहे है। कार्यक्रम को महामंत्री रमाकांत समाधिया, नगर पालिका अध्यक्ष नरेश मेवाड़ा, प्रदेश मंत्री मारुति शिशिर, प्रदेश कार्य समिति सदस्य ललित शर्मा एवं जिलाध्यक्ष  जितेन्द्र गौड़ ने भ संबोधित किया।
कार्यक्रम में सभी कार्यकर्ताओं को भारत माता की माटी से तिलक लगाकर मुख्य अतिथि ने संकल्प दिलाया गया। कार्यक्रम का संचालन जिला महामंत्री सुशील ताम्रकार ने किया एवं आभार जिला उपाध्यक्ष कालू भट्ट ने व्यक्त किया। इस अवसर पर सुरेन्द्र सिंह, देवेन्द्र ठाकुर, आकाश सक्सेना, अमित नीखरा, टिक्की राठौर, रवि नागले, प्रकाश प्रजापति, करण सिंह मेवाड़ा, नगर महामंत्री कैलाश कुशवाहा, महेश पारिख, विपिन सास्ता, प्रिंस राठौर, नीलेश खंडेलवाल, सतेन्द्र सोलंकी, संजय कुशवाहा, गोपाल तिवारी और किशन मेवाड़ा आदि शामिल है। 

भगवती महिला मंडल भजन कार्यक्रम कल

सीहोर। हर साल की तरह इस साल भी होली उत्सव कार्यक्रम के तहत सामाजिक महिला मंडल के तत्वाधान में मध्यप्रदेश निर्यात निगम के पूर्व अध्यक्ष प्रमोद पटेल के निवास पर इंदौर की प्रसिद्ध भगवती महिला मंडल द्वारा भजन-कीर्तन का आयोजन किया जाना है। इस संबंध सामाजिक महिला मंडल की अध्यक्ष श्रीमती कोकिला पटेल ने बताया कि आगामी 25 मार्च को दोपहर दो बजे से देर शाम तक भजन मंडल द्वारा संगीतमयी भजन संध्या का आयोजन किया गया है। उन्होंने सभी धर्मप्रेमियों से इस अवसर पर आने की अपील की है।

Wednesday, March 23, 2011

आधा दिन ही मनेगी रंगपंचमी

सीहोर। गुरुवार को रंग पंचमी का पर्व परम्परागत उत्साह और उमंग भरे वातावरण में मनाया जाएगा , हिन्दू उत्सव समिति द्वारा एक भव्य जुलूस भी निकाला जाएगा जिसकी जोरदार तैयारियां की गई है। पर विश्वकप क्रिकेट प्रतियोगिता का क्वार्टर फाइनल मुकाबला होने के कारण रंग पंचमी का पर्व आधा दिन ही मनने की संभावना व्यक्त की जा रही है। हर साल की तरह इस साल भी रंगपंचमी पर्व पर हिन्दू उत्सव समिति द्वारा चल समारोह को भव्य रुप प्रदान करने के लिए जोरदार तैयारियां की जा रही है। सभी वर्ग के लोगों को चल समारोह में शामिल होने के लिए आमंत्रण पत्र वितरित किए गए है। लोग अधिक से अधिक संख्या में जुलूस में शामिल हो इसके लिए घर-घर आमंत्रण पत्र भेजे गए है। ज्ञातव्य है कि जब से हिन्दू उत्सव समिति द्वारा रंग पंचमी चल समारोह की जवाबदारी अपने कंधों पर ली गई है तब से पर्व का आनंद भी दोगुना हो गया है। हिन्दू उत्सव समिति अध्यक्ष सतीश राठौर ने सभी रंग प्रेमियों से चल समारोह में शामिल होने की अपील की है। इधर विश्वकप का क्वार्टर फाइनल मैच भारत और आष्टे्रलिया के बीच रंगपंचमी को होने जा रहा है जिसको देखकर यही अंदाज लगाया जा रहा है कि रंगपंचमी का उत्साह भी दोपहर ढाई बजे से अधिक नहीं चल सकेगा।

क्रिकेट प्रेमियों की निगाह भारत-आष्टे्रलिया मैच पर

भारत की जीत के लिए दुआओं का दौर सटोरिए भी सक्रिय
सीहोर। भारत और आष्ट्रेलिया के बीच गुरुवार को अहमदाबाद में विश्वकप क्रिकेट प्रतियोगिता का क्वार्टर फाइनल मैच खेला जाएगा जिस पर क्रिकेट प्रेमियों की निगाहें लगी हुई है, भारत की जीत के लिए सभी द्वारा दुआ भी की जा रही है, क्योंकि यदि भारत यह मैच हार गया तो विश्वकप से बाहर हो जाएगा। मैच को लेकर सटोरियों में भी सक्रियता का वातावरण देखा जा रहा है।
गुरुवार की दोपहर को भारत और आष्टे्रलिया के मध्य क्वार्टर फाइनल मैच खेला जाना है, पहला क्वार्टर फाइनल मुकाबला आज वेस्टइंडीज और पाकिस्तान के बीच खेला जा रहा है। इन पंक्तियों के लिखे जाने तक पाकिस्तान के गेंदबाज हावी बने हुए है, गुरुवार को होने जा रहे मुकाबले में भारत और आष्ट्रेलिया में जो भी विजय रहेगा उसका मुकाबला आज के विजेता संभवत: पाकिस्तान की टीम के साथ सेमिफाइनल में होना है, जिसको लेकर सभी क्रिकेट प्रमियों में जिज्ञासा का माहौल देखा जा रहा है, सभी द्वारा भारत की जीत की दुआ की जा रही है। क्रिकेट प्रेमियों की दुआओं के साथ-साथ सटोरियों में भी सक्रियता का वातावरण देखा जा रहा है, हांलाकि जिला पुलिस अधीक्षक केडी पाराशर के दिशा निर्देशन में क्रिकेट के सटोरियों की धरपकड़ पहली बार की गई है पर उसके बावजूद यह सटोरियों अपना स्थान परिवर्तन कर मैच की तैयारियों मेंं जुटे हुए नजर आ रहे है। सट्टा बाजार में भारत और आष्ट्रेलिया की हार जीत पर जमकर दावं लगाया जा रहा है, हालांकि अभी तक तो सटोरियों का झु़काव भारत की ओर ही अधिक दिखाई दे रहा है। देखना यह है गुरुवार का मैच किस करवट बैठता है।

अखबारों के पहले पन्ने से गायब हो गए भगत सिंह

सीहोर। आज के ही दिन 23 मार्च 1931 को क्रांतिकारी भगत सिंह और उनके साथी सुखदेव और राजगुरु को अंग्रेजों ने नियत तिथि के तीन पहले ही फांसी पर चढ़ा दिया था। हिन्दुस्तान की आजादी के लिए तीनों हंसते-हंसते फांसी पर झूल गए थे उनके बलिदान की गाथा आज भी लोगोंं के दिलो दिमाग पर अंकित है, पर दुर्र्भाग्य का विषय यह है कि क्रांतिकारी भगत सिंह और उनके साथी आज अखबारों के पहले पन्नों से गायब हो गए है, कुछ एक अखबारों को छोड़ दिया जाए तो उनके बलिदान दिवस का जिक्र करना भी उचित नहीं समझा गया है। देश के लिए अपना सर्वस्स बलिदान कर देने वाले इन वीर शहीदों के साथ अखबारों का यह रवैया भी रहेगा इसकी कल्पना शायद किसी को भी नहीं थी, मामूली बाते जो खबर की श्रेणी में भी नहीं आती है उनको स्थान दिया जाना पहले से ही समझ से परे है और ऐसे में शहीदों के बलिदान को याद नहीं करना दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति से कम नहीं है, आज हम नई पीढ़ी को भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की जज्बों से अवगत नहीं कराएंगे तो उनमें देश भक्ति का जज्बा कहां से पैदा होगा? क्या हम सबका यह कर्तव्य नहीं बनता है? यहां पर श्री कृष्ण सरल की इन पंक्तियों का स्मरण जरुरी हो रहा है कि-
प्रेरणा शहीदों से हम अगर नहीं लेंगे
तो आजादी ढलती हुई सांझ हो जाएगी
यदि वीरो की पूजा हम नहीं करेंगे, तो
यह सच मानो, वीरता बांझ हो जाएगी

Tuesday, March 22, 2011

आदेशों की अव्हेलना कर डेली अप डाउन जारी

सीहोर। शासन के स्पष्ट आदेशों के बाद भी सीहोर से भोपाल और अन्य शहरों में कर्मचारियों द्वारा अपडाउन किया जा रहा है। सभी विभागों में कर्मचारियों द्वार डेली अप डाउन बदस्तूर किए जाने के कारण भी विभाग से लोगों को वापस लौटने के लिए विवश होना पड़ रहा है। विभाग के आला अधिकारियों द्वारा ही अपडाउन किया जा रहा है तो कर्मचारियों को रोकना भी मुश्किल कार्य हो जाता है। शासन द्वारा सभी विभागों के अधिकारियों— कर्मचारियों को पूर्व में इस प्रकार के दिशा निर्देश दिए जा चुके है कि कोई भी अधिकारी कर्मचारी अपना मुख्यालय जोड़कर नहीं जाएगा। विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों ने इसका तोड़ निकाल कर अपने मकान या कमरें किराए पर ले लिए है पर अप डाउन को त्यागा नहीं है उनके द्वारा लगातार आदेशों की अव्हेलना की जाकर अपडाउन बदस्तूर जारी कर रखा है।
कोई भी विभाग: अपडाउन की स्थिति यह है कि जिले में कोई सा भी ऐसा सरकारी विभाग नहीं है जहां पर अधिकारी कर्मचारी डेली अपडाउन नहीं कर रहे है उनके द्वारा लगातार अपडाउन किया जा रहा है। ताजुब्ब की बात तो यह है कि विभाग के आला अधिकारी ही अपने आप को डेली अपडाउन के मोह से नहीं बचा पा रहे है तो कर्मचारी उससे किस प्रकार से बच सकेंगे? विभागों में चल रही यह स्थिति खासतौर से शनिवार के बाद सोमवार को भी कष्ट दायक हो जाती है। यदि शनिवार को अवकाश नहीं है तो अधिकतर कार्यालय समय से पहले खाली हो जाते है और सोमवार को भी सभी कार्यालयों में कर्मचारी अपने निर्धारित समय से देरी से आते है जिसके कारण जिन्हें सुबह के समय आवश्यक कार्य होता है उसे परेशानी का सामना करना पड़ता है और दोबारा उसे कार्यालय में चक्कर लगाने पर विवश होना पड़ता है। आर्श्चय का विषय यह है कि लोगों को होने वाली परेशानियों की तरफ विभाग के अधिकारियों का ध्यान नहीं है।

Monday, March 21, 2011

पूर्व पार्षद छोटेलाल यादव का निधन


सीहोर। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता सीताराम यादव के पिताश्री पूर्व पार्षद छोटेलाल यादव के निधन पर अनेक लोगों ने श्रद्धांजली दी। इस अवसर पर उनकी अंतिम यात्रा में शहर के अनेक जनप्रतिनिधि, अधिकारी, समाज के बंधुओं के अलावा आम जनता शामिल थी। श्रद्धांजली अर्पित करने वालों में प्रमुख रूप से नगर के वरिष्ठ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी दादा उदय सिंह आर्य, विधायक रमेश सक्सेना, जिला पंचायत उपाध्यक्ष माया राम गौर, हिन्दू उत्सव समिति के अध्यक्ष सतीश राठौर, जिला भाजपा महामंत्री रमाकांत समाधिया, लोकेन्द्र मेवाड़ा,  प्रदीप समाधिया, सुरेश साबू, हरि सोनी, रुकमणी रोहिला, धर्मेन्द्र राठौर, प्रकाश व्यास काका,  अनिल सक्सेना, अनिल पालीवाल, सन्नी महाजन, अशोक सिसौदिया, चंदू मियां, शमीम अहमद, मोहन चौरसिया आदि शामिल थे।

रंगों की धूम दूसरे दिन भी जारी

सीहोर। रविवार को धुलेंडी परम्परा का निर्वहन करने के बाद सोमवार को भी सीहोर शहर के लोग रंगों से सराबोर नजर आए। यहां पर दूसरे दिन रंग खेलने की बरसों पुरानी परम्परा का निर्वहन सोमवार को लोगों द्वारा किया गया। धुलेंडी के दिन लोगों ने एक दूसरे को गुलाल लगाकर होली पर्व की शुभकामनाएं प्रदान की इसके अलावा साल भर में जिन परिवारों के यहां गमी हो गई थी उनके यहां पर पहुंचकर गुलाल लगाया। दर्जी समाज के सदस्यों ने सामूहिक रुप से ढोल के साथ लोगों के घर पहुंचकर गुलाल लगाई। रविवार की दोपहर के बाद होली पर भारत वेस्ट इंडीज के मैच का भी असर देखा गया जो रंग का माहौल शाम तक दिखाई देता था वो दोपहर तक ही जारी रहा। सोमवार को रंग का असर सुबह से ही देखा जा रहा था, परीक्षा समाप्त हो जाने के कारण विद्यार्थियों में होली का उत्साह देखते ही बनता था, कई सालों के बाद यह मौका आया था जब विद्यार्थियों ने जमकर बिना किसी परीक्षा के भय से होली का आनंद उठाया था। इस बार बाजार में होली पर्व को देखते हुए  नए नए प्रकार के मौखुटे आए हुए थे जिन्हें हुरियारों की टोली लगाकर घूम रही थी।
दिन भर जारी रहे एसएमएस
होली पर्व की शुभकामनाएं देने के लिए लोगों द्वारा दो दिन पहले से होली की शुभकामनाएं प्रदान करने के लिए मोबाइल से एसएमएस भेजना शुरु कर दिया था, यह सिलसिला सारा दिन जारी रहने के बाद सीहोर में दूसरे दिन सोमवार को भी जारी रहा, पिछले साल की तुलना में इस साल लगभग सभी कम्पनियों की सेवाएं शानदार रही, मोबाइल उपभोक्ता अपनी कंपनियों से प्रसन्न नजर आ रहे थे। विद्युत प्रवाह भी दिन भरे बने रहने के कारण लोगों द्वारा राहत की सांस ली गई। अब जो लोग होली के दो दिनों में रंग से बचने से रह गए है वे लोग चौबीस मार्च गुरुवार को रंग पंचमी पर सारी कसर निकालेंगे। शहर में रंग पंचमी पर्व पर हिन्दू उत्सव समिति द्वारा हर साल की भांति इस बार भी रंग पंचमी चल समारोह निकाला जाएगा, समिति के अध्यक्ष सतीश राठौर सहित अन्य पदाधिकारियों ने भी लोगो से चल समारोह में शामिल होने की अपील की है।
मिनी शिर्डी धाम में रंगों से बिखरी खुशबू
सीहोर। होलिका दहन की शाम को शहर में मिनी शिर्डी धाम के रुप में ख्याति प्राप्त कर चुके चाणक्यपुरी श्री सांई मंदिर में महिलाओं एवं युवतियों ने रंंग बिरंगी रंगोली सजाकर मंदिर परिसर को खुशबू से सराबोर कर दिया। यहां पर रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था जिसमें शहर की महिलाओं एवं युवतियोंं तथा छात्राओं ने उत्साह के साथ भाग लेकर एक से बढ़कर एक रंगोली बनाई। होलिका दहन की शाम को आयोजित की गई इस प्रतियोगिता को देखने के लिए शहर से भी लोग बड़ी संख्या में यहां पर पहुंचे और इन्होंने प्रतिभागियों द्वारा की गई मेहनत की मुक्त कंठ से सराहना की। रंगोली प्रतियोगिता में भागीदारी करने वाले प्रतियोगियों को श्री सांई प्रसाद वितरित किया जाकर उन्हें प्रोत्साहित किया गया।

Sunday, March 20, 2011

होली की सभी पाठकों को शुभकामनाएं


Saturday, March 19, 2011

फागुन के रंग हैं हजार

समीर लाल समीर
कनाडा
चढ़ गयो फागुनी बुखार,
नीला रंग मोहे लगाई दे !!
नीला लगाइ दे तू पीला लगाइ दे
फागुन के रंग हैं हजार 
नीला रंग मोहे लगाई दे

रंग लगा दे, गुलाल लगा दे,
गालों पे मेरे तू लाल लगा दे..
भर पिचकारी से मार,
नीला रंग मोहे लगाई दे!!

चढ़ गया फागुनी बुखार,
नीला रंग मोहे लगाई दे!!

सासु लगावें, ससुर जी लगावें,
नन्दों के संग में, देवर जी लगावें..
साजन का करुँ इन्तजार,
नीला रंग मोहे लगाई दे!!

चढ़ गयो फागुनी बुखार,
नीला रंग मोहे लगाई दे

गुझिया भी खाई, सलोनी भी खाई
भंगिया मिला कर, पकोड़ी भी खाई..
भंगिया का छाया है खुमार..
नीला रंग मोहे लगाई दे!!

चढ़ गयो फागुनी बुखार,
नीला रंग मोहे लगाई दे!!

हिन्दु लगावें, मुसलमां लगावें,
मजहब सभी, इक ही रंग लगावें..
मुझको है इन्सां से प्यार..
नीला रंग मोहे लगाई दे

चढ़ गयो फागुनी बुखार,
नीला रंग मोहे लगाई दे



होलिका दहन की तैयारियों में जुटी समिति

बाजार में चहल पहल, रोशनी का व्यापक इंतजाम
सीहोर। शनिवार की शाम को पूरे शहर में होलिका दहन की व्यापक तैयारियों में समितियां जुटी नजर आई। आज बाजार में सुबह से ही रौनक का वातावरण बना रहा तथा शाम होते होते चहल पहल लगातार बढ़ती हुई नजर आई। समितियों द्वारा रोशनी के साथ होलिका की सजावट के लिए भी तैयारियां की जाती रही। विभिन्न मंदिरों में भी भीड़ भाड़ रही तथा श्री सांई मंदिर में रंगोली की तैयारियां की जाती रही। आज देर रात होलिका का दहन का सिलसिला प्रारंभ होगा जो सुबह तक अनवरत जारी रहेगा, जिसको लेकर विभिन्न समितियां तैयारियों में जुट नजर आ रही थी, इनके द्वारा व्यापक स्तर पर तैयारियां की जाती रही। नगर पालिका परिषद द्वारा सुबह से होलिका दहन स्थल पर मिट्टी डलवा दी गई थी तथा सुबह से बाजार में रौनक का वातावरण बना रहा जो शाम को और भी बढ़ गया, एक ओर जहां समितियां होलिका की सजावट और रोशनी का इंतजाम करने में जुटी नजर आ रही थी वहीं दूसरी तरफ लोग पूजन सामग्री के साथ साथ रंग और गुलाल खरीदने में व्यस्त नजर आए, बच्चों द्वारा बाजार में अपने अभिभावकों के साथ पिचकारियों की खरीददारी की जाती रही। एहतियात के तौर पर पुलिस द्वारा आज व्यापक सुरक्षा के प्रंबध किए गए थे, पुलिस जवानों की तैनाती भी गई तथा व्रज वाहन को भी तैयार किया गया था।

समाजसेवी पंडित मथुराप्रसाद शास्त्री का निधन

सीहोर नगर के  विद्वान कथावाचक और समाजसेवी पंडित मथुराप्रसाद शास्त्री का शनिवार प्रात: 5 बजे निधन हो गया। 82 वर्षीय शास्त्री जी कुछ दिनों से अस्वस्थ्य चल रहे थे। वे अपने पीछे तीन पुत्र एक पुत्री सहित भरापरा परिवार छोड़ गए हैं। छावनी विश्रामघाट पर उनके ज्येष्ठ पुत्र विश्वनाथ शास्त्री ने उन्हें मुखाग्रि दी। उनकी शवयात्रा में परिजनों सहित बड़ी सं या में नागरिकों ने उपस्थित होकर मृतात्मा को श्रद्धांजलि अर्पित की। सर्वब्राह्मण समाज के अध्यक्ष प्रकाश व्यास की अध्यक्षता में सर्व ब्राह्मण समाज ने भी उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि दी। श्मशान घाट पर पं. प्रदीप मिश्रा भागवताचार्य ने कहा कि आज नगर को अपूर्णीय क्षति हुई है। नगर के सर्वश्रेष्ठ कथावाचक और कर्मकाण्डी विद्वान अब हमारे बीच नहीं रहे। ईश्वर उनके परिजनों को इस अपार दुख को वहन करने की शक्ति दे। पं. मथुराप्रसाद जी के परम शिष्य पं. अभिषेक भारद्वाज ने कहा कि आज नगर का ज्ञान रूपी सूर्य हमेशा के लिए अस्त हो गया है। उन्होंने समाज के उत्थान के लिए नि:स्थार्थअपना संपूर्ण जीवन समर्पित किया है। ऐसे सिद्ध पुरूष के लिए हम ईश्वर से कामना करते हैं कि वह उन्हें अपने श्री चरणों में स्थान दे।

Friday, March 18, 2011

नृसिंह मंदिर में फाग महोत्सव 23 को

सीहोर। प्राचीन श्री नृसिंह मंदिर ब्राह्मण पुरा कस्बा में पर परा अनुसार फाग महोत्सव 2011 का आयोजन 23 मार्च को किया जा रहा है। रात्रि 8 बजे से आयोजन प्रारंभ होगा। जो देर रात तक चलेगा, भगवान नृसिंह जी का विशेष श्रृंगार होगा तथा रस वितरण किया जाएगा। फाग गायन के साथ-साथ फूलों की वर्षा से सभी को सराबोर किया जाएगा।
पंडित हरीश तिवारी ने जानकारी देते हुए बताया कि नगर तथा आसपास से आंमत्रित मंडलों द्वारा सुंदर सरस भक्तिमय फाग गीतों का गायन किया जाएगा, आयोजन में पंडित प्रदीप मिश्रा, पंडित गया प्रसाद जोशी, पंडित चेतन उपाध्याय, शिव प्रसाद भावसार, रघुवीर सिंह ठाकुर, रविन्द्र सोनी एवं दयालाल शाक्य अपनी मधुर फाग सुनाएंगे। मंदिर के पुजारी एवं व्यवस्थापक पंडित रामचंद्र, पंडित सुरेश चंद्र, पंडित शेषनारायण तिवारी ने सभी नगर वासियों भक्तजनों से कार्यक्रम में शामिल होने तथा आनंद लेने की अपील की है। आयोजन में रंग-गुलाल का उपयोग नहीं किया जाएगा। निवेदन है कि कोई भी भक्त गुलाल साथ में न लावे, केवल फूलों की होली होगी।

माता, पिता और गुरु की सेवा महत्वपूर्ण है-डॉ.रामकमल दास वेदांती

सीहोर। जिन पर माता-पिता तथा गुरू की कृपा नही होती, उन्हें किसी धर्म के पालन सें सम्मान नही मिलता। उनके सभी कर्म निष्फल होते है। अत: जब तक माता-पिता और गुरू जीवित रहे, तब तक उनकी सेवा ही करें और किसी अनुष्ठान की आवश्यकता नही है। यही कर्तव्य है, यही साक्षात धर्म है। उक्त उद्गार गत दिवस चाणक्यपुरी में समाजसेवी प्रदीप सक्सेना के निवास पर आयोजित सत्संग के दौरान काशी से पधारे डॉ.रामकमल दास वेदांती महाराज ने यहां पर आए भक्तों और श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कहे।  डॉ.रामकमल दास जी ने कहा कि कार्य करने पर एक प्रकार की आदत का भाव उदय होता है। आदत का बीज बोने से चरित्र का उदय और चरित्र का बीज बोने से भाग्य का उदय होता है। वर्तमान कर्मों से ही भाग्य बनता है, इसलिए सत्कर्म करने की आदत बना लें। चित्त में विचार, अनुभव और कर्म से संस्कार मुद्रित होते हैं। व्यक्ति जो भी सोचता तथा कर्म करता है, वह सब यहां अमिट रूप से मुद्रित हो जाता है। व्यक्ति के मरणोपरांत भी ये संस्कार जीवित रहते हैं। इनके कारण ही मनुष्य संसार में बार-बार जन्मता-मरता रहता है। इस अवसर पर सक्सेना परिवार द्वारा गुरुदेव की पूर्ण विधि-विधान से सेवा की गई। श्री सक्सेना ने बताया कि डॉ.रामकमल दास वेदांती महाराज आगामी 24 मार्च में अमेरिका के शिकागो  में होने जा रही संगीतमय श्रीराम कथा को संबोधित करेंगे।

स्कूल में हुआ रंगपर्व का रंगारंग आयोजन










नन्हें मुन्ने विद्यार्थियों ने खेली उत्साह से होली
सीहोर। परीक्षा समाप्त होते ही स्कूली विद्यार्थियों ने आज उत्साह के साथ होली खेली, इन्होंने एक दूसरे को गुलाल लगाकर रंग पर्व के रंगारंग आयोजन का जी भर के आनंद उठाया। सभी विद्यार्थियों को गुलाल के पैकेट प्रदान कर होली उल्लास उमंग के साथ मनाने की प्रेरणा दी गई।
जिले के पहले आडियो विजुअल ब्ल्यू बर्ड स्कूल में शुक्रवार को वार्षिक परीक्षाएं समाप्त होने के साथ ही नन्हें मुन्ने विद्यार्थियों को उल्लास उमंग के प्रतीक गुलाल को लगाकर होली का त्यौहार सद्भाव के साथ मनाए जाने की प्रेरणा दी गई। सभी विद्यार्थियों को उनकी शिक्षिकाओं ने गुलाल लगाकर होली की शुभकामनाओं के साथ ही गुलाल के पैकेट भी भेंट किए। विद्यार्थियों ने भी एक दूसरे को गुलाल लगाकर होली की शुभकामनाओं को आदान प्रदान किया गया। कक्षा नर्सरी से कक्षा आठवीं तक के विद्यार्थियों ने रंग पर्व के इस रंगारंग आयोजन का भरपूर आनंद उठाया। ब्ल्यू बर्ड स्कूल के चेयरमेन बसंत दासवानी ने बताया कि स्कूल में रंग पर्व आयोजन का उद्श्य बच्चों को भारतीय संस्कृति और परम्पराओं से अवगत कराना है।

कैदी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

सीहोर। उप जेल में एक 50 वर्षीय ग्रामीण कैदी की गुरुवार की रात संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु हो गई। पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है। कलेक्टर संदीप यादव ने जांच के आदेश दिए है। पुलिस से मिली जानकारी अनुसार ग्राम मुस्करा निवासी हरिप्रसाद आत्मज पूनमचंद गत दिवस 23 फरवरी को दहेज प्रताडऩा के मामले में उपजेल में रखा गया था। जहां  गुरुवार की रात को उसे खून से लथपथ हालात में जिला अस्पताल लाया गया जहां उपचार के दौरान उसकी मृत्यु हो गई। बताया जाता है कि उसके सिर से खून निकल रहा था। कैदी को आज सुबह पोस्टमार्टम कराया गया है, कलेक्टर संदीप यादव ने मामले की जांच के आदेश दे दिए है।

सड़क हादसे में दो लोगों की दर्दनाक मौत

प्रतिमा का आर्डर देकर लौट रहे थे ग्रामीण
सीहोर। गुरुवार की देर रात भोपाल-इन्दौर राजमार्ग पर हुए हादसे में दो लोगों की दर्दनाक मृत्यु हो जाने से ग्राम में शोक का वातारण बन गया। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच कार्य शुरू कर दिया है। पुलिस से मिली जानकारी अनुसार आष्टा तहसील के ग्राम बनपीरपुरा निवासी 45 वर्षीय कैलाश आत्मज रुपसिंह और 55 वर्षीय मूलसिंह आत्मज पूना जी ग्राम के मंदिर के लिए भगवान श्रीराम की प्रतिमा का आर्डर देने के लिए गए थे बताया जाता है कि रात करीब एक बजे के बाद जब यह लोग जीप से वापस लौट रहे थे तभी आष्टा के निकट जीप पलट जाने से दोनों गंभीर रुप से घायल हो गए जिन्हें इलाज के लिए सीहोर अस्पताल लाया जा रहा था तभी रास्ते में इनकी मृत्यु हो गई। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच कार्य शुरू कर दिया है।

राम शब्द की ध्वनि हमारे जीवन के सभी दुखों को मिटाने की ताकत रखती है। डॉ.रामकमल दास वेदांती महाराज

 सीहोर। कलियुग को सभी कोसते हैं क्योंकि यहां सभी मानव क्रोध, राग, द्वेष और वासना से ग्रस्त है। मगर यह भी सच है कि केवल कलियुग ही वह काल है जिसमें किसी भी अवस्था में केवल प्रभु श्रीराम का सुमिरन करते हुए प्रभु को पाया जा सकता है। कलियुग में मानव बडी सरलता से भगवान श्रीराम का नाम लेते हुए जीवन के भवसागर को पार कर मोक्ष को प्राप्त कर सकता है। उक्त उद्गार सिंधी धर्मशाला के समीप विशाल मैदान पर संगीतमय श्रीराम कथा के अंतिम दिन यहां पर मौजूद एक महिला के प्रश्न पर उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि एक साधे सब सदे, भगवान श्रीराम का नाम ही सभी दुखों और पापों से हमें मुक्त कर देता है। उन्होंने आगे कहा कि जैसे भरत ने चरण पादुका की सेवा की है। राम चरण जहां पड़ते है, वहां स्थान पवित्र हो जाता है। इस अवसर पर स्वामी जी ने गुरुवार को केवट द्वारा भगवान श्रीराम को रिझाने वाले भजन का गायन करते हुए कहा कि जरा देर ठहरों राम, अभी हमने जी भर के देखा नही है।
स्वामी जी ने कहा कि राम यह शब्द दिखने में जितना सुंदर है उससे कहीं अधिक महत्वपूर्ण है इसका उच्चारण। राम कहने मात्र से शरीर और मन में अलग ही तरह की प्रतिक्रिया होती है जो हमें आत्मिक शांति देती है। हजारों संत और महात्माओं ने राम का नाम जपते-जपते मोक्ष को पा लिया है। कहते हैं कि बलशालियों में सर्वाधिक बलशाली राम है, लेकिन राम से भी बढ़कर श्रीराम जी का नाम है। हनुमान, लक्ष्मण, सुग्रीव, रावण से लेकर तुलसी तक सभी राम का नाम ही जपते रहे हैं। राम नाम की महिमा ही कुछ ऐसी है कि इसको जपने से संपूर्ण मानसिक ताप मिट जाते हैं। मृत्यु के बाद भी साथ राम की सत्ता को नकारने वाले तत्व नहीं जानते कि जब मृत्युकाल होगा तब तुम्हारे विचार, क्रोध, पद, दंभ, साथी और मित्र सब यहीं छूट जाएंगे। गुरुवार को स्वामी जी ने कहा कि सबसे बड़ा ज्ञानियों का केन्द्र काशी है। काशी में अधिकांश लोग ज्ञानी रहते है। इसलिए नही कह रहा कि मैं वहां पर रहता हूं। मैं इसलिए कह रहा हूं कि जब से इस संसार का उदय हुआ है। तबसे यहां पर ज्ञान का केन्द्र काशी रहा है।
स्वामी जी ने आगे कहा कि राम शब्द की ध्वनि हमारे जीवन के सभी दुखों को मिटाने की ताकत रखती है। यह हम नहीं ध्वनि विज्ञान पर शोध करने वाले वैज्ञानिक बताते हैं कि राम नाम के उच्चारण से मन शांत हो जाता। कलियुग में यही सहारा  कहते हैं कि कलयुग में सब कुछ महंगा है, लेकिन राम का नाम ही सस्ता है। सस्ता ही नहीं सभी रोग और शोक की एक ही दवा है राम। वर्तमान में ध्यान, तप, साधना और अटूट भक्ति करने से भी श्रेष्ठ राम का नाम जपना है। भागमभाग जिंदगी, गलाकाट प्रतिस्पर्धा, धोखे पर धोखे, माया और मोह आदि सभी के बीच मानवता जब हताश और निराश होकर आत्महत्या करने लगती है तब सिर्फ राम नाम का सहारा ही उसे बचा सकता है। इसलिए राम की महिमा निराली है। संगीतमय श्रीराम कथा के अंतिम दिन विधायक रमेश सक्सेना सह परिवार, वरिष्ठ भाजपा राजेन्द्र सिंह राजपूत, रमाकांत भार्गव, नगर पालिका अध्यक्ष नरेश मेवाड़ा, देवेन्द्र सक्सेना, प्रदीप सक्सेना, अमर सिंह मीणा, प्रकाश व्यास काका, अशोक सिसौदिया, सुशील ताम्रकार, राधेश्याम कसान्या, माखन परमार, प्रदीप गौतम, विशाल परदेशी, रामचंदर पटेल, नंदकिशोर विश्वकर्मा, सुदीप व्यास, अमित कटारिया, तुलसीराम मेवाड़ा, मुकेश मेवाड़ा, महेन्द्र वर्मा, मनोज जैन, पवन जैन और पप्पू आदि शामिल थे। कथा के अंतिम दिन बड़ी संख्या में यहां पर उपस्थित भक्तों और श्रद्धालुओं ने भगवान श्रीराम की आरती उतरी और यहां पर प्रसादी का वितरण किया।


Thursday, March 17, 2011

साठ दिवसीय क्रिकेट प्रशिक्षण शिविर की तैयारियां शुरू

27 मार्च से आयोजित किया जाएगा ग्रीष्मकालीन क्रिकेट शिविर
सीहोर। इन दिनों पूरे देश की गली-गली,  मोहल्ले-मोहल्ले में सहित चौराहे-तिराहे पर वल्र्ड कप क्रिकेट का खुमार चढ़ा हुआ है। हर तरफ क्रिकेट का जुनून छाया हुआ है। इस बीच हर साल की तरह इस साल भी आगामी 27 मार्च से जिला क्रिकेट एसोसिएशन के तत्वाधान में स्थानीय बीएसआई हेल्थ एंड स्पोट्र्स मैदान पर साठ दिवसीय ग्रीष्म कालीन क्रिकेट शिविर का आयोजन किया जाना है। इसके लिए क्रिकेट का मैदान में तैयारियां शुरू हो गई है।
इस संबंध में जिला क्रिकेट एसोसिएशन के मीडिया प्रभारी मनोज दीक्षित मामा ने बताया कि इस वर्ष साठ दिवसीय ग्रीष्म कालीन क्रिकेट शिविर में प्रदेश स्तरीय क्रिकेट कोचों के साथ आधुनिक संसाधनों के द्वारा समय पर यहां पर प्रशिक्षण लेने वाले प्रशिक्षणार्थियों को गेंदबाजी, बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण की बारीकियों सिखाया जाएगा।
उन्होंने बताया कि इसके लिए बीएसआई क्लब के चेयरमैन प्रमोद पटेल ने साठ दिवसीय प्रशिक्षण शिविर के लिए एक समिति का गठन किया है। जिसमें क्रिकेट कोच आशीष शर्मा को शिविर का प्रभारी और सहायक प्रभारी मदन कुशवाहा, राष्ट्रीय क्रिकेट खिलाड़ी मयंक जैन, अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी मुनीस अंसारी, चेतन मेवाड़ा, महेन्द्र शर्मा मंदु, हेमंत केशरिया, गौरव खरे, अतुल कुशवाहा आदि को शामिल किया गया है। उन्होंने बताया कि हर साल लगने वाले ग्रीष्म कालीन क्रिकेट शिविर का उद्देश्य जिले की प्रतिभाओं को उच्च स्तरीय प्रतियोगिता में खेलने का अवसर देने और उनमें निखार लाने का अहम मकसद है। आगामी 27 मार्च से साठ दिवसीय शिविर का शुभारंभ किया जाएगा। इसके लिए मैदान पर तैयारियां शुरू हो गई है।

मनुष्य का अंतिम सहारा भगवान ही होता है। डा.रामकमल दास वेदांती महाराज

सीहोर। सारे संसार को भगवान ने धारण कर रखा है। राष्ट्र, समाज, परिवार और व्यक्ति का भार भगवान ने उठा रखा है। भगवान का जन्म धर्म की स्थापना के लिए और अधर्म का विनाश करने के लिए हुआ है। मनुष्य का अंतिम सहारा भगवान ही होता है। व्यक्ति पर जब कोई भी संकट होता है तो वह केवल और केवल भगवान की शरण में ही जाता है। मनुष्य को नित्य भगवान की पूजा-अर्चना करते रहना चाहिए। क्योंकि दाता एक राम, भिखारी सारी दुनियां उक्त विचार सिंधी धर्मशाला के समीप चल रही संगीतमय श्रीराम कथा के आठवें दिन यहां पर बड़ी संख्या में आए भक्तों और श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए डॉ.रामकमलदास वेदांती महाराज ने कहे। बुधवार को उन्होंने हनुमान जी की भगवान श्रीराम से विदाई का वर्णन करते हुए कहा कि हर तरफ विदाई की वेला चल रही थी। ऐसे में राम भक्त हनुमान की विदाई कौन करे। सभी धर्म संकट में है। किसी की हिम्मत नही हो रही थी। इस अवसर पर स्वामी जी ने कहा कि राम भक्त हनुमान के दिल में श्रीराम रहते है। उन्होंने शरणागत के लक्षण बताए। इस अवसर पर दरबार हजारों देखे है, लेकिन ऐसा कोई दरबार नही के संगीतमयी भजन पर लोगों ने परम आनंद लिया। इस अवसर पर स्वामी जी ने कहा कि दाता एक राम भिखारी, सारी दुनियां। संसार में दाता एक ही है। वह है श्रीराम। स्वामी जी ने साधना की सफलता के बारे में बताया। उन्होंने भरत की साधना के बारे में उदाहरण देते हुए कहा कि राजा भरत की साधना क्यों पूरी नही हो रही थी। साधना को सफलता में तब्दील करने का मंत्र बताते हुए उन्होंने कहा कि साधना करने वालों को अपनी साधना गुप्त रखना चाहिए। उसका प्रदर्शन करने से साधना भंग हो जाती है। सफल नही हो पाती है। डॉ.रामकमल दास वेदांती महाराज ने कहा कि व्यक्ति अज्ञान व अहंकार को छोड़ दे तो वह अपना जीवन सुख-शांति से व्यतीत कर सकता है। व्यक्ति को प्रभु की कृपा का अनुभव करते रहना चाहिए। समाज व राष्ट्र के लिए सबको अपना-अपना योगदान देना चाहिए। मनुष्य को जीवन में हमेशा अच्छे लोगों का ही साथ देना चाहिए। मनुष्य जीवन में उत्तम कर्म का होना अत्यंत आवश्यक है। उसे अच्छे कर्म करना चाहिए जिससे उत्तम भाग्य बन सके। मनुष्य के जीवन में लोभ मोह के कारण पाप होते हैं। पाप ही मनुष्य के दुखों का कारण है, इसलिए लोभ मोह से बचें।
बुधवार को स्वामी जी ने कहा कि गुरू की आज्ञानुसार भरत ने पिता का दाह संस्कार एवं विधिवत संपूर्ण अन्त्येष्टि क्रिया की। उसके पश्चात सभी को लेकर अपने भाइयों की तलाश में भटक रहे थे। भगवान श्रीराम का विश्राम स्थल देखकर भरत बहुत दुखी हुए। भरत के हृदय में गहरा दुख हो रहा था। दुखों के साथ आगे जा रहे थे। गंगा किनारे पहुंचकर केवट से श्रीराम के बारे में पूछा और उसने राम-लक्ष्मण माता सीता का विशद वर्णन करते हुए कहा। मैं धन्य हो गया, कृतकृत्य हो गया। उनकी कृपा से मेरा जन्म सफल हो गया। स्वामी जी ने भरत के बारे में अनेक शिक्षा दी।
साधना और आराधना के बारे में
स्वामी जी ने भगवान की आराधना, साधना, भगवद नाम स्मरण जप-तप भगवद प्राप्ति के सरल साधन हैं। पशु-पक्षी को आत्मज्ञान और ब्रह्मज्ञान प्राप्ति करना संभव नहीं है। लेकिन हम सौभाग्यशाली हैं कि हमें मनुष्य जन्म द्वारा यह अवसर मिला है। समय रहते मानव जन्म की उपयोगिता को समझो और ऐसे कर्म करो जो हमारी मति और गति को सुधारें और अगला जन्म भी सफल हो सके। बुधवार को विधायक रमेश सक्सेना सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे। गुरुवार को संगीतमय श्रीराम कथा का अंतिम दिन है।

Wednesday, March 16, 2011

सीहोर एक्‍सप्रेस का 16 मार्च का अंक पढ़ने के लिये नीचे तस्‍वीर पर क्लिक करें ।

सीहोर एक्‍सप्रेस का 16 मार्च का अंक पढ़ने के लिये नीचे तस्‍वीर पर क्लिक करें ।

Untitled-1 copy

Tuesday, March 15, 2011

ट्रेन स्टापेज की मांग मानने के बाद अनशन समाप्त

सीहोर। स्थानीय रेलवे स्टेशन पर सामाजिक कार्यकर्ता नौशाद खान द्वारा किया जा रहा आमरण अनशन आज दोपहर में स्टापेज की मांग मान लिए जाने के बाद समाप्त हो गया। दो ट्रेनों का स्टापेज करीब छह माह के बाद सीहोर में होने लगेगा। ज्ञातव्य है कि सीहोर स्टेशन से मुॅह चिढ़ाती निकलने वाली ट्रेनों के स्टापेज की मांग को लेकर सामाजिक कार्यकर्ता नौशाद खान द्वारा आमरण अनशन प्रारंभ कर दिया गया था। उनके द्वारा अनशन प्रारंभ किए जाने के बाद आज सुबह से ही प्रशासनिक हलचल प्रारंभ हो गई थी। बताया जाता है कि प्रशासनिक अधिकारियों के हस्तक्षेप से दोपहर में रतलाम से आए अधिकारियों ने डीआरएम से फोन पर बातचीत कराई। इस बातचीत में डीआरएम ने आश्वासन दिया है कि छह माह में सीहोर स्टेशन पर इंदौर भोपाल इंटरसिटी और इंदौर जबलपुर ओवर नाइट एक्सप्रेस का स्टापेज होने लगेगा। इस आश्वासन के बाद नौशाद खान ने अपना अनशन समाप्त कर दिया।

संतों के आशीर्वाद से मिलता है परमात्मा-बाल संत

सीहोर। श्रद्धालुजनों की उत्सुकता, कौतूहल और जिज्ञासा का केन्द्र बना हुआ है, जिसकी वजह है सिंधी धर्म शाला के समीप जारी श्रीराम कथा में विराजमान दस वर्षीय बाल  गोपाल माधव शर्मा महाराज। मध्यप्रदेश के भिंड जिले के अंतर्गत आने वाले भगवंतपुरा नामक स्थान के इस बाल साधु ने आज से दो वर्ष पूर्व मात्र आठ वर्ष की आयु से ही सन्यास ग्रहण कर लिया था। बालक साधु के माता-पिता डॉ.रामकमल दास वेदांती महाराज के अनन्य भक्त थे। उन्हीं की सहमति से आज से दो वर्ष पूर्व इस बाल साधु ने उनका शिष्यत्व ग्रहण किया और अब गोपाल माधव शर्मा महाराज के रूप में अपने जीवन का नवीन अध्याय शुरू किया। इन दिनों विधायक रमेश सक्सेना के द्वारा जारी सिंधी धर्मशाला में आयोजित की जा रही संगीतमय श्रीराम कथा में इस बाल साधु के दर्शन के लिए महिलाओं-पुरुषों सहित सभी श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ती है और बाल साधु एक वयस्क साधु की तरह भक्तों व श्रद्धालुओं को धर्म और गौ माता के बारे में जानकारी दे रहा है। श्रृद्धालुओं का कहना है कि उनके मुख पर साधुता का तेज भी परिलक्षित होता है और बालसुलभ निश्छलता भी। इस संबंध में जानकारी देते हुए श्रीराम कथा के मीडिया प्रभारी मनोज दीक्षित मामा ने बताया कि दस वर्षीय इस बालक का जन्म अप्रैल 2001 में मध्यप्रदेश के जिला भिन्ड भगवंत पुरा में पंडित बृजेश शर्मा के जहां पर हुआ था। उनके बाबा पंडित विश्वनाथ शर्मा धार्मिक कथाओं और धार्मिक आयोजनों में इस बालक को ले जाते थे। दो वर्ष पूर्व बालक डॉ.रामकमल दास वेदांती महाराज के कारण बालपन छोड़कर अध्यात्म के मार्ग में प्रवेश कर गया। अब उसने सभी दुनिया के रिश्ते त्यागकर गुरू डॉ.रामकमल दास वेदांती महाराज को अपना सबकुछ समर्पित कर उनका शिष्यत्व अपना लिया है।मंगलवार को विधायक रमेश सक्सेना के निवास पर आए बड़ी संख्या में आए भक्तों से कहा कि जबसे भारत के विद्यार्थी गीता, गुरुवाणी, रामायण की महिमा भूल गये, तबसे वे पाश्चात्य संस्कृति के अंधानुकरण के शिकार बन गये। नहीं तो विदेश के विश्वविख्यात विद्वानों को भी चकित कर दे ऐसा हौसला भारत के नन्हें-मुन्हें बच्चों में था।
उन्होंने विद्यार्थियों को अपने संदेश में कहा कि अपने जीवन में हजार-हजार विघ्न आयें, हजार बाधाएँ आ जायें लेकिन एक उत्तम लक्ष्य बनाकर चलते जाओ। देर सवेर तुम्हारे लक्ष्य की सिद्धि होकर ही रहेगी। विघ्न और बाधाएँ तुम्हारी सुषुप्त चेतना को, सुषुप्त शक्तियों को जागृत करने के शुभ अवसर हैं।

ट्रेनों का स्टापेज जरूरी


सीहोर कांग्रेस सेवादल के जिलाध्यक्ष एवं नगर पालिका परिषद के पूर्व अध्यक्ष राकेश राय ने कहा है कि सीहोर जिला मु यालय के रेलवे स्टेशन पर सभी यात्री गाडिय़ों का स्टापेज होना चाहिए। आज उन्होंने अमरण अनशन पर बैठे कांग्रेस नेता एवं समाजसेवी नौशाद खान की मांगो का समर्थन किया। जानकारी के अनुसार कल से समाजसेवी नौशाद खान ने शहर हित को देखते हुए रेलवे स्टेशन के सामने अमरण अनशन शुरू किया है। उनकी मांग है कि स्थानीय रेलवे स्टेशन पर जबलपुर-इन्दौर आँवर नाईट एक्सप्रेस, इन्दौर-हबीबगंज इंटरसिटी, अहिल्यानगरी एक्सप्रेस, जोधपुर-पुरी एक्सप्रेस, इन्दौर-हावड़ा शिप्रा एक्सप्रेस, त्रिशातब्री एक्सप्रेस, इन्दौर-नागपुर, इन्दौर-पटना एक्सप्रेस, इन्दौर-राजेन्द्रनगर एक्सप्रेस,  अजमेर-हैदराबाद, अजमेर-कोलकाता
और बलसाट-पुरी टे्रनों को रोका जाना चाहिए। आज नगर पालिका परिषद के पूर्व अध्यक्ष राकेश राय ने स्थानीय रेलवे स्टेशन के सामने आंदोलन पर बैठे नौशाद खान को धन्यवाद दिया और उन्हें उनके आंदोलन की कामयाबी के लिए शुभकामनाएं भी दी, श्री राय ने बताया कि जिला मु यालय पर ट्रेनों का स्टापेज होना चाहिए इसके लिए उन्होंने भी कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सुरेश पचौरी को पूर्व में ही पत्र लिखा है। सोमवार को धरना स्थल पर पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष राकेश राय सहित युवा कांग्रेस जिलाध्यक्ष राजकुमार जायसवाल, एनएसयूआई जिलाध्यक्ष राजीव गुजराती, पार्षद रिजवान पठान, पवन राठौर, किसान नेता घनश्याम यादव, वरूण शर्मा, राशिद मंसूरी, सुनील राठौर, नबाब मुन्नवर खान, मुकेश राय, दीपक बोयत आदि मौजूद रहे। देखा जा रहा है कि समाजसेवी नौशाद खान के आंदोलन को समर्थन मिल रहा है। जारी रहेगा आंदोलन : शहर हित को देखते हुए रेलवे स्टेशन के सामने अमरण अनशन पर बैठे समाजसेवी एंव कांग्रेस नेता नौशाद खान ने बताया कि उनका यह आंदोलन लगातार जारी रहेगा। इस दौरान धरने पर पार्षद अनूप चौधरी, रिजवान पठान सहित समाजसेवी आरिफ अली खान, सगीर खान, अशवाक खान, रूप सिंह मालवीय, महेश यादव, शोएब सलाम, प्रहलाद भावसार, नरेन्द्र सीठा और बड़ी सं या में गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे। श्री खान ने बताया कि उनका यह आंदोलन मांगे पूरी होने तक जारी रहेगा।

Sunday, March 13, 2011

कृषक की निर्मम हत्या

हाथ पैर बांधकर लूटा और हत्या कर दी
सीहोर। ग्राम मुंगावली में एक कृषक की हत्या का मामला आज सुबह उजागर होने से ग्राम में ही नहीं आसपास के एक दर्जन से अधिक ग्रामों में सनसनी का वातावरण निर्मित हो गया। पुलिस ने मामला कायम कर लिया है प्रथम दृष्टया से मामला लूट को लेकर हत्या किए जाने का प्रतीत हो रहा है।
पुलिस से मिली जानकारी अहमदपुर थानान्र्तगत ग्राम मुंगावली निवासी 60 वर्षीय छीतरसिंह आत्मज किशन लाल गुर्जर रोजाना की भांति अपने खेत स्थित  खेत पर शनिवार की रात को सोया था। बताया जाता है कि रविवार की सुबह जब उसका पुत्र जगदीश खेत पर गया तो दरवाजा खुला हुआ था अंदर जाने पर उसके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई क्योंकि उसके पिता छीतर सिंह खून से लथपथ अवस्था में अपने पलंग पर पड़े हुए थे। बताया जाता है कि बदमाशों ने उसके हाथ पैर बांध दिए थे और वह आवाज नहीं लगा सके इसलिए उसके मुंह में कपड़ा भी ठूंस दिया था बाद में उसके सिर पर धारदार हथियारों से हमला कर उसको मौत के घाट उतार दिया जगदीश से यह खबर मिलते ही ग्रामीणों की वहां पर भीड़ एकत्रित हो गई। बताया जाता है कि मृतक के पास वाले कमरे में करीब एक दर्जन से भी अधिक बकरियां बंद थी वो भी गायब मिली है जिसके कारण अंदाजा लगाया जा रहा है कि बदमाश अपने साथ बकरियां भी ले गए होंगे। बहरहाल पुलिस ने हत्या का मामला कायम कर लिया है पर इन पंक्तियों के लिखे जाने तक बदमाशों का सुराग नहीं लग सका है।

श्रवण के माता-पिता का श्राप के कारण दशरथ की मृत्यु हुई -डॉ.रामकल दास वेदांती महाराज

संगीतमय श्रीराम कथा में आठ वर्षीय बालक के प्रवचन भी जारी
सीहोर। शाम का समय था पर न जाने क्यों राज दशरथ के मन में शिकार पर जाने का विचार उठा और धनुष बाण ले रथ पर सवार हो शिकार के लिये चल दिए। जब सरयू नदी के तट के साथ-साथ रथ में सवार होकर जा रहे थे। अचानक शब्द सुनाई पड़ा मानो वन में हाथी गरज रहा हो। किन्तु वास्तव में वह शब्द जल में डूबते हुये घड़े का था। हाथी को मारने के लिये मैंने तीक्ष्ण शब्दभेदी बाण छोड़ा। जहाँ वह बाण गिरा वहीं जल में गिरते हुये मनुष्य के मुख से निकला, हाय मैं मरा! मुझ निरपराध को किसने मारा? हे पिता! मे माता! अब तुम जल के बिना प्यासे ही तड़प-तड़प कर मर जाओगे। हाय किस पापी ने एक ही बाण से मेरी और मेरे माता-पिता की हत्या कर डाली। उक्त उद्गार सिंधी धर्मशाला के समीप हो रही संगीतमय श्रीराम कथा के चौथे दिन शनिवार को डॉ.राम कमल दास वेदांती महाराज ने कहे। यहां पर भिंड से पधारे आठ वर्षीय बालक गोपाल माधव शर्मा ने रामचंद्र के बालपन के बारे में यहां पर उपस्थित श्रद्धालुओं को बताया। श्रीराम कथा के दौरान शनिवार को सर्व प्रथम श्रीराम चंद्र कुपालु भजु मन, हरण भवभय दारुणम। नव कंज लोचन, कंज मुख, कर कंज पद कंजारुणम और सीता-राम-राजाराम के भजनों के संगीतमय भजनों से शुरूआत हुई। इस अवसर पर कैकई के बारे में, राम भरत के बारे, पुत्र का धर्म क्या है। माता-पिता के प्रेम के बारे में स्वामी जी ने चर्चा की।
स्वामी जी ने आगे कहा कि श्रवण के पिता के यह वचन सुन कर डरते-डरते कहा, महामुने! मैं अयोध्या का राजा दशरथ हूं। मैंने हाथी के धोखे में अंधकार के कारण तुम्हारे निरपराध पुत्र की हत्या कर दी है। अज्ञान के कारण किये हुये इस पाप से मैं बहुत दु:खी हूँ। अब उसके दण्ड पाने के लिये तुम्हारे पास आया हूँ। हे सुभगे! पुत्र की मृत्यु का समाचार सुन कर दोनों विलाप करते हुये कहने लगे  यदि तुमने स्वयं आकर अपना अपराध स्वीकार न किया होता तो मैं अभी शाप देकर तुम्हें भस्म कर देता और तुम्हारे सिर के सात टुकड़े कर देता। अब तुम हमें हमारे श्रवण के पास ले चलो। मैं उन्हें लेकर जब श्रवण के पास पहुँचा तो वे उसके मृत शरीर पर हाथ फेर-फेर कर हृदय-विदारक विलाप करने लगे। फिर अपने पुत्र को जलांजलि देकर मुझसे बोले हे राजन जिस प्रकार हम पुत्र वियोग में मर रहे हैं, उसी प्रकार तुम भी पुत्र वियोग में घोर कष्ट उठा कर मरोगे। इस प्रकार शाप देकर उन्होंने अपने पुत्र की चिता बनाई और फिर स्वयं भी वे दोनों अपने पुत्र के साथ ही चिता में बैठ जल कर भस्म हो गये।
स्वामी जी ने आगे कहा कि श्रवण के पिता के यह वचन सुन कर राजा दशरथ ने डरते-डरते कहा, महामुने! मैं अयोध्या का राजा दशरथ हूं। मैंने हाथी के धोखे में अंधकार के कारण तुम्हारे निरपराध पुत्र की हत्या कर दी है। अज्ञान के कारण किये हुये इस पाप से मैं बहुत दु:खी हूँ। अब उसके दण्ड पाने के लिये तुम्हारे पास आया हू। पुत्र की मृत्यु का समाचार सुन कर दोनों विलाप करते हुये कहने लगे यदि तुमने स्वयं आकर अपना अपराध स्वीकार न किया होता तो मैं अभी शाप देकर तुम्हें भस्म कर देता और तुम्हारे सिर के सात टुकड़े कर देता। अब तुम हमें हमारे श्रवण के पास ले चलो। मैं उन्हें लेकर जब श्रवण के पास पहुंचा तो वे उसके मृत शरीर पर हाथ फेर-फेर कर हृदय-विदारक विलाप करने लगे। फिर अपने पुत्र को जलांजलि देकर मुझसे बोले राजा दशरथ, जिस प्रकार हम पुत्र वियोग में मर रहे हैं, उसी प्रकार तुम भी पुत्र वियोग में घोर कष्ट उठा कर मरोगे। इस प्रकार शाप देकर उन्होंने अपने पुत्र की चिता बनाई और फिर स्वयं भी वे दोनों अपने पुत्र के साथ ही चिता में बैठ जल कर भस्म हो गये। इसके बाद राजा दशरथ की मृत्यु पुत्र के वियोग में हुई।
लक्ष्मण शेषनाग है
स्वामी जी ने कहा कि रामायण में विष्णु अवतार भगवान श्री राम के छोटे भाई लक्ष्मण और महाभारत में श्रीकृष्ण के बड़े भाई बलराम को शेषनाग का अवतार बताया गया है। पृथ्वी शेषनाग के सिर पर रखी है। इसलिए ऐसा माना जाता है कि पाप कर्म बढ़ते हैं तो शेषनाग क्रोधित होकर फन हिलाते हैं और इससे पृथ्वी भी डगमगा जाती है। इस अवसर पर स्वामी जी ने कैकई और लक्ष्मण के बारे में वर्णन किया।

Saturday, March 12, 2011

वर्ल्‍ड कप का बुखार बरकरार

 सीहोर। पूरी दुनिया की भांति सीहोर के लोगों को भी वल्र्ड कप क्रिकेट का बुखार चढ़ा हुआ नजर आ रहा है। हर तरफ मैच की चर्चाओं का वातावरण देखने का मिल रहा है। मैच का असर लोगों के घरों पर भी दखल देता हुआ नजर आया है मैच के दौरान घरों में सीरियल की जगह मैच ने ले ली है, यहीं नहीं बर्थ डे पर बनने वाले केक पर भी वल्र्ड कप का असर दिखाई दिया है। शहर के प्रमुख केक विक्रेता कालू चावला ने बताया कि वल्र्ड कप के दौरान वल्र्ड कप केक की सबसे अधिक डिमांड  बनी हुई है, इसमें क्रिकेट का बल्ला और गेंद बना हुआ है। जिससे अन्य ग्राहकों द्वारा भी पसंद किया जा रहा है।

वर्ल्‍ड कप मैंच देखने को रवाना हुए

हरीश राठौर राजू कौशल रवि शर्मा शनिवार को नागपुर में होने वाले भारत दक्षिण अफ्रिका के वर्ल्‍ड कप मैंच देखने को रवाना हुए

जब इस देश के एक मुख्यमंत्री सार्वजनिक रूप से एक प्रांत में हमारे देश का झंडा लहराने के लिए मना कर रहा हो उस देश का भगवान ही मालिक है।

 डॉ.रामकमल दास वेदांती महाराज
सीहोर। कैकई श्रीराम के बारे में कथा के दौरान डॉ.रामकमल दास वेदांती महाराज काशी ने कहा कि कैकई की बुराई सभी करते है। कैकई श्रीराम के महान कार्य बनने के लिए अपयश-कलंक को स्वीकार कर लेती है। विश्व कल्याण के लिए कैकई ने महान कार्य किया। कैकई के पिता राजा केक थे। जिसकी पुत्री कैकई थी। उस समय भी इस भूतल पर रावण और राक्षसों और दुष्टों का आतंक था। जिसकी समाप्ति के लिए कैकई का जन्म हुआ। रावण ने 32 चौकड़ी तक राज्य किया। रावण, राक्षसों और दुष्टों से आतंक के कारण यह धरती पर पाप बढ़ता जा रहा था। कैकई की बनाई फिल्म में भगवान श्रीराम ने अभिनय कर राक्षसों का संहार किया और रावण के आतंक और घमंड से इस संसार को मुक्ति दिलाई। उन्होंने एक बात कहते हुए कहा कि संभल कर रहना घर में छुपे गद्दारों से कहने का तत्पर यह है कि हमारे देश में इन दिनों ऊपर से नीचे तक द्वार-द्वार में गद्दार विराजमान है। इस देश को कोई आदर्श शक्ति चला रही है। जब इस देश के एक मुख्यमंत्री सार्वजनिक रूप से एक प्रांत में हमारे देश का झंडा लहराने के लिए मना कर रहा हो उस देश का भगवान ही मालिक है। इस अवसर पर महाराज ने विश्वामित्र, राजा जनक, सुग्रीव और बालि के बारे में सुन्दर वर्णन किया। कथा के तीसरे दिन छोटे से बालक गोपाल माधव शर्मा ने दशरथ के गुणों का वर्णन कथा के दौरान किया। इस अवसर पर महाराज श्री ने मेरा मन दर्पण कहलाए का गान किया तो श्रद्धालुओं ने आनंद में नृत्य किया।
मोहि कपट छल छिद्र न भावा
शुक्रवार को डॉ.रामकमल दास वेदांती महाराज ने मोहि कपट छल छिद्र न भावा के बारे में स्पष्ट करते हुए कहा कि रामजी को सरलता एवं निश्छलता का गुण बहुत पसंद है। जो जैस है वह वैसा ही अपने-आपको उनके सामने समर्णण कर दे तो वे उसका सर्वाधिक कल्याण कर देते है और उसे अपना बना लेते है। भक्त हो या पापी, उनके सामने जाते ही सब छल कपट और छिद्र भूल जाता है। उसे अपने असली रूप में आना ही पड़ता है और जहां प्राणी अपना असली रूप उनके सामने लाया, राम जी प्रसन्न होकर उसे अपनी भक्ति दे देते हैं, जन्म-जन्म के बंधन काट देते है। ऐसा क्यों नह हो, वे राम तो अपनी अन्तरात्मा ही है। उनसे कोई दुराव कैसे करेगा। चाहे कोई सबके सामने मुखौटा चढ़ाये रहे, अन्तरात्मा के सामने यह असम्भव है। यदि कोई अन्तरात्मा उसे क्षमा नही करेगा। उसे धिक्कारेगा। प्राणी को अंतरात्मा के सामने असत्य का आवरण उतारना ही पड़ता है और वह अवश्य ही पापी से धर्मात्मा बन जाता है। क्योंकि उनका उद्घोष है कि एक बार भी यदि कोई मैं आपकी शरण हूं, ऐसा कहकर मेरे प्रपन्न हो जाता है तो उसे मैं सम्पूर्ण प्राणियों से अभय कर देता हूं, यह मेरी प्रतिज्ञा है।
भारत में मर्यादा की रक्षा
डॉ.राम कमल दास वेदांती महाराज ने कथा के दौरान कहा कि भारत में मर्यादा की रक्षा करने से ही संस्कृति जिंदा बची हुई है। जहां मर्यादा खत्म हुई, वहां की संस्कृति खतरे में पड़ गई। मर्यादा की रक्षा का संदेश ही भगवान राम ने त्रेता युग में दिया है। इसको बचाने से ही भारतीय संस्कृति को बचाया जा सकता है। राम वनवास प्रसंग के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि पिता की आज्ञा वह भी केवल मौखिक शब्दों में को पूरा करने के लिए भगवान राम ने वनवासी का वेश धरकर वचनों की मर्यादा का पालन किया।
भारत का अध्यात्म कहता है
भारत का अध्यात्म कहता है कि यहां कोई अपना नही है। यहां तक कि यह शीर भी अपना नही है। अपने लिए कोई अपना नही है। यह सच है। मगर यह भी सच है कि सेवा के लिए सभी अपने है। सुख लेने के लिए यह शरीर भी अपना नही है, परन्तु सेवा के लिए पूरा संसार अपना है। सबके लिए सुख चाहने से अपने लिए सुख जल्दी मिलता है। अपने लिए सुख लाभ की चाहत है तो दूसरों का भला करते चलो। कारण कि लाभ शब्द पलट दे तो भला बनता है। उन्होंने मेरा मन दर्पण कहलाए, श्री गुरु चरण सरोज रज आदि के बारे में विस्तार से चर्चा की। संगीतमय श्रीराम कथा में बड़ी संख्या में महिलाओं और पुरुषों ने कथा का आनंद लिया।

Thursday, March 10, 2011

श्रीराम कथा कलयुग में कामधेनु के समान है-स्वामी रामकमल दास वेदांती

विराट संगीतमय श्रीराम कथा शुरू
सीहोर। श्रीराम कथा कलयुग में कामधेनु के समान है। कलिकाल में राम नाम स्मरण एवं भागवत कथा श्रवण मात्र से ही जीव कष्टों से छुटकारा पा सकता है। गोस्वामी तुलसीदासजी ने श्रीरामचरितमानस के रूप में अमृत प्रदान किया है। आज के विसंगतिपूर्ण वातावरण में अगर श्रीराम के आर्दश को अपना लिया जाए तो मानस का उद्देश्य पूरा हो जाएगा। कथा के द्वारा ही मनुष्य में सुधार हो सकता है। भगवान श्रीराम की कथा और अन्य सभी पवित्र कथाओं के जरिए ही समाज में सुधार आ सकता है। उक्त उद्गार नगर के बस स्टैंड स्थित सिंधी धर्मशाला के मैदान पर बुधवार को परम पूज्यनीय स्वामी रामकमल दास वेदांती महाराज काशी ने कहे।
बुधवार को संगीतमय शुभारंभ अवसर के पहले विधायक रमेश सक्सेना की पुत्री प्रज्ञा और प्राची गणेश वंदना की। इसके उपरांत बाल संत गोपाल पांडे ने प्रवचन किए। सर्वप्रथम विधायक रमेश सक्सेना और श्रीमती उषा सक्सेना आदि ने पूर्ण विधि विधान से पूजा अर्चना की। इसके बाद पंडित रामकमल दास वेदांती जी ने मंगलचरण और उसके बाद श्रीराम की संगीतमय प्रस्तुति गाई। रामनाम संकीर्तन, राजाराम, राम-राम-सीता-राम, राम-राम पर श्रोता मंत्र मुग्ध हो गए। इस अवसर पर स्वामी जी ने कहा कि जब परमात्मा हमारे ऊपर कृपा करता है तो संत समागम होता है और हरि कथा सुनने को मिलती है। विभिषण लंका में रहता था, लेकिन जब रावण ने विभिषण का त्याग किया और विभिषण लंका से चला गया। इस अवसर पर स्वामी जी शिव-पार्वती के विवाह के बारे में और वट वृक्ष के बारे में सुंदर उदाहरण दिए। यह बड़े सौभाग्य की बात है कि श्रीगणेश की नगरी सीहोर में बुधवार को संगीतमय श्रीराम कथा का श्रीगणेश किया गया है। उन्होंने कहा कि मानस में रामकथा में मर्यादा है। उन्होंने कहा कि विश्वास से कथा उतारने से कथा जीवन का सुधार कर देती है। श्रीराम कथा जीव के जन्म-जन्मांतर की व्यथा हर लेती है। रामकथा सुनने से जीव का संशय समाप्त हो जाता है और दुख दूर हो जाते हैं। भक्त सदैव भागवत भाव में रहता है और नाम उसकी चित्त की वृत्ति के अनुसार होता है। उन्होंने कहा कि श्रीराम के चरित्र को भगवान शिव ने अपने मानस में उतार रखा है, इसीलिए तुलसीदास ने अपने पवित्र ग्रंथ का नाम श्रीरामचरितमानस रखा। उन्होंने बताया कि राम के चरित्र को सुनने, समझने और गुनने से व्यक्ति का कल्याण निश्चित है। श्रीरामचरितमानस की रचना तुलसी ने नहीं भगवान शिव ने की है।
स्वामी जी ने श्रीराम के चरित्र की विस्तार से व्याख्या की। उन्होंने कहा कि श्रीराम के चरित्र को सुनने मात्र से मन शांत हो जाता है और आनन्द मिलता है। व्यक्ति के तीनों तापों और छहों विकारों से उत्पन्न दुखों का रामनाम नाश कर देता है। पापों को भोगों या भजन करो उन्होंने कहा कि हमे अपने पाप और पुण्य कर्म का फल अवश्य प्राप्त होता है। बुरे कर्मों के फल को या तो भोगा जा सकता है या भगवान के नाम का भजन कर कम किया जा सकता है। भगवान की भक्ति के लिए कोई नियम नही होता। हर व्यक्ति को अपनी श्रद्धा के अनुसार और जब समय मिल जाए तब भक्ति करनी चहिए लेकिन भाव सच्चा होना चाहिए। बुधवार को बड़ी संख्या में नगर सहित आस-पास के लोगों ने संगीतमय श्रीराम कथा का आनंद लिया इस अवसर पर विधायक रमेश सक्सेना, श्रीमती उषा सक्सेना, श्यामपुर मंडल अध्यक्ष देवेन्द्र सक्सेना, नगर पालिका नरेश मेवाड़ा, प्रदीप सक्सेना, माखन परमार, सुशील ताम्रकार उमेश शर्मा, राधे कासन्या, विशाल परदेशी आदि शामिल थे।

लोभ ही सब पापों की जड़

मुनि श्री 108 का पुष्प वर्षा कर स्वागत किया
सीहोर। सांसारिक जीवन में दिनों दिन बढती आपा धापी और हाय तौबा को मानव मन में दिन दूनी रात चौगुनी बढती लोभ वृत्ति का कारण बताया और कहा कि लोभ ही सब पापों की जड़ है। उक्त विचार आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के परम शिष्य मुनि श्री 108 भूतबलि सागर ने छावनी स्थित महावीर भवन पर बड़ी संख्या में धर्मप्रेमियों को संबोधित करते हुए कहे। इस संबंध में जानकारी देते हुए समाज के पदाधिकारी पवन जैन ने बताया कि नगरागमन पर मुनि श्री का पुष्प वर्षा कर बैंड-बाजे के साथ स्वागत किया गया। मुनि श्री ने जीवन के कषायों काम, क्रोध, माया, मान का समूलोच्छेदन लोभवृत्ति को समाप्त किए बिना न हो पाने का खुलासा करते हुए कहा कि चोरी, हत्या, झूठ सभी आपराधिक वृत्तियां लोभ के वशीभूत है। लोभ ही पाप का बाप है। मुनि श्री ने उत्तम शौच को पवित्रता, शूचिता, निर्मलता और सद्व्यवहार के साथ सफलता के लिए सिद्धान्तों के साथ समझौता न करने का पर्याय बताया और कहा कि जीवन में धर्म ध्यान ही लोभ से बचने का उपाय है। मुनि श्री ने अपने आशीष वचन में समाज से आह्वान किया कि वह किसी पंथ या गुट में न पड़कर भगवान जितेन्द्र के बताए गए अहिंसा धर्म के मूल सिद्धांत पर दृढ़ता से आस्था, संयम, विश्वास और श्रद्धा रखकर जैनत्व का परिचय दे मानव जीवन बहुत अनमोल है। इसकी सार्थकता को समझे। प्रवचन कार्यक्रम में प्रमुख रूप से जैन समाज के अध्यक्ष ललित जैन, महामंत्री देवचंद जैन, महीपाल जैन, पवन जैन, प्रेमीलाल, गोलू जैन, मुकेश जैन, अरुण जैन, रविन्द्र, संजय महिला मंडल से विमला जैन आदि बड़ी संख्या में महिला शामिल थी।

Wednesday, March 9, 2011

सीहोर एक्‍सप्रेस का 9 मार्च का अंक पढ़ने के लिये नीचे चित्र पर क्लिक करें

सीहोर एक्‍सप्रेस का 9 मार्च का अंक पढ़ने के लिये नीचे चित्र पर क्लिक करें

Untitled-1 copy

Tuesday, March 8, 2011

संस्कारों का बीजारोपण

8 मार्च महिला दिवस पर विशेष 
 75 की उम्र में भी सेवा का जज्बा
सीहोर। उम्र के जिस पड़ाव में आकर महिलाएं जब अपने घरों में कैद होकर जीवन व्यतीत करना चाहती है ऐसे में 75 वर्षीय  महिला आज भी समाज में संस्कारों के बीजारोपण कर खुशबू बिखेरने का कार्य कर रही है।
स्थानीय स्वामी विवेकानंद कालोनी इंग्लिशपुरा निवासी सुश्री लक्ष्मी वर्मा स्थानीय महारानी लक्ष्मी बाई कन्या स्कूल से भूगोल की व्याख्याता के रुप में वर्ष 1996 को सेवानिवृत हुई है, तब से लेकर आज तक उन्होंने केवल विद्यालय जाना छोड़ा है पर बच्चों को पढ़ाना नहीं छोड़ा है, आज के आपाधापी भरे युग में जब शिक्षक भी पैसे के लिए दौड़ता हुआ नजर आने लगा है ऐसे में सुश्री वर्मा द्वारा नि:शुल्क बच्चों को अपने घर पर पढ़ाया जा रहा है। यहीं नहीं उनके द्वारा गायत्री परिवार के माध्यम से विभिन्न मोहल्लों में जाकर बच्चों में संस्कार के बीज भी बोए जा रहे है, उन्हें धर्म से जोड़कर मानसिक शांति और आध्यात्मिक उन्नति के लिए गायत्री मंत्र सिखाए जा रहे है। सुश्री वर्मा द्वारा बच्चों के साथ-साथ विभिन्न स्कूलों तथा कालेजों तथा पुस्तकालय में अखंड ज्योति और युग निर्माण पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। यहीं नहीं उनके द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में रहने वाली महिलाओं को अपने खर्च पर हरिद्वार दर्शन कराया जाता रहा है। उनका कहना है कि वे वर्ष 1980 से गायत्री परिवार से जुड़ी है आचार्य श्रीराम शर्मा द्वारा समाज के हित में किए जाने वाले कार्यों से प्रेरित होकर अपना जीवन समाज को समर्पित करने का निर्णय लिया है। हम सभी के द्वारा समय दिए जाने पर ही समाज प्र्रगति पथ पर बढ़ेगा।

Monday, March 7, 2011

होली पर रहेगी चायना की पिचकारियों की धूम

रंग तथा पिचकारियों पर भी मंहगाई की मार, दस से बीस प्रतिशत की तेजी
सीहोर।  होली की तैयारियां करने में व्यपारी वर्ग जुटा हुआ नजर आ रहा है। इस साल होली पर भी मंहगाई का साया रहेगा। बाजार में दुकानदारों द्वारा दिल्ली, इंदौर से माल का स्टॉक करने का सिलसिला शुरू कर दिया गया है। अभी थोक दुकान दुकानदारों द्वारा स्टॉक किया जा रहा है। गत साल की तुलना में इस साल रंग और पिचकारी के भाव में करीब दस से बीस प्रतिशत की तेजी बताई जा रही है। मार्केट में इस बार भी चायना  की पिचकारी की धूम रहेगी बाजार में पांच रुपए से लेकर दो सौ रुपए तक की पिचकारी उपलब्ध रहेगी। दादा जी की छड़ी र्भी...सीहोर। इस बार होली पर दादा जी की छड़ी भी अपना कमाल दिखाने में कोई कोर कसर बाकी नहीं रखेगी। बाजार में दादा जी की छड़ी से भी रंग निकलेगा, यह पिचकारी बच्चों को भाएगी। इसके अलावा पुराने जमाने की लकड़ी वाली बंदूक भी पिचकारी का रुप में बिकने के लिए बाजार में आ गई है। इस बार बांसुरी की पिचकारी भी बच्चों के लिए आर्कषण का केन्द्र बनेगी। सबसे मंहगी पिचकारी के रुप में चायना की पिचकारी पानी की बड़ी टंकी भी बच्चों को पसंद आने की संभावना दुकानदार व्यक्त कर रहे है। इसकी कीमत डेढ़ सौ से दौ सौ रुपए तक बताई जा रही है। आंखों से निकलेगा रंर्गसीहोर। इस बार होली पर लोगों को हाथों में रंग रखने की जरुरत नहीं है और आप यह समझ कर भी नहीं बच सकते कि आपके मित्र के हाथ खाली है, इस बार होली पर खास तौर से चायना का एक चश्मा आया है जो लगा तो आपके दोस्त की आंखों पर रहेगा और जैसे ही आपकी निगाह उसके चश्में पर गई कि आप हुए रंग से सरोबार, दरअसल चायना का यह चश्मा होली की पिचकारी है जिसको दबाने के लिए एक तार आपके दोस्त की जेब में होगा, जो आपकी निगाहे जब उसके चश्में पर होगी तो उसे दबा देगा और आप रंग से नहा जाएंगे। कई सालों के बाद आ रहा है मौका ...सीहोर। कई सालो के बाद होली पर यह मौका आ रहा है जब होली पर्व पर परीक्षाओं का भूत नहीं रहेगा। अभी तक देखा जाता रहा है कि विद्यार्थी वर्ग परीक्षाओं के भय के कारण होली के पावन पर्व को भी धूमधाम से नहीं मना पाता है या तो परीक्षा चल रही होती थी या होली के तुरंत बाद परीक्षा होनी होती थी जिससे न तो बच्चे होली का आनंद उठा पाते थे और न ही उनके अभिभावक उन्हें होली मनाने की इजाजत प्रदान किया करता था पर इस साल ऐसा नहीं होगा और होली को अपने पुराने रंग में दिखाई देने की  संभावना भी व्यक्त की जाने लगी है। इसके पीछे का मुख्य कारण है कि इस बार होली तक अधिकांश स्कूलों की परीक्षाएं समाप्त हो चुकी होगी और बच्चे पूरे फ्री होकर न केवल अपने दोस्तों को तर ब तर करेंगे बल्कि खुद तर ब तर होकर कई सालों का आनंद भी उठाएंगे। रंगों के पावन पर्व होली में अब पहले जैसा उत्साह नहीं रह गया है जिसके पीछे का मुख्य कारण यही माना जाता रहा है कि जब से होली पर्व के आसपास परीक्षा का तनाव सिर पर सवार होना शुरू हुआ है जिससे बच्चे तो बच्चे बल्कि उनके अभिभावक भी होली से दूर होते जा रहे है। चूंकि इस साल ऐसी कोई सी भी स्थिति नहीं है पर परीक्षा समाप्त होने के बाद ही होली का त्यौहार है तो माना जा रहा है कि होली भी अपने पुराने रंग में रंगी हुई नजर आएगी।

Sunday, March 6, 2011

संतो की भी गणना हुई

सीहोर -  अल्प प्रवास  पर सीहोर पहुंचे जैन मुनि श्री 108  अरुण  सागर  ,प्रयोग  सागर  की गणना की गई । नगर पालिका के अमले द्वारा  कस्बा स्थित  चन्द्र प्रभु  दिंगबर जैन  मंदिर  आए जैन मुनि  की जन गणना की गई । मुनि  श्री ने प्रगणक से कहा कि हम संत लोग है  हम आम आदमियों में  शुमार नहंी है और नहीं हमारा घर बार या स्थाई  पता है । हमारी गणना नही होना चाहिए । हम तो वोट भी नही डालते  है ओर नहीं हमारे वोटर आई डी बना  हुआ है ।  इस पर सीएमओ दीपक देवगढ़े ने उन्हें बताया कि जनगणना देश में  प्रत्येक व्यक्ति  की होना हे आप  इसमें  सहयोग दीजिए  सब जैन मुनि ने जनगणना की स्वीकृति दी व संपूर्ण  जानकारी दी ।


 

स्वागत किया

 सीहोर । कांगे्स द्वारा नसरूल्लागंज  में आयोजित धरना कार्यक्रम में शामिल  होने जा रहे  संसद सज्जन सिंह वर्मा का सीहोर पहुंचने पर कागे्रसियों  द्वारा भव्य  स्वागत  किया गया ।  भूरा  यादव  के नेतृत्व  में आयोजित  इस स्वागत  कार्यक्रम  में सुरेश   साबू ,राजेन्द्र शर्मा (कल्लू)  सुश्री  रुक्माणि  रोहिला ,राजाराम (बड़े भाई) हरीष  राठौर  ,जलज छोकर ,राजा प्रजापति  ,कैलाश यादव ,अशोक गौतम ,रामजी राम ,उमेश सोलंकी कमलेश यादव ,चिंकी  ठाकुर ,और सतीश गुप्ता  सहित अनेक लोग उपास्थित  थे ।  कार्यक्रम  के बाद सुरेश साबू सहित अनेक कांग्रेस कार्यकत्र्ता  श्री वर्मा  के साथ धरना  स्थल  के लिए रवाना हुए ।

Friday, March 4, 2011

निर्माण के बाद मरम्मत भी उलझी संदेह के दायरे में

 जल संसाधन विभाग का कमाल 65 लाख में निर्माण, 39 लाख में मरम्मत 
सीहोर। मुख्यमंत्री के क्षेत्र में उनकी घोषणा के कार्य में लापरवाही का मामला प्रकाश में आया है। जलसंसाधन विभाग द्वारा तैयार कराए गए करीब 65 लाख की लागत के बैराज का एक साल में क्षति ग्रस्त होने के बाद उसकी मरम्मत पर खर्च किए जा रहे करीब 39 लाख के कार्य से भी असंतोष बना हुआ नजर आ रहा है। प्राप्त जानकारी अनुसार जलसंसाधन विभाग द्वारा मुख्यमंत्री के क्षेत्र नसरुल्लागंज के ग्राम लोधाबढ़ में उनकी घोषणा के अनुरुप करीब 65 लाख रुपए की लागत से एक बैराज तैयार कराया गया था। बताया जाता है कि विभाग के आला अधिकारियों ने सीएम के क्षेत्र में इतनी बड़ी राशि के चल रहे कार्य के दौरान भी जागरुकता नहीं बरती गई जिसका नतीजा यह रहा कि निर्माण के एक साल के भीतर ही उपरोक्त बैराज ग्रामीणों द्वारा की गई शंका के अनुसार किसी काम का नहीं रहा, एक बारिश झेलने में ही इस बैराज की विंगवाल क्षति ग्रस्त हो गई जबकि ऐप्रान भी टूट गया यहीं नहीं बैराज का गेटबाल भी क्षतिग्रस्त हो गया। चूंकि सीएम के क्षेत्र का मामला है तो ताबड़ तोड़ में इसकी मरम्मत का कार्य भी प्रारंभ कराया गया है।
विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार इसकी मरम्मत के लिए करीब 38.98 लाख रुपए की राशि राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के अंर्तगत जिला पंचायत के माध्यम से स्वीकृत कराई जाकर कार्य प्रारंभ किया गया है। बताया जाता है कि ग्रामीण बैराज पर कराए जा रहे मरम्मत कार्य से संतुष्ट नहीं है। 
जांच में क्यों दिया गया अभय दान
सीहोर। सीएम के क्षेत्र में इतनी बड़ी राशि के बैराज में लापरवाही बरती जाना आश्चर्य का विषय बना हुआ है। लोगों का कहना है कि जब जल संसाधन विभाग सीएम के क्षेत्र में चलने वाले कार्यों में इस प्रकार लापरवाही बरत रहा है तो जिले के अन्य क्षेत्रों में होने वाले कार्यों की स्थिति कितनी विकट होगी इसकी कल्पना सहज ही की जा सकती है। विभागीय सूत्रों के अनुसार इस बैराज में गड़बड़ी हो जाने के बाद जांच भी की गई थी पर उसमें भी प्रमुख दोषियों को अभय दान दे दिया गया था। ग्रामीणों में ही नहीं पूरे जलसंसाधन विभाग में अभयदान की चर्चा जोरों पर है।

Thursday, March 3, 2011

व्यापारी के हत्यारे भी भूमिगत

सीहोर। कोतवाली पुलिस ईशान शर्मा के हत्यारों को तो खोज पाने में असफल रही है पर बस स्टैंड क्षेत्र में हुई व्यापारी की हत्या करने वालों का सुराग नहीं लगा सकी है। स्थानीय न्यू बस स्टैंड क्षेत्र में बेल्डिंग का कार्य करने वाले नारायण प्रसाद की हत्या पिछले सप्ताह उसकी दुकान पर ही कर दी गई थी। हत्या करने वाले फिल्मी अंदाज में अपने कार्य को अंजाम देकर रफूचक्कर हो गए। प्रथम दृष्टया ही यह हत्या का मामला है पर अभी तक हत्या करने वालों का सुराग नहीं लग पाना आश्र्चय का विषय बना हुआ है, परिजन हत्या के कारणों की भी खोज में है। 
सीहोर में भी मिलेंगे गौ उत्पाद 
सीहोर। गौ उत्पाद का उपयोग करने के इच्छुक लोगों को अब भोपाल या किसी अन्य शहर जाने की जरुरत नहीं पड़ेगी, सीहोर में पहली बार विशुद्ध रुप से गौ उत्पाद की दुकान प्रारंभ होने जा रही है। स्थानीय इंग्लिशपुरा क्षेत्र में प्रारंभ होने जा रही इस दुकान में गौ मूत्र अर्क, साबुन, हवन सामग्री आदि के साथ साथ विभिन्न हर्बल उत्पाद मिलेंगे। गौ संरक्षण की दिशा में विश्व हिन्दू परिषद द्वारा गौ उत्पादों की श्रृंखला तैयार की गई है जिसका शुभारंभ शीघ्र होने जा रहा है। इसके लिए जयप्रकाश तिवारी से 9407259520 संपर्क किया जा सकता है। 
वीआरएस लेने की होड़ जारी 
सीहोर। बिजली विभाग से कर्मचारियों का मोहभंग लगातार जारी बना हुआ है। पिछले पखवाड़े में दो दर्जन से भी अधिक कर्मचारियों ने स्वेच्छिक सेवा निवृति के आवेदन पत्र मध्यप्रदेश विद्युत वितरण कंपनी के कार्यपालन यंत्री कार्यालय में जमा कराए गए है। ऐसा माना जा रहा था कि इस तरह से वीआरएस लेने वाले कर्मचारियों की संख्या आगे नहीं बढ़ेगी पर इस सप्ताह में ही आधा दर्जन से भी अधिक लोग वीआरएस के आवेदन जमा करा चुके है। बिजली विभाग से फिलहाल लाइन स्टाफ का मोह सबसे अधिक भंग हो रहा है।

Wednesday, March 2, 2011

2 मार्च 2011 का सीहोर एक्‍सप्रेस का अंक पढ़ने के लिये नीचे चित्र पर क्लिक करें

2 मार्च 2011 का सीहोर एक्‍सप्रेस का अंक पढ़ने के लिये नीचे चित्र पर क्लिक करें Untitled-1 copy

सीहोर का शरबती गेहूँ धारावाहिक उतरन में




सीहोर. सीहोर का शरबती गेहूँ यूँ तो पूरे देश में सीहोर को पहचान दिलाये हुए है लेकिन अब धारावाहिकों में भी सीहोर के शरबती गेहूँ के दर्शन हो रहे हैं । कलर टीवी के प्रसिद्ध धारावाहिक उतरन में 28 फरवरी के एपीसोड में सीहोर के शरबती को देखा गया । शरबती इस रूप में देखा गया कि धारावाहिक में नायिका तपस्या एक सीन में रात के समय घर के बाहर फँस जाती है तथा अंदर कोई भी उसकी आवाज़ सुनकर दरवाजा नहीं खोलता है,  परेशानी की हालत में वह वहीं पड़े हुई एक बोरी को बिछा कर तथा दूसरी को ओढ़ कर सोती है । जब नायिका उस बोरी को ओढ़ती है तो काफी देर तक उस बोरी पर कैमरा रुका रहता है । बोरी पर लिखा हुआ होता है सीहोर का प्रसिद्ध शरबती गेहूँ, डबल डॉलर ब्राँड सीहोर म.प्र. । कैमरा काफी देर तक उस बोरी पर रुका रहा मानो उस ब्राँड का प्रचार कर रहा हो । जो भी कारण हो लेकिन इस बहाने ये तो तय हो ही गया कि देश भर में सीहोर के शरबती गेहूँ की धूम है और लोग सीहोर को उस नाम से जानते हैं ।

बेघरों और घुमक्कड़ जातियों के जनगणना

सीहोर। जनगणना के चार्ज अधिकारी एवं नगर पालिका के मुख्य अधिकारी दीपक देवगड़े के साथ नगर पालिका की जनगणना टीम ने बेघरों एवं घुमक्कड़ जातियों के परिवार की रात एक बजे तक गणना की। गणना के लिए टीम के सदस्य बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, टाउन हाल के पास, वैशाली नगर सहित अस्पताल परिसर व खुले मैदानों जहां ऐसे लोगों के डेरे जमा होते है में घूम-घूमकर जनगणना की। इस संबंध में चार्ज अधिकारी श्री देवगड़े ने जानकारी देते हुए बताया कि गणना के दौरान राजस्थान, पथरिया, महाराष्ट्र सहित अनेक प्रांतों के लोगों की गणना की गई।

दान करने में संकोच नही करना चाहिए-बाल संत छोटे मुरारी बापू

धूमधाम से किया भगवान श्रीराम का राज्याभिषेक
सीहोर। मंगलवार को कथा के अंतिम दिन राम का राज्याभिषेक किया गया। भगवान राम के राज्याभिषेक के दौरान उपस्थित श्रद्धालु भाव-विभोर होकर नृत्य करने लगे। इस अवसर पर उपस्थित श्रद्धालुओं को प्रवचन देते बाल संत छोटे मुरारी बापू ने कहा कि दरिद्रता की शंका से मूर्ख व्यक्ति दान-पुण्य करने में संकोच करते हैं,। जबकि प्राज्ञ तो अनेक जन्मों के सुख स्वरूप फल प्राप्ति के लिए दान देने में हिचकिचाते नहीं है। जो व्यक्ति दान देने में सक्षम होने के बाद भी दान नहीं करता है वह अतपस्वी व दरिद्र कहलाता है। स्कन्द पुराण में ऐसे व्यक्ति को महा पापी बता कर कहा गया है कि ऐसे व्यक्ति को एक बड़ी शिला बांध कर जल में छोड़ देना चाहिए। जब तक मानव दान करना नहीं सीखता तब तक उसके हृदय रूपी घर में अंधकार है उसे दानरूपी दीपक बिना नहीं निकाला जा सकता है, क्योंकि जब तक हाथ में दीपक नहीं है तक तक उसके घर में रखा धन भी नहीं दिखाई देता है। श्रीराम कथा के बाद भगवान राम की आरती उतारकर श्रद्धालुओं को प्रसाद वितरित किया गया। नगर के सिंधी कालोनी में आयोजित नौ दिवसीय दिव्य संगीतमय श्रीराम कथा के अंतिम दिवस बाल संत श्री छोटे मुरारी बापू ने कहा कि मानव जीवन अनमोल आज का मनुष्य भौतिकता में इतना लिप्त हो गया है कि वह अपना मानव जीवन व्यर्थ खो रहा है। मूल लक्ष्य से भटक कर भौतिकता की चकाचौंध में गुम हो गया है। मनुष्य ने भागदौड़ करके भले की भौतिक सुख के साधन जुटा लिए पर आत्मिक सुख शांति के दूर होता जा रहा है। उन्होंने कहा कि मानसिक अशांति का मुख्य कारण मनुष्य का आध्यात्मिक रुप से जागृत नहीं होना है। भक्ति के बिना जीव का कल्याण संभव नहीं है। जो इंसान प्रभु भक्ति में रंगे होते है उनके जीवन में सादगी, सच्चाई और मन में निर्मलता स्वयं आ जाती है। गुरु के द्वारा ब्रह्मïज्ञान की प्राप्त करके ही यह मन स्थिर होता है फिर इंसान जीवन में आने वाले प्रत्येक उतार चढाव को सहज स्वीकार कर लेता है व प्रभु इच्छा समझकर विचलित नहीं होता। संत श्री ने कहा कि रावण ने युद्ध के अंतिम चरणों के दौरान अपने भाई कुंभकरण को जागने का प्रयास किया। कुंभकरण नींद से जागने के पश्चात अपने भाई के पास गया। इस अवसर पर कुंभकरण ने अपने भाई रावण से कहा कि मुझे कोई उठाया है। तब रावण ने कहा कि में सीता का हरण कर के लाया हूं। तब उनके भाई कुंभकरण ने कहा कि रावण तू महामूर्ख है तूने साक्षात जगत माता का हरण किया है। तुझे अब कोई नही बचा सकता। लोगों के लाख समझाने और उपाय बताने के बाद भी रावण ने किसी की नही सूनी और अंत में भगवान श्रीराम के हाथों उसका वध हो गया। कथा के अंत में महाप्रसादी का वितरण किया गया।

Tuesday, March 1, 2011

भगवान श्रीराम का राज्याभिषेक महोत्सव आज


बालि का वध कर श्रीराम ने मित्रता का संदेश दिया
सीहोर। राम की जंगल में अपने भाई किष्किंधापतिबालि के अत्याचार के शिकार सुग्रीव से मित्रता हुई। राम ने सुग्रीव को उसके भाई बालि से मुक्ति दिलाने तथा सुग्रीव ने सीता माता की खोज में उनका सहयोग करने का वचन दिया। बालि वध का भेद जान श्रीराम ने छिपकर तीर चलाकर बालि का वध किया। सिंधी कालोनी ग्राउंड पर जारी दिव्य संगीतमय श्रीराम कथा के आठवें दिन पूज्य बाल संत श्री छोटे मुरारी बापू ने भगवान श्रीराम और सुग्रीव के बारे में वर्णन किया। मंगलवार को कथा के अंतिम दिन दिव्य संगीतमय कथा में भगवान श्रीराम का राज्याभिषेक किया जाएगा।
सोमवार को दिव्य संगीतमय श्रीराम कथा में मानस प्रवचन करते हुए पूज्य बाल संत श्री छोटे मुरारी बापू ने कहा कि सुग्रीव के पास जा कर हनुमान ने दोनों भाइयों का परिचय कराते हुये कहा, वानराधिपति। अयोध्या के महाराज दशरथ के ज्येष्ठ पुत्र श्री रामचन्द्र जी अपने अनुज लक्ष्मण जी के साथ आप ही के दर्शनों के लिये पधारे हैं। जब ये पंचवटी में निवास करते थे तो इनकी पत्नी सीता जी को लंका का राजा रावण चुरा ले गया। ये उन्हीं को वन-वन में खोजते फिर रहे हैं। अब ये आपके पास मित्रता करने के लिये आये हैं। आपको इनकी मित्रता स्वीकार कर लेनी चाहिये क्योंकि ये बड़े गुणवान, पराक्रमी और धर्मात्मा हैं। इनकी मित्रता आपके लिये लाभदायक होगी। आप परस्पर एक दूसरे की सहायता कर सकते हैं।
मित्रता की शपथ ली
संत श्री ने आगे कहा कि हनुमान से उनका इस प्रकार परिचय पाकर सुग्रीव ने प्रसन्न हो कर कहा। श्रीराम आपके दर्शनों से मैं कृतार्थ हुआ। हम दोनों मिल कर परस्पर एक दूसरे का दु:ख दूर करने का प्रयास करेंगे।  हम दोनों अग्नि को साक्षी दे कर प्रतिज्ञा करें कि हम दु:ख-सुख में एक दूसरे की सहायता करेंगे। हमारी मैत्री अटूट रहेगी। सुग्रीव का संकेत पा कर हनुमान ने अग्नि प्रज्वलित की। राम और सुग्रीव ने अग्नि की साक्षी दे कर मैत्री की शपथ ली और दोनों बड़े प्रेम से एक दूसरे के गले मिले।
सुंदर कांड के बारे में जानकारी
पूज्य बाल संत श्री छोटे मुरारी बापू ने बड़ी संख्या में आए श्रद्धालुओं से सुंदर कांड की कथा सुनाते हुए बताया कि इस कांड का नाम सुंदर कांड क्यों है? इस कांड की पहली चौपाई है, जामवंत के वचन सुहाए। सुनि हनुमंत हृदय अति भाए। कहने का मतलब है। हनुमान जी की सेना में जामवंत सबसे बड़े बुजुर्ग है तो हनुमान जी ने अपने से बड़े बुजुर्ग जामवंत की बात को स्वीकार किया और उनकी सलाह पर चलने का निर्णय लिया। संत ने कहा कि जब हम अपने बड़े बुजुर्गों की बताए रास्ते पर चलते है तो हमें सफलता मिलती है। मंगलवार को दिव्य संगीतमय श्रीराम कथा के अंतिम दिन भगवान श्रीराम का राज्याभिषेक किया जाएगा।
राजधानी का नाम भोजपाल करने के निर्णय का स्वागत
सीहोर। प्रदेश की राजधानी भोपाल का नाम भोजपाल करने संबंधी घोषणा पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार को लाल परेड मैदान पर आयोजित राजा भोज सहत्राब्दि राज्यारोहण समारोह करने के निर्णय का भारतीय जनता पार्टी के नेताओं, पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया है। इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी के युवा नेता माखन परमार ने प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान के निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि कालजयी प्रतिभा के धनी एवं राष्टï्र निर्माता भोपाल के संस्थापक व परमार वंश महान दार्शनिक शासक राजाभोज की प्रतिमा का लोकार्पण करने पर परमार समाज ने हर्ष व्यक्त करते हुए आभार व्यक्त किया है। आभार व्यक्त करने वालों में लखन परमार एडवोकेट, नंदकिशोर परमार, राजकुमार पटेल, गजराज परमार, इमरत लाल परमार, प्रेमनारायण परमार, अर्जन परमार, देवी सिंह परमार, गौरेलाल परमार, अनोखी लाल परमार, विष्णु परमार, अमर सिंह परमार, संतोष परमार, राजेश परमार, विरेन्द्र परमार, सुरेन्द्र परमार, प्रमोद परमार, अनिल परमार, प्रहलाद सिंह परमार, भोजराज परमार, ऐलम परमार, जसवंत परमार आदि शामिल है।